कर्मचारी जगत: कर्मचारियों को गाइडलाइन का दे रहे हवाला, नेता उड़ा रहे धज्जियां

Updated: | Mon, 26 Jul 2021 10:24 AM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। महंगाई भत्ता सहित अन्य मांगाें को लेकर मध्यप्रदेश अधिकारी कर्मचारी संयुक्त मोर्चा द्वारा कर्मचारी हितों किए जा रहे प्रदर्शन को कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करार देकर की जा रही कार्रवाई का मध्यप्रदेश तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ ने विरोध किया है।

संघ के प्रांतीय महामंत्री योगेंद्र दुबे ने जारी बयान में बताया कि मोर्चा अपनी मांगों को लेकर तीन चरणों में आंदोलन कर रहा है। जिसकी विधिवत सूचना मुख्यमंत्री को दी गई है। बावजूद इसके कलेक्टर को पत्र जारी कर उक्त आंदोलन को नियम विरुद्ध बताते हुए कार्रवाई करने के निर्देश जारी किए गए हैं। जबकि जनप्रतिनिधियोें के नगर आगमन पर उनके समर्थकों की भीड़ जब कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करती है तो यह शासन को नजर नहीं आ रहा। गाइडलाइन को लेकर यह दोहरा मापदंड शासन की दोहरी मानसिकता को दर्शाता है। संघ के अर्वेंद्र राजपूत, अवधेश तिवारी, अटल उपाध्याय, नरेन्द्र दुबे, मुकेश सिंह, आलोक अग्निहोत्री , दुगेश पाण्डेय, मुन्नालाल पटेल, गोविन्द बिल्थरे, चन्दु जाउलकर आदि ने कर्मचारी विरुद्ध आदेश तत्काल निरस्त करने की मांग की है ।

मोर्चा के मुख्यमंत्री के नाम विधायक को सौंपा ज्ञापन: मध्यप्रदेश अधिकारी कर्मचारी संयुक्त मोर्चा ने केंद्रीय कर्मचारियों की तर्ज पर महंगाई भत्ता, दो वेतन वृद्धियां सहित अन्य मांगाें को लेकर आंदोलन के चरण में रविवार को पनागर विधानसभा क्षेत्र के विधायक सुशील तिवारी इंदू को ज्ञापन सौंपा। मोर्चा के जिला अध्यक्ष अटल उपाध्याय ने जारी बयान में बताया कि ज्ञापन के माध्यम से मांगाें को जल्द पूरा कराने कहा गया। उन्होंने मांग पत्र मुख्यमंत्री की ओर प्रेषित कर व्यक्तिगत रूप से मांगों पर सार्थक आदेश करवाने का आश्वासन दिया है। इस अवसर पर मोर्चा के संरक्षक योगेन्द्र दुबे , उपाध्याय, योगेश चौधरी, अजय दुबे, रविकांत दहायत, प्रशांत सोंधिया, योगेश उपाध्याय ,संजय गुजराल, विश्वदीप पटेरिया, मुकेश चतुर्वेदी,संतोष मिश्रा ,नरेश शुक्ला, अजय गौतम, राजेन्द्र त्रिपाठी, योगेन्द्र मिश्रा, धीरेंद्र सिंह ठाकुर, मुकेश सिंह आदि मौजूद रहे।

Posted By: Ravindra Suhane