HamburgerMenuButton

आओ रोपें अच्छे पौधे : सात साल में बन गया मातानुवन

Updated: | Tue, 22 Jun 2021 09:46 AM (IST)

मयंक बाफना, बामनिया (झाबुआ), Aao Rope Acche Paudhe। जब इरादे मजबूत हों तो पत्थर में भी फूल उगाए जा सकते हैं। इस कहावत को गांव छायन के ग्रामीणों ने सिद्ध कर दिखाया है। छायन पश्चिम के ग्रामीणों ने सात वर्षों तक श्रमदान कर करीब 17 बीघा बंजर पथरीली भूमि को हरा-भरा बना दिया है। इस उपवन को ग्रामीणों ने नाम दिया मातानुवन। वर्ष में एक बार ग्रामीण यहां हलमा (निस्वार्थ भाव से सामूहिक श्रमदान) करते हैं, जिसमें गांव के प्रत्येक घर से एक व्यक्ति आकर पर्यावरण को सहेजने में सहयोग करता है। पर्यावरण को सहेजने की दृष्टि से ग्रामीणों ने पथरीली भूमि के कायाकल्प का संकल्प लिया। इसका फल अब देखने को मिला रहा है। गांव के सूरसिंह मीणा ने बताया कि पर्यावरण दिवस पर बांस के करीब 100 पौधे लगाए गए थे। अब नईदुनिया की मुहिम से जुड़कर बरगद और अन्य 500 पौधे रोपेंगे।

ऐसे हुई थी शुरुआत : ग्रामीणों ने सिद्धि विनायक मंदिर के आसपास की जगह चुनी, जो बंजर और पथरीली थी। इस पर पौधे लगाने की शुरुआत हुई। ग्रामीणों ने यहां सागौन, नीबू, शीशम, जामुन, सेवन, जंगल, बांस आदि के पौधे रोपे। वर्षाकाल में जैसी हरियाली होती है, वैसी ही यहां भीषण गर्मी में देखने को मिल रही है।

पानी की व्यवस्था की : गर्मी में पानी की कोई व्यवस्था यहां नहीं थी। ऐसे में ग्रामीणों ने निर्णय लिया कि लाड़की डैम से पानी लाकर पौधों को सींचा जाएगा। सभी ने जनसहयोग से पानी की मोटर डैम पर लगाई और पाइप लाइन डालकर भीषण गर्मी में भी मेहनत और श्रम करते हुए पौधों को पानी पिलाया। पौधे बढ़ने के साथ ही बंजर भूमि में जान नजर आने लगी। सालभर में एक बार ग्रामीण यहां पूजा भी करते हैं।

असंभव से नजर आने वाले इस कार्य को अंजाम तक पहुंचाने में सामाजिक संस्था शिवगंगा के महेश शर्मा, ग्राम के रामचंद्र वसूनिया, सूरसिंह मीणा, पप्पू परमार, रमेश वसूनिया, सवजी वसूनिया, प्रकाश मखोड़िया, सुखराम बिलवाल, शंभू डामार, भंवरसिंह भयदिया, राजाराम कटारा, रतन डामर, शंकर डामार, भेरू डामर, निलेश मुणिया, हरेसिंग डामर सहित ग्रामवासियों का सहयोग रहा।

Posted By: Prashant Pandey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.