आइसीएआर की रैकिंग में तीन पायदान ऊपर आया जबलपुर का वेटरनरी विश्वविद्यालय

Updated: | Sun, 05 Dec 2021 02:34 PM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आइसीएआर) ने देश के कृषि और वेटरनरी विश्वविद्यालय की रैंकिंग जारी की है। यह रैंकिंग कृषि और वेटरनरी विश्वविद्यालय की शिक्षा, अनुसंधान, प्रसार से लेकर वहां मौजूद सुविधा और अंधोसंरचना को परखने के बाद जारी की है, जिसमें इस बार प्रदेश के एक वेटरनरी और दो कृषि विश्वविद्यालय को शामिल किया है।

आइसीएआर की रैंकिंग में वेटरनरी विश्वविद्यालय पिछले साल की तुलना में तीन पायदान ऊपर आया है, वहीं जबलपुर कृषि विश्वविद्यालय और ग्वालियर कृषि विश्वविद्यालय की रैंकिंग बिगड़ी है। आइसीएआर ने यह रैंकिंग लिस्ट देश के 67 कृषि और वेटरनरी विश्वविद्यालय का निरीक्षण करने के बाद जारी की है।

प्रदेश के तीनों विवि में वेटरनरी प्रथम: नानाजी देशमुख पशुचिकित्सा विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर के कुलपति प्रो.एसपी तिवारी ने बताया कि आईसीएआर की टीम ने यहां पढ़ने वाले विद्यार्थियों को दी जा रही शिक्षा, यहां चल रहे अनुसंधान और इन्हें पशुपालकों तक पहुंचाने के कामों की समीक्षा की, जिसके बाद देश के 73 कृषि और वेटरनरी विश्वविद्यालय में से 44 वां स्थान हासिल किया, जबकि पिछले साल हमारा स्थान 47 था। इस बार तीन पायदान ऊपर आए हैं। प्रदेश में एक वेटरनरी और दो कृषि विवि हैं, जिसमें वेटनरी पहले स्थान पर रखा। वहीं देश के वेटरनरी विवि के 18 में से जबलपुर वेटरनरी विवि का सातवां स्थान है।

फैकल्टी की कमी के नंबर नहीं: जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय की रैकिंग पिछड़ने की वजह फैकल्टी की कमी होना मुख्य रही है। दरअसल आईसीएआर, विवि में पढ़ने वाले विद्यार्थियों की तुलना में वहां पढ़ाने वाले फैकल्टी की संख्या पर ज्यादा गौर करता है, लेकिन हकीकत यह है कि कृषि विवि जबलपुर पिछले कई सालों से फैकल्टी की कमी से जूझ रहा है। विवि में लगभग 350 से ज्यादा प्रोफेसर्स की कमी है। विवि के कुलपति प्रो; प्रदीप बिसेन ने बताया कि वर्तमान में विवि में कई ऐसे विभाग हैं, जहां फैकल्टी की कमी से बंद करने तक की नौबत आ गई है। यही स्थिति कृषि इंजीनियरिंग कॉलेज की है। यहां 98 प्रोफेसर थे आज सिर्फ आठ ही बचे हैं।

रैंकिंग

-वेटरनरी विश्वविद्यालय 44 वां स्थान

- जनेकृविवि 47 वां स्थान

- ग्वालियर कृषि विवि 48 वां

Posted By: Ravindra Suhane