UPSC Result 2021: हर परीक्षा में मां साथ थीं, वही मेरी ताकत -अहिंसा

Updated: | Sat, 25 Sep 2021 11:23 AM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। यूपीएससी की परीक्षा में शहर की अहिंसा जैन ने आल इंडिया 53वीं रैक हासिल की है। उनकी उपलब्धि से संस्कारधानी गौरांवित है। शाम को जैसे ही आनलाइन नतीते जारी हुए तो अहिंसा के परिवार में जश्न का मौहाल बन गया। अहिंसा फिलहाल इंडियन रेवेन्यु सर्विस के जरिए असिस्टेंट कमिश्नर की ट्रेनिंग के लिए नागपुर में है। उसने छठवें अवसर में यूपीएससी की परीक्षा में सफलता हासिल की। उन्होंने इस उपलब्धि का पूरा श्रेय अपनी मा अर्चना जैन को दिया। अहिंसा के मुताबिक लड़की को मानसिक रूप से मजबूत रखने में मा की भूमिका अहम है। लगातार जब एक के बाद एक असफलता मिलती है तो आपना मनोबल टूट जाता है। मेरे साथ ऐसा हुआ। चार बार प्रतियोगी परीक्षा में सफल नहीं हुई। पांचवी दफा इंडियन रेवेन्यु सर्विस में सफलता मिली। आयकर अधिकारी बनी। डेढ़ साल से प्रशिक्षण के लिए नागपुर में हूं। उनके मुताबिक मेरी हर परीक्षा और तैयारी के पीछे मेरी मा का बड़ा योगदान रहा। उन्होंने कहा कि परिवार तो मेरे साथ हमेशा रहा लेकिन मा ने जो ताकत दी उसी का नतीजा है कि आज मैं इस मुकाम पर पहुंच पाई।

अहिंसा जैन का घर आगा चौक के पास है। उनके पिता सुभाषचंद्र जैन पेशे से कपड़ा व्यापारी है। उनका बड़ा भाई पुने में साफ्टवेयर इंजीनियर है। उनके घर में कोई भी अभी तक सिविल सर्विस में नहीं है। अहिंसा जैन ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई जबलपुर इंजीनियरिंग कॉलेज से पूरी की है। वो वहां भी गोल्ड मेडलिस्ट थी। उनका स्कूल क्राइस्ट चर्च से किया है।

प्रशिक्षण से हुआ फायदा: आइआरएस में प्रशिक्षण के दौरान यूपीएससी परीक्षा की तैयारी के सवाल पर अहिंसा ने कहा कि उन्हें इससे परेशानी नहीं बल्कि फायदा हुआ। प्रशिक्षण में उन्हें व्यावहारिक ज्ञान मिला। उन्होंने यूपीएससी की प्री और मेंस परीक्षा को पहले ही क्लीयर कर लिया था। अब साक्षात्कार बाकी था। इसके लिए मेरी ट्रेनिंग फायदेमंद साबित हुई। बाकी के 3-4 घंटे पढ़ाई कर तैयारी कर लेती थी।

Posted By: Ravindra Suhane