Khandwa News: डाक्टर को ब्लैकमेल कर 50 लाख रुपये की फिरौती मांगने वाले मीडियाकर्मी फरार

Updated: | Wed, 28 Jul 2021 08:45 AM (IST)

Khandwa News: खंडवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। नवजात बालक को बेचने के प्रयास के मामले में डाक्टर से 50 लाख रुपये की फिरौती मांगने वाले मीडियाकर्मी फरार हैं। पुलिस उन तक पहुंचना तो दूर उनका सुराग तक नहीं लगा पाई है। मीडियाकर्मियों पर मारपीट करने का आरोप लगाने वाले डाक्टर सौरभ सोनी और कमलेश नरवरिया को पुलिस घटनास्थल ले गई। उन्हें मीडियाकर्मी जेल रोड, भडारिया रोड एंजल प्लानेट स्कूल के पास सहित उन सभी जगह ले गए थे।

यहां मीडियाकर्मियों ने डाक्टर और उसके साथी को लेकर जाकर मारपीट कर रुपये लिए थे। इधर किशेारी का अवैध रूप से प्रसव कराने के बाद जन्मे नवजात बालक को बेचने का प्रयास करने के मामले में आरोपितों की संख्या पांच से बढ़कर आठ हो गई। पुलिस ने किशोरी के माता-पिता और एक महिला को भी आरोपित बनाया है। इस मामले में गिरफ्तार आरोपित डाक्टर सौरभ सोनी और कमलेश नरवरिया को जेल भेज दिया गया है। दोनों को पुलिस ने रिमांड पर लिया था।

नवजात बालक को बेचने के प्रयास में आरोपित डाक्टर सौरभ सोनी को बंधक बनाकर फिरौती मांगने वाले मीडियाकर्मी आरोपित सदाकत पठान, देवेंद्र जायसवाल, अजीत लाड़ और राज पिल्लई की तलाश में पुलिस लगी हुई है। मंगलवार को पुलिस चारों की तलाश करती रही लेकिन कहीं भी उनका पता नहीं चल पाया। पुलिस द्वारा चारों के मोबाइल नंबर ट्रैक किए जा रहे हैं। ताकि उनके बारे में पता चल सके। तकनीक का उपयोग करते हुए सायबर सेल की मदद से पुलिस आरोपितों तक पहुंचने में लगी हुई है।

सिविल लाइन क्षेत्र में जेल रोड, पुलिस लेकर पहुंची। यहां सौरभ ने पुलिस को बताया कि इसी जगह पर उसके साथ मारपीट की गई थी और उसका अपहरण किया गया था। इसके बाद कमलेश के बताए गए स्थान पर भी पुलिस पहुंची। इस तरह से उन सभी घटनास्थलों को जायजा लिया गया। जहां डाक्टर और उसक दोनों कर्मचारी मोहसीन और कमलेश को मीडियाकर्मी लेकर गए थे। प्रभारी पीआरओ प्रमोद कुमार पांडे का कहना है कि जिन चार मीडियाकर्मियों पर प्रकरण पंजीबद्ध हुआ है, उनमें से एक मीडियाकर्मी देवेंद्र जायसवाल अधिमान्य पत्रकार है। अधिमान्यता रद्द करने के लिए संचालनालय को प्रकरण की पूरी जानकारी भेज दी है।

पांच से आठ तक पहुंची आरोपितों की संख्या

नवजात को बेचने के मामले में आरोपितों की संख्या आठ हो गई है। कोतवाली थाने में शुरुआत में डाक्टर रेणु सोनी, डाक्टर सौरभ सोनी, कर्मचारी कमलेश नरवरिया, मोहसीन खान और नर्स संजूला पर प्रकरण दर्ज किया था। अब इस मामले में सौरभ और कमलेश से मिली जानकारी के आधार पर किशोरी का अवैध रूप से प्रसव कराने वाले माता और पिता को भी आरोपित बनाया गया है। साथ ही एक महिला वर्षा यादव भी इस मामले में आरोपित बनी हुई हैं। इसके साथ ही मामले में धारा 370 भी बढ़ाई गई। इस तरह से इस मामले में अब आठ आरोपित हो गए हैं।

आरोपित मोहसीन ने टीआइ को भेजा अस्पताल में भर्ती वाला फोटो

डाक्टर रेणु सोनी फरार हो गई हैं। उसका अब तक पता नहीं चल सका है। मंगलवार को भी पुलिस ने उसके बारे में जानकारी निकाली लेकिन उसे पकड़ने में सफलता नहीं मिल सकी। इधर कोतवाली थाना प्रभारी बीएल मंडलोई के मोबाइल पर फरार आरोपित मोहसीन खान ने अपना एक फोटो भेजा है। इसमें वह स्वयं को इंदौर के अस्पताल में भर्ती होना बता रहा है। उसने मैसेज किया है कि उसे पैरालेसिस अटैक आया है। कोतवाली थाना प्रभारी मंडलोई ने बताया कि मोहसीन के बारे में पता लगाया जा रहा है।

केस नंबर एक

15 वर्षीय किशोरी का 20 जुलाई को डाक्टर रेणु सोनी ने अपने अस्पताल में अवैध रूप से प्रसव किया। इसके बाद उससे जन्मे बच्चे को जब स्वजनों ने रखने से मना किया। इसके बाद नजवात बालक को आरोपित महिला रोग विशेषज्ञ डाक्टर रेणु पत्नी डाक्टर भरत सोनी, डाक्टर सौरभ पुत्र राजेश कुमार सोनी निवासी मकान नंबर 70 नवकार नगर, जिला अस्पताल में पदस्थ नर्स संजूला पत्नी दीपक पटेल निवासी अहमदपुर खैगांव, नर्सिंग होम कर्मचारी मोहसिन पुत्र मोहम्मद खान निवासी हरीगंज और कमलेश पुत्र रामदास नरवरिया निवासी ग्राम खेरखेड़ा हरसूद ने दो लाख 30 हजार रुपये में बेचने का प्रयास किया। इस मामले में कंचन चौहान की शिकायत पर धारा 81(2) किशोर न्याय अधिनियम 2015, 120बी, 176, 34 भादवि, 19, 21(2) पाक्सो एक्ट में प्रकरण दर्ज किया गया।

केस नंबर दो

22 जुलाई को पत्रकार सदाकत पठान, अजीत लाड़, राज पिल्लई और देवेंद्र जायसवाल ने डाक्टर सौरभ सोनी को उसके यहां काम करने वाले कर्मचारी कमलेश के मोबाइल से फोन कर कचहेरी के पीछे रेस्ट हाउस के पास बुलवाया था। यहां उसके साथ मारपीट कर जबरजस्ती कार में बैठा लिया। कार में पहले से कर्मचारी मोहसीन और कमलेश बैठे हुए थे। तीनों को भंडारिया रोड पर एक स्कूल के सामने लेकर आए। यहां डाक्टर सोनी को बच्चे की खरीद फरोख्त में फंसाने के लिए धमकाते हुए मारपीट की।

चारों ने 50 लाख रुपये की की डिमांड की। जब सौरभ ने इतनी राशि देने से मना किया तो वे 20 लाख रुपये देने पर बात बनी। आनलाइन 25 हजार रुपये अजीत लाड़ के खाते में ट्रांसफर किए गए। घर फोन करके रिश्तेदार से दो लाख रुपये बुलवाकर दिए। इसके बाद सात लाख 75 हजार और दस लाख रुपये चारों को दिए थे। इस मामले में आरोपित मीडियाकर्मी देवेंद्र जायसवाल, सदाकत पठान, अजीत लाड़ और राज पिल्लई पर फिरौती, अपहरण और ब्लैकमेलिंग करने के आरोप पर धारा 341, 323, 365, 384, 385, 389 और 34 आइपीसी में प्रकरण दर्ज किया गया था।

इनका कहना है

आरोपित मीडियाकर्मियों की तलाश की जा रही है। सभी को शीघ्र गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

-विवेक सिंह, पुलिस अधीक्षक

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay