HamburgerMenuButton

अमेरिकी कंपनी जेनपैक्ट का बड़ा फैसला, कोरोना से प्रभावित परिवार के लोगों को देगी नौकरी

Updated: | Sat, 12 Jun 2021 06:13 PM (IST)

कोरोना की दूसरी लहर ने देश में जमकर तबाही मचाई है। इस महामारी की वजह से कई लोगों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा तो कई लोगों का धंधा भी चौपट हो गया। इसके साथ ही कई लोगों ने अपने करीबियों को खो दिया है। महीनों तक कोरोना का कहर झेलने के बाद बेरोजगार लोगों के लिए अच्छी खबर आई है। अमेरिकी कंपनी जेनपैक्ट भारत में कोरोना से प्रभावित लोगों को नौकरी देने के बारे में सोच रही है। इस पहल के जरिए कंपनी जरूरतमंद लोगों की मदद करना चाहती है।

बिजनेस स्टैंडर्ड की खबर के अनुसार जेनपैक्ट के चीफ एग्क्यूटिव अफसर टाइगर ने कहा "आज हमें राइज टुगेदर प्रोग्राम लॉन्च करते हुए बहुत खुशी हो रही है। इस कार्यक्रम के जरिए उन लोगों की मदद की जाएगी, जिनका परिवार कोरोना की वजह से बुरी तरह प्रभावित हुआ है।"

अपने वादे को पूरा करने के लिए कंपनी अपने प्लेटफॉर्म जेनोम का उपयोग करेगी। इसके जरिए लोगों को ट्रेन किया जाएगा, जो आगे चलकर जेनपैक्ट में काम करेंगे।

राइस टुगेदर के बारे में अहम बातें

1. यह स्कीम मुख्य रूप से तीन बातों पर फोकस करेगी। पहला नौकरी देना, दूसरा ट्रेनिंग करना और तीसरा इन कर्मचारियों का सपोर्ट करना।

2. जेनपैक्ट कंपनी जॉब पोर्टल, राज्यों और अलग-अलग संस्थाओं के जरिए लोगों से संपर्क करेगी।

3. जेनपैक्ट की टीम सीधे उन लोगों से संपर्क करेगी, जो कोरोना से बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। इन कर्मचारियों का चयन करते समय इनकी दक्षता नहीं आंकी जाएगी और सभी कर्मचारियों का प्रोफेशनल होना जरूरी नहीं है।

4. एक बार चयनित होने के बाद हर कर्मचारी को जेनोम के जरिए 8 सप्ताह की ट्रेनिंग दी जाएगी।

5. इस पहल के जरिए कंपनी उन लोगों की मदद करना चाहती है, जिनके परिवार में कोई भी पैसा कमाने वाला नहीं बचा है।

Posted By: Sandeep Chourey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.