कोरोना के नए वेरिएंट में डेल्टा से डबल म्यूटेशन, मॉर्डना कर रहा बूस्टर डोज पर काम, जानें ताजा अपडेट

Updated: | Sun, 28 Nov 2021 09:39 AM (IST)

New Covid-19 Variant: साउथ अफ्रीका में मिले कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से दहशत का माहौल है। भारत में भी इसे लेकर सरकार अलर्ट मोड पर आ चुकी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को हाई लेवल मीटिंग की। वहीं दिल्ली सरकार ने विशेषज्ञों से सुझाव मांगा है। इस संबंध में हार्ट और कार्डियोथोरेसिक सर्जन डॉक्टर नरेश त्रेहन ने एक न्यूज चैनल से ओमिक्रॉन से जुड़े सवालों के जवाब दिए हैं।

ओमिक्रॉन में 30 से ज्यादा म्यूटेशन

डॉक्टर नरेश त्रेहन ने कहा कि ओमिक्रॉन वेरिएंट साउथ अफ्रीका, बेल्जियम, हांगकांग, बोत्सवाना समेत कई देशों में तेजी से फैल रहा है। यह कोरोना के डेल्टा वेरिएंट्स से ज्यादा खतरनाक है। ओमिक्रॉन में 30 से ज्यादा म्यूटेशन पाए गए हैं। जबकि डेल्टा में 15 म्यूटेशन मिले थे। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे वेरिएंट ऑफ कंसर्न की कैटेगरी में रखा है। उन्होंने कहा कि लोग वैक्सीन पर निर्भर न रहें। कोविड से बचाव के नियमों का पालन करते रहें। त्रेहन ने कहा, 'इस नए वेरिएंट का पता आरटीपीसीआर से लगाया जा सकता है।'

बेंगलुरु में दक्षिण अफ्रीकी नागरिक मिले कोरोना संक्रमित

बेंगलुरु के केंपगौड़ा इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर दक्षिण अफ्रीका के दो नागरिकों के कोरोना वायरस से संक्रमित मिले। उपायुक्त के. श्रीनिवास ने कहा कि इन दोनों के नमूने को आगे की जांच के लिए भेजे गए हैं। जिसकी रिपोर्ट आने में 48 घंटे लगेंगे। उसके बाद ही पता चलेगा कि ओमीक्रोन वेरिएंट से संक्रमित हैं या नहीं। तब तक के लिए इन्हें क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया है। हालांकि, देर रात समाचार एजेंसी एएनआई ने श्रीनिवास के हवाले से कहा है कि दोनों लोगों के डेल्टा वैरिएंट से संक्रमित होने की पुष्टि हो गई है।

मॉडर्ना कर रहा बूस्टर डोज पर काम

इधर अमेरिका दवा कंपनी मॉडर्ना ने कहा कि कोरोना वायरस के वेरिएंट में बदलाव की आशंका से पहले दो बूस्टर डोज पर काम कर रही है। वहीं फाइजर और उसकी जर्मन सहयोगी बायोएनटेक ने शनिवार को एक बयान जारी कर कहा, 'उन्हें यह भरोसा नहीं है कि उनकी वैक्सीन ओमीक्रोन के खिलाफ प्रभावी होगी या नहीं।' कंपनी ने वादा किया है कि वह 100 दिन में इस नए वेरिएंट के खिलाफ वैक्सीन विकसित कर देगी।

ओमीक्रॉन को रोकने बढ़ी सक्रियता

ओमीक्रॉन को लेकर विश्वभर में तनाव बढ़ गया है। दक्षिणी अफ्रीकी देशों के लिए उड़ानों पर पाबंदी लगाने वाले देशों की संख्या बढ़ती जा रही है। यूरोपीय संघ के सदस्य देशों के साथ ब्रिटेन ने सात अफ्रीकी देशों के लिए उड़ानों पर एक दिन पहले ही पाबंदी लगा दी थी। अब आस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, सऊदी अरब, ईरान, जापान थाइलैंड, श्रीलंका, पाकिस्तान, बांग्लादेश और अमेरिका समेत अन्य कई देश भी इसमें शामिल हो गए हैं।

Posted By: Sandeep Chourey