Amarinder Singh Resignation: पाकिस्तान से युद्ध के वक्त सेना में थे अमरिंदर सिंह, पंजाब में कांग्रेस की कराई थी वापसी

Updated: | Sat, 18 Sep 2021 07:53 PM (IST)

Amarinder Singh Resignation: पंजाब (Punjab) में पिछले साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। इससे पहले पार्टियों के बीच बड़ी उठा-पटक सामने आने लगी है। सत्ता रूढ़ पार्टी कांग्रेस (Congress) के नेता और राज्य के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) ने आज (शनिवार) अपने पद से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ महीनों में तीसरी बार हो रहा है कि विधायकों को दिल्ली में बुलाया गया। मैं समझता हूं कि मेरे ऊपर कोई शक है, मैं सरकार नहीं चला सका। जिस तरीके से बात हुई है मैं अपमानित महसूस कर रहा हूं। अमरिंदर ने कहा, फ्यूचर पॉलिटिक्स हमेशा एक ऑप्शन होता है। जब मुझे मौका मिलेगा मैं उसका इस्तेमाल करूंगा।

कांग्रेस की कराई सत्ता में वापसी

बता दें कैप्टन अमरिंदर सिंह ने 2017 में पंजाब में कांग्रेस की वापसी कराई थी। पिछले विधानसभा इलेक्शन में अमरिंदर के कारण कांग्रेस सत्ता में आ पाई। उन्हें अपने जन्मदिवस के दिन 11 मार्च 2017 को बहुमत मिला था। उन्होंने मुख्यमंत्री पद की दोबारा कमान संभाली। हालांकि अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाए।

1963 में ज्वाइन की सेना

अमरिंदर पंजाब की राजनीति में दिग्गज नेता है। 11 मार्च 1942 को पटियाला राजघराने में जन्मे सिंह पॉलिटिक्स में आने से पहले भारतीय सेना में कैप्टन थे। उन्होंने 1963 में सेना ज्वाइन की और 1965 में छोड़ दी। भारत-पाकिस्तान के युद्ध में फिर सेना में शामिल हो गए। वह युद्ध की समाप्ति के बाद सेना छोड़ दिया।

1980 में जीता लोकसभा चुनाव

सेना के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने राजनीति में कदम रखा। साल 1980 में उन्होंने कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ा और जीत दर्ज की। इसके बाद अमरिंदर 1984 में कांग्रेस छोड़कर अकाली दल में शामिल हो गए। अकाली दल में वह राज्यसभा सदस्य रहे। बाद में कैप्टन फिर कांग्रेस में शामिल हो गए। वर्ष 1999 से 2002 तक पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष रहे। इसके बाद वह 2002 से 2007 तक पंजाब के सीएम रहे। 2014 में कैप्टन के नेतृत्व में कांग्रेस ने धमाकेदार जीत हासिल की।

Posted By: Navodit Saktawat