सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा, सरकार वीर टंट्या मामा का सही इतिहास पढ़ाएगी

Updated: | Sat, 27 Nov 2021 06:42 PM (IST)

खंडवा। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कायक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि वीर टंट्या मामा की भूमि में आकर मैं खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं, इस भूमिका को नमन। हमें जनजातिय नायकों का इति‍हास कभी नहीं पढ़ाया गया। ये अंग्रेजों के खिलाफ लड़े, अन्याय के खिलाफ लड़े और सूदखोरों के खिलाफ लड़े। ये टंट्या माम थे जो अंग्रेजों को लूटते थे और जो पैसा मिलता उनको गरीबों को बांट देते थे। अंग्रेजों ने टंट्या मामा को पकड़ने के लिए नई टीम बनाई थी, इंग्लैंड तक में लोग उनके नाम से कांपते थे। एक बार जेल तोड़कर भी भाग गए। एक गद्दार के कारण उन्हें धोखा देकर पकड़ने का काम किया गया। इसके बाद उन्हें जबलपुर में फांसी दी गई। टंट्या मामा ने भारत माता के लिए खुद को बलिदान कर दिया। सीएम ने कहा कि हमारी सरकार उनका सही इतिहास पढ़ाएगी, जो कांग्रेस ने नहीं किया। गरीबों का शोषण करने वाले, अन्याय करने वाले जो भी हो उन्हें सरकार नहीं छोड़ेगी। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि टंट्या मामा भी सूदखोर से परेशान हुए थे। हमनें सूदखोरी रोकने के लिए नियम बनाया है।

सीएम शिवराज ने कहा आदिवासियों का गौरवशाली इतिहास रहा है। हमारे बीच स्थित वन मंत्री विजय शाह भी गोंड राजवंश से हैं। मुख्यमंत्री ने भीली भाषा में टंट्या मामा को नमन किया। कांग्रेस ने आजादी के इतिहास को गलत बताया। क्रांतिकारी वीरों को भुला दिया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जनजाति गौरव दिवस समारोह की शुरुआत प्रशंसनीय है। टंट्या मामा ने गरीबों को शोषण से मुक्ति के लिए लूटपाट की। उन्हें पकड़ने के लिए नाम से ही अंग्रेजी ने टीम बनाई थी। कांग्रेस ने ट्राईबल यूनिवर्सिटी का नाम भी इंदिरा गांधी के नाम पर रखा कांग्रेसी हमेशा एक खानदान का नाम रोशन करने का प्रयास किया है। चार तारीख को यात्रा पातालपानी पहुंचेगी, उसे तीर्थ बनाया जाएगा। वहां टंट्या मामा के प्रतिमा लगाई जाएगी। पातालपानी रेलवे स्टेशन का नाम टंट्या मामा के नाम पर किया जाएगा, इसका प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजा है। इंदौर के भंवरकुआं चौराहे का नाम भी टंट्या मामा के नाम पर रखने का निर्णय लिया है।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कार्यक्रम की शुरुआत कन्या पूजन के साथ की।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान निर्धारित समय से करीब 1 घंटे विलंब से टंट्या मामा की जन्मस्थली बड़ौदा अहीर पहुंचे। मुख्यमंत्री चौहान शनिवार को प्रात: 12.40 बजे भोपाल से रवाना होकर दोपहर 1.20 बजे पंधाना विकासखंड के ग्राम बड़ोदा अहीर हेलीपेड पर पहुंचे। यहां से स्मारक पहुंच कर टंट्या मामा की आदमकद प्रतिमा की पूजा-अर्चना की। स्मारक परिसर में एकत्र की गई माटी को कलश में भरकर टंट्या मामा की प्रतिमा के समक्ष रखा गया। क्रांतिसूर्य जननायक टंट्या भील गौरव यात्रा का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री शिवराज द्वारा टंट्या मामा के वंशजों हेमराज सिरसाठे, वासुदेव सिरसाठे सोनी बाई जयसिंह का मंच से सम्मान किया गया।

विजय शाह ने कहा, सीएम ने मामा होने का धर्म निभाया

वन मंत्री विजय शाह ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने मामा होने का सच्चा धर्म निभाया। आज मध्य प्रदेश में कन्या जन्म दर में सुधार हो रहा है। देश को आजादी कोट पेंट वालो ने नहीं दिलवाई। डॉ शीतल मसकोले डाक्टर बनना चाहती थी। कालेज की फीस के पैसे नही थे। मुख्यमंत्री के पास लेकर गया उन्होंने अधिकारियों को योजना बनाने के निर्देश दिए। तभी से आदिवासी बच्चों को उच्च शिक्षा के लिए भाजपा सरकार मदद दे रही है। गोंडवाना और जयस खुले मंच पर आकर बहस करे मैं तैयार हूं। हम बताएंगे आदिवासियों के लिए हमने क्या किया।

देश में जो विदेशी माने जाते उन्हें परेशानी हो रही है

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने अपने संबोधन में कहा कि आतताई अंग्रेजों के मामा ने छक्के छुड़ा दिए थे। ऐसे वीर हमारी जमीन पर पैदा हुए हमारे लिए गौरव की बात है। गौरव दिवस मना रहे है तो देश मे जो विदेशी माने जाते है उन्हें परेशानी हो रही है। आज तन्त्य मामा की जन्मभूमि से शुरू हो रही गौरव कलश यात्रा की बधाई।

भीली व निमाड़ी भाषा में पंधाना विधायक राम दंगोरे ने स्वागत भाषण दिया। उन्होंने कहा कि आदिवासियों का सच्चा सम्मान भाजपा सरकार में मिला है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह आदिवासियों के साथ खड़े हैं। उन्होंने कहा कि आदिवासियों के लिए कांग्रेस ने कुछ नहीं किया। भाजपा जो कर रही है उसे कांग्रेसी हजम नहीं कर पा रही। आदिवासी गोंड़ राजा भी पीला गमछा गले मे पहनते थे, जो आज शिवराज सिंह जी और हमारे नेताओं के गले में है।

टंट्या मामा की कलश यात्रा के साथ सभा स्थल की ओर जाते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णु शर्मा ,मंत्री विजय शाह, पंधाना विधायक राम दंगोरे। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह टंट्या मामा की शहीदी का आयोजन है इसमें इसमें नेताओं का सम्मान नहीं होगा।

सीएम शिवराज ने किया टंट्या मामा के वंशजों का सम्मान।

सीएम शिवराज ने टंट्या मामा की जन्म स्थली की मिट्टी कलश में ली।

सीएम शिवराज सिंह चौहान खंडवा में क्रांति गौरव कलश यात्रा शुरू करने से पहले भोपाल में राज्यपाल मंगुभाई पटेल से मिले और उन्हें 4 दिसंबर को जननायक टंट्या मामा भील के बलिदान दिवस पर होने वाले कार्यक्रम में आमंत्रित किया। जननायक टंट्या भील गौरव यात्रा खंडवा जिले के विभिन्न स्थानों से गुजरेगी। इस दौरान विभिन्न स्थानों पर स्वागत व पूजन होगा। जननायक टंट्या मामा गौरव यात्रा मार्ग पर कई स्थानों पर खानाबदोश गायकों द्वारा जननायक टंट्या मामा की गाथा गाई और प्रस्तुत की जाएगी।

Posted By: Prashant Pandey