खंडवा में पत्थरबाजी के आरोपित का मकान तोड़ा, प्रशासन की सख्ती

Updated: | Wed, 01 Dec 2021 09:07 AM (IST)

खंडवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पथराव कर आगजनी करने वाले चार बदमाशों के चिहिंत अवैध निर्माण और एक मकान को तोड़ने की जिला प्रशासन द्वारा कार्रवाई की गई। निगमकर्मियों ने कहीं पर हथोड़े चलाकर तो कहीं पर जेसीबी मशीन से अवैध निर्माणों को तोड़ा गया। अवैध निर्माण को लेकर जिला प्रशासन ने मकानों पर नोटिस चस्पा कर 48 घंटे का समय दिया था। समयावधि पूरी होने पर प्रशासन की टीम पहुंचने से क्षेत्र में ह़ड़कंप मच गया। चिहिंत मकानों को जमींदोज करने की आशंका के चलते प्रभावित परिवार विरोध जताकर कार्रवाई रोकने का प्रयास करने लगें। प्रशासन ने सख्ती दिखाते हुए कार्रवाई शुरू की लेकिन मात्र एक मकान को जमींदोज करने के बाद कार्रवाई अवैध निर्माण तोड़ने तक समिट कर रह गई।

मंगलवार सुबह भारी पुलिस बल के साथ अधिकारियों ने घासपुरा क्षेत्र में पहुंच कर चार स्थानों पर कार्रवाई कर बदमाशों के अवैध निर्माण हटाए गए। प्रभावित परिवारों की महिलाओं ने हंगामा मचा कर कार्रवाई रोकने का प्रयास किया लेकिन प्रशासन की सख्ती के आगे उनकी एक नहीं चली। एसडीएम अरविंद चौहान, नगर पुलिस अधीक्षक ललित गठरे, नगर निगम उपायुक्त प्रदीप जैन और कोतवाली थाना प्रभारी बलजीत सिंह बिसेन सहित भारी पुलिसकर्मियों की मौजूदगी में अवैध निर्माण तोड़े गए।

भगतसिंह चौक पर पथराव का आगजनी करने वालों को सबक सिखाने के लिए जिला प्रशासन ने आरोपितों के अवैध निर्माणों पर कार्रवाई की। दोपहर करीब एक बजे भारी पुलिस बल के साथ राजस्व, नगर निगम और पुलिस अधिकारी टीम के साथ कार्रवाई करने के लिए घासपुरा पहुंचे। यहां नगर निगम निगम द्वारा गली के सिरे पर करीब 100 वर्गमीटर में बने खालिक पुत्र रफीक टाऊ के मकान को तोड़ा गया। कार्रवाई से पहले जेसीबी मशीन से कबाड़ में रखे टायर और अन्य सामान हटाया। इस दौरान अवैध निर्माण में बांधी हुई बकरियों को भी खुलवाकर बाहर करवाया। यहां मौजूद एक युवक कार्रवाई के विरोध में नाराजगी जताने लगा लेकिन पुलिस की सख्ती को देखते हुए वह खामोश हो गया। जेसीबी मशीन की मदद से निगमकर्मी ने अवैध रूप से बनाए गए दो कमरों को तोड़ दिया गया।

इस दौरान आदतन बदमाश रफीक टाऊ के घर तरफ जेसीबी मशीन बढ़ने पर महिलाओं ने कार्रवाई का विरोध शुरू कर दिया। उनके विरोध को देखते हुए एसआई परिणिता बेलेकर और अन्य महिला पुलिसकर्मी भी आ गए। उन्होने हंगामा कर रही युवती को पहले तो समझाइश दी। इसके बाद भी जब उसका हंगामा बंद नहीं हुआ तो उसे पकड़कर एक तरफ कर दिया गया। हालांकि जिला प्रशासन ने रफीक टाऊ के मकान को जस की तस छोड़ दिया है। बताया जाता है कि कच्चे मकानों के बीच बने इस मकान को तोड़ने से आसपास के मकानों के क्षतिग्रस्त होने का खतरा था। इसके लिए सघन बस्ती में बने रफीक टाऊ के मकान को छोड़ दिया गया।

नालियों पर किया गया पक्का अतिक्रमण तोड़ा

मकान तोड़ने के बाद अमला बुलंद कुआं मस्जिद के पास गली में पहुंचा। यहां शेख अब्दुला, मोहम्मद जाफर उर्फ हारून कटोरा और सद्दाम उर्फ डबल ने नालियों पर अतिक्रमण करते हुए अवैध निर्माण किया था। आरोपितों ने नालियों के उपर बाथरूम बना लिए थे। साथ ही बाउंड्रीवाल बनाकर नाली पर कब्जा कर लिया था। इन सभी मकानों पर नगर निगम ने नोटिस चस्पा किए थे। नगर निगम के अधिकारियों ने उनके इस अतिक्रमण को जेसीबी मशान से तोड़ दिया। गली के अंदर एक साथ तीनों के मकान थे। करीब एक घंटे में निगम कर्मचारियों ने आदतन बदमाशों का अतिक्रमण तोड़ा। इस दौरान यहां कोतवाली थाना प्रभारी बलजीत सिंह बिसेन, मोघट थाना प्रभारी ईश्वर सिंह और अन्य पुलिसकर्मी मौजूद थे।

Posted By: Nai Dunia News Network