HamburgerMenuButton

Katni News : बारिश में भीगा गेहूं, लाखों का नुकसान, केंद्रों में तौल में भी घालमेल

Updated: | Wed, 12 May 2021 07:34 PM (IST)

कटनी, नईदुनिया प्रतिनिधि। पिछले कई दिनों से मौसम लगातार बदल रहा है। कभी तेज धूप निकल रही तो कभी बादल छा रहे है। पिछले दिनों मौसम में अचानक बदलाव से बारिश और तेज आंधी के चलते लोगों का काफी नुकसान हुआ था। बुधवार की सुबह भी करीब 3 बजे विजयराघवगढ में जोरदार बारिश हुई, जिसमें खुले आसमान के नीचे रखा हजारों क्विंटल गेहूं पानी में भीग गया। केंद्र में किसानों के गेहूं रखने के लिए कोई व्यवस्था नहीं है। खुले में किसान अपना गेहूं रखने मजबूर रहता है। सुबह हुई बारिश से ज्यादातर किसानों का गेहूं गीला हो गया, वहीं केंद्र में परिवहन के अभाव में रखा शासन का गेहूं भी पूरी तरह भीग गया है।अब इसी गेहूं का परिवहन किया जा रहा है। यही हाल खरीदी केंद्र सिंगौडी, ग्राम टीकर सहित विजयराघवगढ में आने लगभग सभी केंद्रों का यही हाल है। किसान बताते है कि पिछले कई दिनों से रूक रूक बारिश होती रहती है। लेकिन केंद्र में किसान के आनाज रखने के लिए किसी तरह व्यवस्था की नाम की चीज नहीं हैं। किसान मजबूरन आपने उपज का नुकसान सहता रहता है।

किसानों द्वारा शिकायत करने पर रोक देते तुलाई: केंद्र में होने वाली गडबड़ी के खिलाफ कोई भी किसान आवाज उठाने से डरता है। शिकायती लहजे में बातचीत करने पर केंद्र प्रभारी सीधे धमकी भरे शब्दों किसानों को कहते नजर आते है कि ज्यादा नियम कायदा बताया तो केंद्र में तेरी तुलाई नहीं होने दूंगा। इसलिए किसान भी खुलकर कुछ भी कहने डरते है। दबी जुबां में किसान अपनी परेशानी बताकर केंद्र प्रभारियों की लगातार गलतियां गिनाते है।

जिले के सभी केंद्रों में तौल में हो रहा घालमेल: केंद्रों में सबसे बडी समस्या किसानों को तौल कराने में जा रही है। केंद्रों में सरकारी नियम के उलट नियम बना लिए गए हैं। तौल 50.500 किलो की होनी चाहिए लेकिन केंद्रों में 51.200 और 51. 500 तक की तौल कराई जा रही है। जिससे किसानों को क्विंटल डेढ से दो किलों गेहूं ज्यादा देना पड रहा है। किसानों के कुछ कहने पर सर्वेयर द्वारा गेहूं खोट निकालकर किसानों की तौल रोक दी जा रही है। तौलाई में घालमेल जिले के सभी केंद्रों में हो रहा है। लेकिन किसान मजबूरन प्रभारियों के दबाव में तौल कराने मजबूर है। तौल में खेल तो हो ही रहा है। साथ में प्राकृतिक आपदा किसान परेशान है।

Posted By: Sunil Dahiya
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.