दिवाली पर अयोध्या में होगा ड्रोन शो, हवा में उड़ते 500 ड्रोन बताएंगे भगवान राम की कहानी

Updated: | Thu, 23 Sep 2021 11:58 PM (IST)

दीपावली के त्योहार में इस साल अयोध्या में कुछ खास अंदाज में जश्म मनाया जाएगा। दीपोत्सव के दौरान पहली बार योगी आदित्यनाथ सरकार एक अनोखे 'एरियल ड्रोन शो' का आयोजन कर रही है। अयोध्या में 3 नवंबर को दिवाली की पूर्व संध्या पर लगभग 500 ड्रोन उड़ेंगे और अयोध्या के आसमान को रोशन करेंगे। ये ड्रोन 10-12 मिनट तक हवा में रहेंगे। इसी तरह के एक आयोजन में टोक्यो ओलंपिक खेलों में, इंटेल ने ओलंपिक के चेकर प्रतीक बनाने के लिए 1,824 ड्रोन को आकाश में लॉन्च किया था।

उत्तर प्रदेश सरकार चाहती है कि अयोध्या में भगवान राम की वापसी की कहानी और रामायण को पूरी तरह से एनीमेशन में दिखाने के लिए एक एजेंसी हवाई ड्रोन शो करे। इस संबंध में यूपी सरकार के एक प्रस्ताव में कहा गया है, "एजेंसी से नवीनतम तकनीक के साथ अंतरराष्ट्रीय मानकों के प्रदर्शन की उम्मीद की जाती है।"

हाई टेक ड्रोन का होगा इस्तेमाल

उपयोग किए जाने वाले ड्रोन क्वाडकॉप्टर या मल्टी-रोटर्स होंगे जिनमें बिल्ट-इन एलईडी होंगे जो 12 मीटर प्रति सेकंड की हवा की गति के साथ 400 मीटर तक उड़ सकते हैं और उच्च इनमें लगा भी जीपीएस भी बहुत हाईटेक है। ड्रोन के जरिए समय अंतराल के साथ दृश्यों की कुशल और प्रभावशाली मॉर्फिंग की जाएगी और उनके टेक-ऑफ और लैंडिंग के लिए तय क्षेत्र में बैरिकेडिंग भी की जाएगी।

यूपी सरकार ने जारी किया टेंडर

इंटेल ने टोक्यो ओलंपिक में ड्रोन शो किया था। यह कंपनी कोचेला से सुपर बाउल तक लैंडमार्क ड्रोन शो कर चुकी है और इसमें इंजीनियरों, एनिमेटरों और फ्लाइट क्रू की एक पेशेवर टीम है, जो इंटेल के अनुसार शो को उत्कृष्ट रूप से बनाते और संचालित करते हैं। 50-ड्रोन के शो के लिए इंटेल लगभग 3 लाख डॉलर (1.8 करोड़ रुपये) चार्ज करता है। इस हिसाब से योगी सरकार को लगभग 18 करोड़ रुपये खर्च करने पड़ेंगे। यूपी सरकार ने इसके लिए इच्छुक एजेंसियों को आमंत्रित करने के लिए टेंडर जारी किया है।

कुल 35 मिनट का होगा शो

एरियल ड्रोन शो इस साल अयोध्या में राम की पैड़ी की इमारतों के 3-डी होलोग्राफिक शो, 3-डी प्रोजेक्शन मैपिंग और लेजर शो के साथ प्रदर्शित होगा, जैसा कि पहले के वर्षों में 'दीपोत्सव' के दौरान हुआ था। एरियल ड्रोन शो सहित सभी शो की कुल लंबाई 35 मिनट होगी, जिसमें 3-डी होलोग्राफिक शो के लिए 8 मिनट और 3-डी प्रोजेक्शन मैपिंग शो के लिए 10 मिनट शामिल हैं। आयोजन से एक दिन पहले सभी शो का ट्रायल रन किया जाएगा।

Posted By: Shailendra Kumar