Assam-Mizoram Issue: दोनों राज्य शांति से समाधान निकालने पर सहमत, विवादित इलाके में होगी न्यूट्रल फोर्स की तैनाती

Updated: | Wed, 28 Jul 2021 08:56 PM (IST)

Assam Mizoram Border Issue: बुधवार को दिल्ली में केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला की अध्यक्षता में एक बैठक हुई, जिसमें असम-मिजोरम सीमा विवाद को लेकर विस्तार से चर्चा हुई। केन्द्र सरकार ने विवाद को सुलझाने के लिए दोनों राज्यों के उच्च अधिकारियों को दिल्ली बुलाया था। इसी के तहत बैठक में असम के मुख्य सचिव जिष्णु बरुआ एवं डीजीपी भास्कर ज्योति महंता और मिजोरम के मुख्य सचिव लालननमविया चुऔंगो और डीजीपी एसबीके सिंह शामिल हुए। उनके अलावा बैठक में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के महानिदेशक कुलदीप सिंह भी शामिल हुए।

दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद इस बात पर सहमति बनी कि दोनों राज्यों के विवादित इलाके खासकर NH-306 के क्षेत्र में एक न्यूट्रल फोर्स की तैनाती की जाएगी। ये केंद्रीय सुरक्षा बल (CAPF) की टीम होगी, जिसका नेतृत्व केंद्रीय बल के एक ऊंचे अधिकारी के हाथों में होगा और वही दोनों पक्षों से बातचीत कर उस इलाके में होनेवाली परेशानियों को सुलझाएंगे। करीब ढ़ाई घंटे तक चली इस बैठक में सबसे अच्छी बात ये हुई कि दोनों ही पक्षों ने माना कि हिंसा से इसका रास्ता नहीं निकल सकता। बैठक में ये भी तय हुआ कि सीमा के तनाव वाले इलाकों में सौहार्दपूर्ण माहौल बनाने के लिए और मसले के हल के लिए दोनों राज्यों के जिम्मेदार अधिकारियों की नियमित बैठक की जाएगी।

फिलहाल विवादित इलाके में CRPF की 4 अतिरिक्त कंपनियों को न्यूट्रल फोर्स के तौर पर नियंत्रण करने के लिए तैनात कर दिया गया है, उसके अलावा वहां 2 कंपनियां पहले से मौजूद हैं। सोमवार को बॉर्डर संघर्ष में असम के पांच पुलिसकर्मियों और एक आम नागरिक की मौत हो गई थी, साथ ही 60 अन्य लोग घायल भी हुए थे। हिंसा के बाद दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाए थे और एक-दूसरे की पुलिस को हिंसा के लिए जिम्मेदार ठहराया था।

असम के बराक घाटी के जिले कछार, करीमगंज और हैलाकांडी मिजोरम के तीन जिलों आइजोल, कोलासिब और मामित के साथ 164 किलोमीटर लंबी सीमा साझा करते हैं। एक क्षेत्रीय विवाद के बाद, पिछले साल अगस्त 2020 और इस साल फरवरी में अंतर-राज्यीय सीमा पर झड़पें हुईं। आपको बता दें कि पूर्वोत्तर के ज्यादातर राज्यों का अपने पड़ोसी राज्यों के साथ सीमा-विवाद चल रहा है।

Posted By: Shailendra Kumar