2022 पंजाब चुनाव: भाजपा को होगा बड़ा फायदा, जानिए क्यों कहा जा रहा ऐसा

Updated: | Sat, 11 Dec 2021 10:29 AM (IST)

2022 पंजाब चुनाव: अगले साल जिन राज्यों में विधानसभा चुनाव होना हैं, उनमें पंजाब भी शामिल हैं। किसान आंदोलन और कांग्रेस की कलह के कारण पंजाब की राजनीति रोचक हो गई है। किसान आंदोलन के कारण शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने एनडीए से नाता तोड़ लिया था। अब एक तरफ सत्तारूढ़ कांग्रेस है तो दूसरी तरफ शिअद, भाजपा, आम आदमी पार्टी और कैप्टन अमरिंदर सिंह की पार्टी है। इस बीच, भाजपा के लिए कहा जा रहा है कि मोदी-शाह की पार्टी को पंजाब में बड़ा फायदा मिल सकता है। इसके दो कारण गिनाए जा रहे हैं। पहला - कृषि बिल वापस होने के बाद अधिकांश किसानों की नाराजगी दूर हो चुकी है। और दूसरा - शिअद के साथ गठबंंधन में भाजपा को 117 में से केवल 23 सीटें मिलती थीं। अब ऐसा की कोई पाबंदी नहीं होगी।

2022 पंजाब चुनाव: नए गठबंधन के साथ नए सिरे से मैदान में उतरेगी भाजपा

माना जा रहा है कि भाजपा इस बार सभी 117 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है। या पार्टी नए गठबंधन के साथ चुनाव मैदान में उतरी तो नए सहयोगियों को कुछ सीटें दे सकती है। दोनों ही स्थितियों में भाजपा को फायदा हो सकता है।मनजिंदर सिंह सिरसा का भाजपा में शामिल होना बड़ा दांव माना जा रहा है। भाजपा में शामिल होने के लिए मनजिंदर सिंह सिरसा ने दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन समिति (DSGMC) के प्रमुख के पद से इस्तीफा दे दिया है। इसके बाद पंजाब के पूर्व पुलिस महानिदेशक एस विर्क भी भाजपा में शामिल हो गए। विधायक सरबजीत सिंह मक्कड़ और दो दर्जन अन्य राजनेता, जिनमें से अधिकांश सिख हैं, भगवा पार्टी में शामिल हो गए हैं।

यहां तक ​​कि गृह मंत्री अमित शाह ने भी संकेत दिया है कि भाजपा पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और पूर्व वरिष्ठ शिअद (बी) नेता सुखदेव सिंह ढींडसा के साथ गठबंधन के लिए बातचीत कर रही है।

Posted By: Arvind Dubey