veterinary university: विवि में प्रोफेसर की भर्ती का रास्ता साफ, दो गुना हुआ मेडिकल भत्ता

Updated: | Sat, 25 Sep 2021 08:30 AM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। वेटरनरी विश्वविद्यालय की बोर्ड बैठक में प्रोफेसर से लेकर कर्मचारी और विद्यार्थियों से जुड़े कई मुद्दों पर सहमति बनी। गुरुवार को विवि में आयोजित बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। इन दौरान बोर्ड के निर्णय लिया है कि विवि से पिछले पांच से छह साल से गायब कर्मचारियों को तय नियमों का पालन करते हुए नौकरी को निष्कासित किया। विवि में प्रोफेसर्स की कमी दूर करने का रास्ता भी साफ हो गया है। विवि के तकनीकी पदों में भर्ती प्रक्रिया के लिए बनाए गए रोस्टर और स्कोर कार्ड पर भी बोर्ड ने अपनी मोहर लगा दी है। इसके साथ ही तकनीकी-नान तकनीकी कर्मचारियों के मेडिकल भत्ते को एक हजार से बढ़ाकर दो हजार कर दिया गया है।

निजी डिप्लोमा कालेज खोले जाएंगे : बोर्ड बैठक में निर्णय लिया गया कि प्रदेश में फिशरी, वेटरनरी और डेरी के डिप्लोमा कालेजों को खोला जाएगा। इस प्रस्ताव पर भी बोर्ड ने अपनी हरी झंड़ी दे दी है। जल्द ही विवि के तीनों कालेजों में सर्टिफिकेट कोर्स शुरू किए जाएंगे, जो तीन से छह माह के होंगे। इसमें प्रवेश प्रक्रिया तय नियमावली से होगी। बैठक के दौरान विवि के बजट पर भी स्वीकृति मिल गई है। इसके अलावा बैठक में 20 से ज्यादा मुद्दों को रखा गया था, जिसमें से सभी पर सहमति बन गई। बैठक में विवि के कुलपति प्रो.एसपी तिवारी, वीसीआई अध्यक्ष उमेश शर्मा के अलावा डॉ. आरके मेहिया, राधा मिश्रा, मोहन नागर, डॉ.एसपी दुबे, डॉ.एपी गौतम, शशि प्रबा, कुलसचिव श्रीकांत जोशी, डा. आरपीएस बघेल, डा.सुनील नायक, डॉ.एपी सिंह, अजय सिंह ठाकुर, एके सिंह आदि मौजूद रहे।

पंचगव्य यूनिट, मिनरल मिक्स का शुभारंभ : इस अवसर पर वेटरनरी कौंसिल आफ इंडिया के अध्यक्ष डा. उमेश शर्मा, कुलपति प्रो. तिवारी और बोर्ड के सदस्यों ने विवि प्रागंण में पंचगव्य यूनिट और मिनरल मिक्स यूनिट का शुभारंभ किया। इस दौरान सभी ने इन यूनिटों का निरीक्षण कर यहां पर तैयार किए जा रहे उत्पादों को देखा। इसके बाद फिशरी, मुर्गी पालन यूनिट भी पहुंचे। कुलपति ने बताया कि दोनों यूनिट के प्रारंभ होने के बाद हम यहां पर तैयार उत्‍पादों को जल्द ही बाजार में कम दामों पर उतारेंगे।

Posted By: Ravindra Suhane