मध्य प्रदेश के पन्ना में एक दिन में चार किसानों को मिले सात हीरे

Updated: | Tue, 07 Dec 2021 08:27 AM (IST)

पन्ना, नईदुनिया प्रतिनिधि। पन्ना जिले की रत्नगर्भा धरती आर्थिक तंगी से गुजर रहे दो गरीब किसानों पर आज मेहरबान हो गई। सोमवार को दो किसानों को जहां तीन बड़े हीरे मिले, वहीँ दो अन्य लोगों को चार छोटे हीरे मिले हैं। सभी सात हीरे एक ही खदान क्षेत्र पटी उथली हीरा खदान से निकले हैं, जिन्हें बकायदे हीरा धारकों ने कलेक्ट्रेट स्थित हीरा कार्यालय में आज दोपहर को जमा करा दिया है। हीरा मिलने पर इन गरीबों की जहां किस्मत चमक गई है वहीँ दो गरीब किसान पलक झपकते लखपति बन गए हैं।

मुलायम सिंह को मिला 50 लाख से अधिक का बेशकीमती हीरा : हीरा कार्यालय पन्ना के हीरा पारखी अनुपम सिंह ने बताया कि ग्राम रहुनिया निवासी किसान मुलायम सिंह गोंड 60 वर्ष को सबसे बड़ा 13.54 कैरेट वजन का बेशकीमती हीरा मिला है जो जेम क्वालिटी का है। जबकि एनएमडीसी कॉलोनी पन्ना निवासी रोहित यादव को पटी हीरा खदान क्षेत्र से ही दो हीरे मिले हैं। इनमें एक 6.08 कैरेट का जेम क्वालिटी का हीरा है जबकि दूसरा 4.68 कैरेट वजन का ऑफ़ कलर का हीरा है। हीरा पारखी अनुपम सिंह ने बताया कि शिवराजपुर चंद्रनगर जिला छतरपुर निवासी शारदा विश्वकर्मा को 0.43 सेंट तथा बेनीसागर मोहल्ला पन्ना निवासी रामस्वरूप चौधरी को पटी हीरा खदान क्षेत्र से ही तीन हीरे वजन 0.34, 0.74 तथा 0.51 सेंट के हीरे मिले हैं। एक ही दिन में हीरा मिलने से इन गरीबों की किस्मत चमक गई है। हीरा मिलते ही इन किसानों के घरों में ख़ुशी और जश्न का माहौल है, स्‍वजन की खुशी देखते ही बन रही है। हीरा पारखी ने जानकारी देते हुए बताया कि आज एक ही दिन में सात हीरे जमा हुए हैं। जिससे पूरे दिन आज हीरा कार्यालय में हलचल मची रही। आपने बताया कि जमा हुए इन सभी हीरों को आगामी नीलामी में बिक्री के लिए रखा जाएगा। बिक्री से प्राप्त राशि में से शासन की रायल्टी काटने के बाद शेष राशि हीरा धारक को प्रदान की जाएगी। सबसे बड़े हीरे की अनुमानित कीमत पूछे जाने पर हीरा पारखी ने बताया कि हीरा जेम क्वालिटी का है जिसकी अच्छी कीमत मिलने की उम्मीद है लेकिन अभी उसकी कीमत नहीं बताई जा सकती। जानकर इस हीरे की अनुमानित कीमत 50 से 60 लाख रुपये आंक रहे हैं। वही 6.08 व 4.68 केरेट जेम क्वालिटी के हीरे भी 20 से 30 लाख के अनुमानित कीमती बताए जा रही है।

जीवन में पहली बार मिला हीरा, बच्चों को पढ़ाएंगे : हीरा धारक मुलायम सिंह गोंड ने बताया कि पटी स्थित उथली हीरा खदान में हम 6 लोग पार्टनर हैं। हमारे द्वारा 10 नवम्बर 21 को सरकारी पट्टा बनवाया गया था। हीरों की तलाश में हमने जी तोड़ मेहनत की है फलस्वरूप ऊपर वाले ने हमारी सुन ली। मुलायम ने बताया कि उसे जिंदगी में पहली बार हीरा मिला है। अपने बारे में मुलायम ने बताया कि वे खेती किसानी करते हैं लेकिन जंगल से खेती लगी हुई है जिससे नुकसान बहुत होता है, बस किसी तरह गुजर बसर होता था, लेकिन अब संकट दूर हो गया है। उसने बताया कि उसके दो बेटे व तीन बेटियां हैं, एक बेटी की शादी हो गई है। दोनों बेटे पढ़ते हैं, हीरा से जो भी पैसा मिलेगा उसे बेटों की पढाई में लगाऊंगा ताकि पढ़ लिखकर वे काबिल बन सकें। जैसे हम मेहनत मजदूरी व किसानी करके हैरान और परेशान होते हैं उन्हें न होना पड़े।

Posted By: Brajesh Shukla