सिवनी के बलपुरा, बिहिरिया गांव के पास दिख रहा तेंदुआ, ग्रामीणों में दहशत

Updated: | Sat, 27 Nov 2021 06:29 PM (IST)

सिवनी, नईदुनिया प्रतिनिधि। शहर से करीब 8 किमी दूर बलपुरा व बिहिरिया गांव के पास बीते कुछ दिनों से तेंदुआ नजर आ रहा है। कई बार ग्रामीण तेंदुए को देख चुके हैं। ग्रामीणों के अनुसार तेंदुआ अक्सर नाले के पास पानी पीने के लिए आ रहा है। इस नाले से ग्रामीणों के खेत लगे हुए हैं। ऐसे में क्षेत्र के ग्रामीणों में दहशत व्याप्त है।

शिकार कर चुका है तेंदुआ : ग्रामीणों ने बताया है कि तेंदुआ गांव में मवेशियों का शिकार कर चुका है। पहले लोग किसी अन्य जंगली जानवर द्वारा शिकार करने का अंदेशा लगा रहे थे लेकिन जब बीते कुछ दिनों से ग्रामीणों ने तेंदुए का गांव के पास देखा है! उन्हें यकीन हो गया है कि तेंदुए ने ही मवेशियों का शिकार किया है। हालांकि वन विभाग के अधिकारियों ने इसकी पुष्टि नहीं की है।

अंधेरा होने के बाद डर रहे ग्रामीण : कंडीपार क्षेत्र के बलपुरा, बिहिरिया व आसपास के क्षेत्र के लोग शाम होने के बाद खेतों में जाने से डर रहे हैं। वहीं ग्रामीण मवेशी चराने जंगल भी नहीं जा पा रहे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि गांव से लगे जंगल में तेंदुए की दस्तक के कारण जनजीवन प्रभावित हो रहा है। मवेशी के लिए चारे की दिक्कत हो गई है।

इसके पहले था बाघ का मूवमेंट : कुछ माह पहले छिड़िया गांव से लगे कंडीपार, बलपुरा, बिहिरिया गांव से लगे जंगल में बाघ का मूवमेंट देखा गया था। इसके बाद वन विभाग ने गांव में मुनादी भी कराई थी। ग्रामीणों को जंगल नहीं जाने व रात होने पर घर से अकेले नहीं निकलने की सलाह दी गई थी।

इनका कहना है

मैंने गांव के पास नाले में पानी पीने आए तेंदुए को देखा है। मेरे अलावा अन्य ग्रामीणों ने भी तेंदुए को गांव के पास देखा है। तेंदुए के बार-बार गांव के पास खेत से लगे नाले में आने से ग्रामीणों में दहशत व्याप्त है।

- दीपक बघेल, बलपुरा

गांव के पास बीते कुछ दिनों से तेंदुआ दिखाई दे रहा है। मवेशियों का शिकार भी तेंदुआ कर चुका है। अंधेरा होने के बाद कुछ ग्रामीण अपने खेत जाने से डर रहे हैं। वन विभाग को इस ओर ध्यान देकर कार्रवाई करना चाहिए।

- राजकुमार बघेल, बिहिरिया

बलपुरा व बिहिरिया गांव के पास तेंदुआ आने की जानकारी नहीं है। फिर भी इसे दिखवाया जाएगा। तेंदुआ अक्सर कुत्ते-बिल्ली व मवेशी का शिकार करने के चक्कर में गांव के करीब पहुंच जाता है।

- अशोक कुमार मिश्रा, सीसीएफ सिवनी

Posted By: Brajesh Shukla