वीडियो : सतना में घंटों कतार में खड़े होने के बाद भी खाद नहीं मिला, परेशान किसानों ने किया चकाजाम

Updated: | Fri, 26 Nov 2021 06:33 PM (IST)

सतना। नईदुनिया प्रतिनिधि। जिले में एक बार फिर यूरिया खाद की समस्या और कालाबाजारी उजागर हुई है। प्रशासन के लाख दावे के बाद भी खाद की समस्या उत्पन्न हो रही है। कुछ इसी तरह डीएपी खाद की समस्या और वितरण प्रणाली में लापरवाही से परेशान किसानों ने शहर के कोलगवां थाना अंतर्गत बिरला रोड में चक्काजाम कर दिया और जमकर प्रदर्शन किया। इस दौरान सड़क पर बड़े-बड़े पत्थर रख दिए गए।

कुछ देर बाद बेकाबू हुई भीड़ ने पत्थरबाजी भी कर दी, हालांकि इस दौरान किसी तरह का नुकसान किसी को नहीं हुआ। मौके पर पहुंची पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने जब किसानों को खाद दिलाने की जिम्मेदारी उठाई तब जाकर बड़ी मशक्कत से किसान माने और चक्काजाम व प्रदर्शन समाप्त किया। इस प्रदर्शन के कारण लगभग डेढ़ घंटे तक बिरला रोड में जाम की स्थिति रही।

सुबह से लगी थी कतार

दरअसल शहर के बिरला रोड स्थित खाद वितरण केंद्र में शुक्रवार सुबह से ही किसानों की लंबी कतार डीएपी खाद लेने के लिए लगी थी। यहां किसान कई घंटे से कतार में लगे थे जिन्हें टोकन के माध्यम से खाद दी जानी थी लेकिन एन वक्त में किसानों को खाद तो क्या कई घंटे कतार में लगने के बावजूद टोकन तक नसीब नहीं हुआ था। भूखे प्यासे कतार में खड़े किसानों का गुस्सा उस समय फूट पड़ा जब दोपहर के बाद भी किसानों को खाद नसीब नहीं हुई और भीड़ बढ़ती गई।

इस दौरान गुस्से से आग बबूला किसानों नेे सड़क डिवाइड निर्माण के दौरान तोड़े गए पत्थरों को उठाकर बीच सड़क पर रख दिया और सड़क जाम कर प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। जब बिरला रोड में दोनों तरफ लंबा जाम लगने लगा तो सूचना पाकर मौके पर कोलगवां पुलिस पहुंची। पुलिस कर्मियों ने जब किसानों को मनाया और फिर भी किसान टस के मस नहीं हुए तब प्रशासनिक अधिकारियों और पुलिस बल को सूचित किया गया। मौके पर जैसे ही पुलिस बल और प्रशासनिक अधिकारी पहुंचे तो किसान और तेजी से नारेबाजी करने लगे।

निर्मित हुई पत्थरबाजी की घटना

चक्काजाम कर विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों से जब पुलिस कर्मी हटने के लिए कहने लगे तभी किसी के द्वारा सड़क से एक पत्थर उठाकर चला दिया गया। इस दौरान पुलिस ने कुछ किसानों को खदेड़ दिया। स्थिति सामान्य रही और किसी को चोट और नुकसान नहीं पहुंचा। इसके बाद मौके पर पहुंचे सीएसपी महेंद्र प्रताप चौहान और थाना प्रभारी देवेंद्र प्रताप चौहान ने किसानों और विरोध कर रहे लोगों को समझाइश दी, लेकिन विभागीय अधिकारी किसानों को खाद आपूर्ति करने में विफल दिखे।

इसे देखते हुए पुलिस को मोर्चा संभालना पड़ा और पुलिस ने किसानों को समझाइश देते हुए दोबारा कतार लगवा कर टोकन बटवाते हुए खाद तत्काल उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी ली तब जाकर किसानों का गुस्सा शांत हुआ और किसानों ने विरोध समाप्त कर चक्काजाम खोल दिया। इस घटना से लगभग दो घंटे तक शहर के व्यस्ततम मार्ग बिरला रोड में आवाजाही बंद रही।

कलेक्टर ने भी माना खाद का संकट

इस घटना के बाद सतना कलेक्टर ने बयान जारी कर कहा है कि दक्षिण भारत में तूफानी बारिश होने के कारण डीएपी की रेक लोड होने में चार दिवस का विलंब हुआ है। वर्तमान में सतना डबल लॉक में डीएपी एवं एनपीके अल्प काल के लिए समाप्त है।उन्होंने कहा कि शुक्रवार रात या शनिवार सुबह तक एनपीके की 2500 टन की रेक सतना पहुंच जाएगी जिसका वितरण शनिवार दोपहर तक प्रारंभ हो जाएगा।

उन्होंने बताया कि शुक्रवार को नागौद, उचेहरा, मैहर, रामनगर आदि डबल लॉक एवं समितियों एवं डीलरों के पास डीएपी/एनपीके उपलब्ध है जहां से यह प्राप्त किया जा सकता है। कलेक्टर अजय कटेसरिया ने यह भी बताया कि सतना डबल लॉक में 250 टन अमानक डीएपी खाद स्टॉक में है जिसका वितरण नही किया जा सकता है, यह स्टॉक कंपनी को वापस करने की कार्यवाही की जा रही है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay