Mahakal Bhasmarti: महाकाल भस्मारती दर्शन के लिए अनुमति आनलाइन, शुल्क मैन्युअली जमा होगा

Updated: | Thu, 23 Sep 2021 08:36 PM (IST)

Mahakal Bhasmarti: उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में भस्मारती दर्शन की आनलाइन बुकिंग के लिए मंदिर समिति ने नई व्यवस्था 25 सितंबर से लागू की जा रही है। इसके लिए श्रद्धालुओं को मंदिर की वेबसाइट पर आवेदन करना होगा। बुकिंग कंफर्म होने के बाद श्रद्धालु भस्मारती दिनांक से एक दिन पहले मंदिर आकर मैन्युअल 100 रुपये शुल्क जमा करा सकेंगे। वैकल्पिक व्यवस्था साफ्टवेयर अपडेट होने तक की गई है।

बता दें कि बीते कुछ दिनों से मंदिर की वेबसाइट पर आनलाइन बुकिंग कराने वाले श्रद्धालुओं को काफी परेशानी आ रही थी। शिकायत थी कि आनलाइन बुकिंग कराने में श्रद्धालुओं के खाते से 100 रुपये तो कट रहे हैं, लेकिन बुकिंग कंफर्म नहीं हो रही है।

महाकाल मंदिर समिति ने कोरोना काल के करीब डेढ़ साल बाद 11 सितंबर से भस्मारती दर्शन की शुरुआत की है। इसके लिए सात सितंबर से 100 रुपये शुल्क के साथ आनलाइन बुकिंग शुरू की गई थी। इस पर देश-विदेश के भक्तों ने आनलाइन बुकिंग कराना शुरू किया। बुकिंग करते ही श्रद्धालुओं के खाते से 100 रुपये कटना तो शुरू हो गए, लेकिन बुकिंग कंफर्म नहीं हो पा रही थी।

बीते एक पखवाड़े से भक्त मंदिर कार्यालय में फोन कर इसकी शिकायत दर्ज करा रहे थे। इसके बाद मंदिर समिति ने नई व्यवस्था लागू करने का निर्णय लिया है। इसके तहत दर्शनार्थी आनलाइन बुकिंग करा सकेंगे। कंफर्म का एसएमएस प्राप्त होने के बाद दर्शनार्थी मंदिर आकर 100 रुपये जमा कराएंगे। अगले दिन गेट पर कर्मचारी को एसएमएस के साथ 100 रुपये शुल्क जमा करने की रसीद दिखाकर भीतर प्रवेश मिलेगा।

इसलिए आ रही समस्या

कोरोना काल के दौरान हो रही आनलाइन ठगी को देखते हुए नेट बैंकिंग के लिए सुरक्षा नियमों को सख्त कर दिया गया है। इसके चलते गूगल, ब्राउजर व गेट वे पेमेंट का संचालन नए सुरक्षा नियमों के तहत हो रहा है। मंदिर समिति ने अब तक अपना साफ्टवेयर अपडेट नहीं किया था। इसलिए गेट वे पेमेंट के जरिए भस्मारती अनुमति के लिए आनलाइन भुगतान करने वाले श्रद्धालुओं को परेशानी हो रही थी। समिति अब साफ्टवेयर को अपडेट करा रही है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay