Congress: मल्लिकार्जुन खड़गे और शशि थरूर ने भरे नामांकन, क्या बदलने वाली है दिग्विजय सिंह की भूमिका

Congress President Elections: मल्लिकार्जुन खड़गे राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष के पद से इस्तीफा देंगे। अब यह जिम्मेदारी दिग्विजय सिंह को सौंपी जाएगी। मल्लिकार्जुन खड़गे गांधी परिवार के करीबी रहे हैं। पढ़िए लाइव अपडेट और जानिए दिनभर का हाल

Updated: | Fri, 30 Sep 2022 05:26 PM (IST)

Congress President Elections: कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख पर दो बड़े नेताओं के नामांकन दाखिल हुए। अध्यक्ष पद के लिए अब मल्लिकार्जुन खड़गे और शशि थरूर के बीच मुकाबला होगा। शुक्रवार को यह खबर चौंकाने वाली रही कि अशोक गहलोत के बाद अब दिग्विजय सिंह भी अध्यक्ष पद की रेस से बाहर हो गए। इसके बाद मल्लिकार्जुन खड़गे का कांग्रेस अध्यक्ष बनना लगभग तय है। मल्लिकार्जुन खड़गे राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष के पद से इस्तीफा देंगे। अब यह जिम्मेदारी दिग्विजय सिंह को सौंपी जाएगी। मल्लिकार्जुन खड़गे गांधी परिवार के करीबी रहे हैं।

अब तक की स्थिति के मुताबिक, उनका मुकाबला शशि थरूर से होगा। पवन बंसल ने भी नामांकन पत्र खरीदा है। हालांकि नामांकन पत्र खरीदने का मतलब यह नहीं है कि उक्त नेता अध्यक्ष पद का चुनाव लड़े ही। कुल मिलाकर आज रात तक स्थिति स्पष्ट हो जाएगी कि मुकाबला किन-किन नेताओं के बीच होगा। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरुवार को ऐलान किया था कि वे अध्यक्ष पद का चुनाव नहीं लड़ेंगे। इसके बाद से मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के अध्यक्ष बनने की संभावना बढ़ गई थी।

Congress President Elections: LIVE Updates

थरूर ने नामांकन दाखिल कर दिया है। अब उनका मुकाबला मल्लिकार्जुन खड़गे से होगा। देखिए नामांकन दाखिल करने की तस्वीरें

दिग्विजय सिंह ने बड़ा ऐलान किया कि वे कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव नहीं लड़ेंगे। बकौल दिग्विजय सिंह, मल्लिकार्जुन खड़गे मेरे नेता हैं। मैं उनका प्रस्ताव बनूंगा।

समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक, मल्लिकार्जुन खड़गे भी आज नामांकन दाखिल करेंगे। यह सूचना सामने आने के बाद दिग्विजय सिंह ने मल्लिकार्जुन खड़गे से उनके घर जाकर मुलाकात की। नामांकन पत्र लेने के बाद दिग्विजय सिंह लगातार पार्टी के बड़े नेताओं से मिल रहे हैं।

फोटो: नामांकन भरने से पहले शशि थरूर राजघाट पहुंचे। यहां थरूर ने कहा कि वे आज नामांकन दाखिल कर रहे हैं। दिग्विजय सिंह की दावेदारी पर थरूर ने कहा कि हम एक ही विचारधारा के लोग हैं। हमारा मकसद पार्टी को मजबूत करना है।

G-23 के नेताओं ने भी की बैठक

कांग्रेस में जारी हलचल के बीच G-23 ने भी हरकत में आ गए हैं। बीती रात दिल्ली में आनंद शर्मा के निवास पर इन नेताओं की बैठक हुई। बैठक में क्या चर्चा हुई यह तो नहीं बताया गया, लेकिन बैठक से बाहर आने के बाद मनीष तिवारी ने कहा कि नामांकन लेने, जमा करने और स्वीकार होने में काफी समय बीत जाता है। वहीं बैठक में शामिल महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा, लोकतांत्रिक तरीके से चुनाव हो रहे हैं। इसके के लिए सोनिया गांधी को धन्यवाद है। देखते हैं कौन नामांकन दाखिल करेगा। हमने कुछ नाम सुने हैं। हम मैदान में सर्वश्रेष्ठ उम्मीदवार का समर्थन करेंगे।

कांग्रेस के 137 साल के इतिहास में ऐसा यदा-कदा ही हुआ है कि अध्यक्ष पद के चुनाव में रोमांचक मुकाबला देखने को मिले। अधिकांश समय गांधी परिवार का कब्जा रहा, जिनके सामने कोई उम्मीद खड़ा नहीं होता था। कांग्रेस का इतिहास खंगालने से पता चलता है कि अध्यक्ष पद के लिए कड़ी टक्कर वाला पहला मुकाबला 1939 में हुआ था। तब अध्यक्ष पद के लिए सुभाष चंद्र बोस और पट्टाभि सीतारमैया खड़े हुए थे। सीतारमैया को महात्मा गांधी समेत कांग्रेस के शीर्ष नेताओं का समर्थन प्राप्त था लेकिन बोस जीत गए थे।

Posted By: Arvind Dubey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.