HamburgerMenuButton

Ujjain Mahakal : उज्जैन महाकाल मंदिर में अगले महीने से बदलेगा तीन आरतियों का समय, जानिये इसका धार्मिक महत्‍व

Updated: | Mon, 26 Oct 2020 10:05 AM (IST)

Ujjain Mahakal : ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा पर 1 नवंबर से राजाधिराज महाकाल की दिनचर्या में बदलाव होगा। मंदिर की परंपरा अनुसार शीत काल में आरती का समय भी बदलेगा। पं.महेश पुजारी ने बताया कार्तिक मास से सर्दी की शुरुआत मानी जाती है। कार्तिक प्रतिपदा से फाल्गुन पूर्णिमा तक नए समय पर आरती होगी। सुबह 4 से 6 बजे तक भस्म आरती, सुबह 7.30 से 8.15 बजे तक द्दयोदक तथा सुबह 10.30 बजे से भोग आरती होगी। शाम 5 बजे संध्या पूजन होगा। शाम 6.30 से शाम 7 बजे तक संध्या आरती होगी। रात्रि 10.30 से रात्रि 11 बजे तक शयन आरती होगी। इसके बाद मंदिर के पट बंद किए जाएंगे। बता दें इन दिनों मंदिर में द्दयोदक आरती सुबह 7 से 7.45 बजे तक, भोग आरती सुबह 10 बजे से तथा संध्या आरती शाम 7 बजे से 7.30 बजे तक हो रही है। उज्‍जैन एवं इसके धार्मिक पर्यटन के बारे में अधिक जानकारी के लिए यहां Click करें।

अग्रिम बुकिंग के आधार पर दर्शन

महाकाल मंदिर में इन दिनों अग्रिम बुकिंग के आधार पर भक्तों को भगवान महाकाल के दर्शन कराए जा रहे हैं। भक्त महाकालेश्वर एप व मंदिर की वेबसाइट पर नि:शुल्क अग्रिम बुकिंग कराकर भगवान महाकाल के दर्शन कर सकते हैं। कोरोना संक्रमण के चलते भक्तों का गर्भगृह में प्रवेश बंद है। भक्तों के हार, फूल, पूजन सामग्री अर्पित करने तथा जलाभिषेक पर भी रोक लगी हुई है।

शिप्रा स्नान व दीपदान का महत्व

कार्तिक मास में शिप्रा स्नान व दीपदान का विशेष महत्व है। महिलाएं कार्तिक प्रतिपदा से पूर्णिमा तक एक माह सुबह 5 बजे शिप्रा स्नान करने जाती हैं। पश्चात राधा दामोदर का पूजन किया जाता है। संध्या काल में शिप्रा में दीप दान भी किया जाता है। मान्यता है इससे पितरों का मार्ग आलोकित होता है।

श्री महाकालेश्वर मंदिर का महत्‍व

ब्रह्मांड के तीन पवित्र पूजा शिवलिंगों में से उज्जैन के भगवान महाकाल का सबसे बड़ा महत्व है। आकाशे तारकलिंगम, पाताल हाटकेश्रम | मृत्कलोक महाकालम, सर्वलिंगम नमोस्तुते || अर्थ ताराकलिंग पृथ्वी के ऊपर है, पृथ्वी के नीचे हाटकेश्वरलिंग और पृथ्वी पर महाकाल हैं। महाकाल की महानता सर्व व्यापी है। महाकाल संपूर्ण विश्व के प्रवर्तक हैं। ईश्वर और धर्म के प्रति हमारी आस्था का एक बड़ा कारण है महाकाल को पृथ्वी पर सर्वोच्च देवता मानना। महाकाल स्वयं काल (समय) के प्रचारक हैं। कालचक्रप्रवर्तको महाकाल प्रतापनह | वराहपुराण इस प्रश्न के उत्तर को देता है कि महाकाल का पृथ्वी पर विकास कहाँ तक है, क्योंकि महाकाल पृथ्वी के केंद्र बिंदु (नाभि) पर निवास करते हैं जो उज्जैन है। उज्जैन के लिए श्री महाकालेश्वर सम्मान है, महाकाल की महिमा दिव्य है। शिवपुराण के अनुसार, महाकाल 12 ज्योतिर्लिंगों में प्रसिद्ध हैं, क्योंकि वे स्वयं काल के अंश हैं।

ज्योतिर्लिंग - सौराष्ट्रे सोमनाथम् च श्रीं शरण मल्लिकार्जुनम |

उज्जैनिया महाकालमो करम ममलेश्वरम ||

पराल्या बैजनाथम् च डाकिन्या भीमशंकरम |

सेतु बंधे तु रमेशं नागेशं दारुकावने ||

स्वरानसम तु विश्वेशम् त्रयम्बकम् गौमती ताते |

हिमालये तु केदाराम घुश्मशं च शिवलये ||

एतानि ज्योतिर्लिंगानि सायं प्रतिप पठयन्तर | सप्त जनम कृ त पापम स्मरणं विनाशिति |

ये 12 ज्योतिर्लिंग भारत की सभी दिशाओं में स्थित हैं क्योंकि केदारनाथ उत्तर में है, रामेश्वरम दक्षिण में है, पश्चिम में सोमनाथ है, पूर्व में मल्लिकार्जुन और भारत के केंद्र में महाकाल सीतूत हैं। बाकी ज्योतिर्लिंग भी विशिष्ट कोणों के साथ महत्वपूर्ण दिशाओं में स्थित हैं। महाकाल और ज्योतिष ज्योतिर्लिंग न केवल ज्ञान और प्रकाश का, बल्कि ज्योतिषीय गणनाओं का भी प्रतीक है। इस गणना का केंद्र महाकाल है। 12 ज्योतिर्लिंग, 12 सूर्य (आदित्य), 12 महीने, 12 ग्रह और 12 घंटे कुंडली में हैं और ये सभी भारत के कुंडली से 12 वें घंटे हैं। इसलिए इन्हें पवित्र और समय के लिए पूजा जाता है और ये 12 कुंडली के 12 घंटों के समान परिणाम देते हैं। 12 कुंडली घंटे के एजेंटों के साथ जुड़ी समस्याओं का समाधान 12 अलग-अलग स्थानों पर रखे गए ज्योतिर्लिंगों की पूजा करके प्राप्त किया जा सकता है। कर्क (कर्क) की रेखा उज्जैन से गुजरती है और जिसके केंद्र के रूप में उज्जैन में कर्करेश्वर मंदिर स्थित है। भौगोलिक स्थिति विश्व प्रसिद्ध महाकालेश्वर मंदिर उज्जैन रेलवे स्टेशन से 2 किलोमीटर दूर है और क्षिप्रा नदी के तट पर एक बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है।

यह एकमात्र ज्योतिर्लिंग है जिसका दक्षिण की ओर मुख है। मंदिर के गर्भगृह में श्री गणेश, श्री कार्तिके और पार्वती की चांदी की मूर्तियाँ हैं। छत की भीतरी दीवार पर एक रुद्र यंत्र है जो 100 किलोग्राम चांदी से बना है और इसके नीचे ज्योतिर्लिंग स्थित है। गर्भगृह के गेट के सामने नंदी की मूर्ति है। भस्मारती इस मंदिर में केवल सुबह 4 बजे होती है। श्रावण के दौरान प्रत्येक सोमवार को, उज्जैन के शासक महाकालेश्वर शहर का एक चक्कर लगाते हैं। वर्तमान मंदिर मराठा समय में बनाया गया था, लेकिन लगभग तालाब परमार समय के दौरान बनाया गया था। स्कंद पुराण के मंदिर अवंति खंड का इतिहास कहता है कि

महाकाल सरिच्छिप्रे गतिशेव सूर्यमला, उज्जयिन्या विशालाक्षिम् वासः कस्य न रोचते ||

सन्नम् क्रुत्वा नरो यस्तु महानाद्यानम् वह दुरलभम् |

महाकालम नमस्कारम नरो मृत्युम् न शोचयेत् ||

मतलब जो महाकालेश्वर जिस जगह पर नहीं है, वहां क्षिप्रा का साफ पानी नहीं है। शिप्रा में स्नान करने के बाद महाकाल दर्शन करने से मृत्यु का भय नहीं रहता है।

Posted By: Navodit Saktawat
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.