HamburgerMenuButton

EPF New Rule 2021: एक अप्रैल से बदलने वाले हैं ईपीएफ के नियम, यह होगा आप पर असर

Updated: | Thu, 25 Feb 2021 07:32 PM (IST)

EPF New Rule 2021: देश में एक अप्रैल 2021 को करोड़ों कर्मचारियों के लिए बड़ा बदलाव होने जा रहा है। दरअसल इस दिन पीएफ से जुड़ा एक नया नियम लागू होने वाला है। यह नियम उन्हें अधिक प्रभावित करेगा, जिनकी इनकम अधिक है और ईपीएफ खाते में कॉन्ट्रीब्यूशन ज्यादा करते हैं। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने इस बार बजट में घोषणा की थी कि जिन लोगों का पीएफ में सालाना योगदान 2.5 लाख रुपए से ज्यादा है। वह मिलने वाले ब्याज पर टैक्स छूट के दायरे से बाहर आएंगे। सरकार का दावा है कि नए नियम के लागू होने से 1 प्रतिशत से भी कम कर्मचारी प्रभावित होंगे। व्यय सचिव टी.वी. सोमनाथन का कहना है कि जो कर्मचारी 2.5 लाख से अधिक का योगदान कर रहे हैं। उनकी संख्या कुल योगदान करने वालों का एक प्रतिशत से कम है। ईपीएफओ के अंशधारकों की संख्या 6 करोड़ है। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के नए नियम के पीछे मकसद सरकार का राजस्व घाटे से उभरना है। सरकार के इस फैसला से वहीं कर्मचारी ज्यादा प्रभावित होंगे जिनकी सालाना इनकम 20.83 लाख रुपए से अधिक है। हालांकि इस नए नियम के लागू होने के बाद पैसे जमा करने वालों की संख्या में कमी देखने को मिल सकती है, क्योंकि पीएफ खाते में ज्यादा ब्याज और इनकम टैक्स में छूट के चलते लोग इंवेस्ट करते हैं। ईपीएफ खाते में केवाईसी की जांच कैसे करें? यह सत्यापित करने के लिए 3 तरीके हैं कि आपका EPF खाता KYC स्वीकृत है या नहीं। पहला आपके यूएएन कार्ड को सत्यापित करके। UAN का अर्थ है यूनिवर्सल अकाउंट नंबर। वाया यूएएन कार्ड विजिट सदस्य ई-सेवा पोर्टल और अपने खाते में प्रवेश करें अब 'देखें' मेनू के तहत, 'यूएएन कार्ड' विकल्प पर क्लिक करें यूएएन कार्ड आपके ईपीएफ खाते में केवाईसी होने पर 'हां' का संकेत देगा।

ईपीएफओ व्हाट्सएप हेल्पलाइन सेवा घर बैठे आपकी शिकायतों का समाधान करेगी

लाखों भविष्य निधि ग्राहकों के लिए अच्छी खबर है। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) ने अपने ग्राहकों की शिकायत निवारण के लिए एक व्हाट्सएप हेल्पलाइन नंबर शुरू किया। यह ईपीएफओ के शिकायत निवारण मंचों के विभिन्न अन्य साधनों के अतिरिक्त है। ईपीएफआईजीएमएस पोर्टल, सीपीजीआरएएमएस और एक समर्पित 24x7 कॉल सेंटर के अलावा, पीएफ खाताधारक अब व्हाट्सएप हेल्पलाइन नंबर के माध्यम से अपनी समस्याओं का समाधान पा सकते हैं। इस सुविधा के माध्यम से, पीएफ ग्राहक ईपीएफओ के क्षेत्रीय कार्यालयों के साथ सीधे बातचीत कर सकते हैं और एक-से-एक मार्गदर्शन प्राप्त कर सकते हैं। सभी क्षेत्रीय कार्यालयों के समर्पित व्हाट्सएप हेल्पलाइन नंबर ईपीएफओ की आधिकारिक वेबसाइट के होमपेज पर उपलब्ध हैं।

ईपीएफ नियम 1 अप्रैल, 2021 से बदलेगा, जानिये इसके बारे में विस्‍तार से

ईपीएफ या कर्मचारी भविष्य निधि एक सामाजिक लाभ योजना शुरू की गई थी, जिसके लिए कर्मचारी और नियोक्ता दोनों मूल वेतन और महंगाई भत्ते का 12 प्रतिशत योगदान करते हैं। वित्त मंत्री द्वारा घोषित केंद्रीय बजट 2021 में, नई कर सीमा रखी गई है। और पीएफ में योगदान के लिए रु। एक वर्ष में 2.5 लाख, इस पर मिलने वाला ब्याज अब कर निहितार्थ होगा।

ईपीएफ अंशदान पर 2.5 लाख रु. कर क्यों?

सरकार को पहले से ही राजस्व की कमी का सामना करना पड़ रहा है और समग्र अर्थव्यवस्था के उत्थान के लिए इसकी बड़ी भूमिका है। क्लियरटैक्स के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी अर्चित गुप्ता के अनुसार इसकी पुनरावृत्ति के बीच, "भविष्य निधि पर कर मुक्त ब्याज का भुगतान करना अधिक से अधिक अस्थिर हो जाता है सरकार अपने पीएफ खातों में अधिक योगदान करने वाले स्वयं से उच्च आय वालों पर अंकुश लगाना चाहती है।

हम इस कदम से कैसे प्रभावित होंगे?

आम तौर पर उच्च आय कमाने वालों को वार्षिक आय रु। 20.83 प्रति वर्ष बड़े पैमाने पर मारा जाएगा। यहाँ क्या ध्यान दिया जाना चाहिए कि उक्त कर निहितार्थ के लिए केवल कर्मचारी के योगदान को ध्यान में रखा जाता है न कि नियोक्ता के घटक को।

मौजूदा शासन में ईपीएफ टैक्स नियम

वर्तमान में ईपीएफ पर ब्याज वर्तमान में कर निहितार्थ से मुक्त है। इसलिए, नए शासक वेतनभोगी वर्ग के अनुसार या तो अच्छा वेतन कमाते हैं या फंड में अधिक योगदान करते हैं, ब्याज घटक पर कर निहितार्थ निकालेंगे (यदि कर्मचारी का योगदान एक वर्ष में 2.5 लाख रुपये से अधिक है)।

ईपीएफ के लिए क्या बदलाव होगा?

मुख्य रूप से EPF खाते में बड़ा योगदान देने वालों को भी प्रभावित किया जाएगा। वित्त मंत्री ने कहा, "बड़े टिकट का पैसा जो फंड में आता है और टैक्स बेनिफिट के साथ ही 8% रिटर्न के बारे में भी बताया जाता है। इस प्रकार यह कदम बड़े कर मुक्त ब्याज पर अपना ध्यान केंद्रित करता है जो कि निकासी पर कर नहीं था।

ईपीएफओ में 24% का इजाफा

दिसंबर में 1.25 मिलियन श्रमिकों के साथ औपचारिक नौकरी सृजन हुआ, कर्मचारी भविष्य निधि संगठन में जोड़ा गया, दिसंबर 2019 की तुलना में 24% की वृद्धि हुई जबकि 1.20 मिलियन कर्मचारी राज्य बीमा निगम के तहत जोड़े गए, जो कि वित्त वर्ष में सबसे अधिक है। दिसंबर में औपचारिक नौकरी सृजन की तारीख, जो आर्थिक गतिविधियों में वृद्धि के साथ पुष्टि करती है, पिछले साल सरकार द्वारा निकाली गई नौकरी क्रेटाओन प्रोत्साहन की पीठ पर हो सकती है और नौकरी की संख्या कम हो सकती है।

यदि अभी तक आपको ब्याज नहीं मिला है तो ये हो सकता है कारण

अपने खाते को सक्रिय रखने और सभी ऑनलाइन सेवाओं का लाभ उठाने के लिए यह अनिवार्य है कि आप अपने ईपीएफ खाते को केवाईसी का अनुपालन करें। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के सदस्य ई-सेवा पोर्टल पर आपके खाते केवाईसी के अनुरूप नहीं होने की स्थिति में आप ऑनलाइन विभिन्न सुविधाओं का लाभ नहीं उठा पाएंगे। ईपीएफओ आपके द्वारा जारी सेवा अनुरोध को अस्वीकार कर देगा और आपसे अनुरोध करेगा कि यदि यह अभी तक नहीं हुआ है तो आप अपने खाते को केवाईसी का अनुपालन करें। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के नवीनतम अपडेट के अनुसार, यह पुष्टि की गई है कि अधिकांश ग्राहकों को अभी तक पिछले वित्तीय वर्ष का ब्याज नहीं मिला है और इसका कारण केवल केवाईसी अधूरा है। ईपीएफओ ने मार्च में भविष्य निधि जमा पर ब्याज दर को घटाकर 2019-20 के लिए 8.5 प्रतिशत कर दिया है। इस प्रकार, ईपीएफ ब्याज प्राप्त करने के लिए सरकार ने सभी ग्राहकों के लिए ईपीएफ खाता केवाईसी के अनुरूप बनाना अनिवार्य कर दिया है।

- ईपीएफ केवाईसी अपडेट आप केवाईसी को ऑनलाइन अपडेट करने के लिए नीचे दिए गए चरणों का पालन कर सकते हैं यदि आपने पिछले वित्तीय वर्ष का ब्याज नहीं लिया है।

- Https://unifiedportal-mem.epfindia.gov.in/memberinterface पर जाएं और 'मैनेज' टैब के तहत और 'केवाईसी' विकल्प पर क्लिक करें। अब केवाईसी दस्तावेजों को चुनें जिसे आप अपलोड करना चाहते हैं।

- कृपया याद रखें कि ऑनलाइन दावों के प्रसंस्करण के लिए अपने आधार को यूएएन के साथ जोड़ना अनिवार्य है।

- इसी तरह, निकासी के समय यदि रोजगार के वर्षों की संख्या 5 से कम है, तो पैन भी अनिवार्य है। अब संबंधित दस्तावेजों का चयन करने के बाद, आवश्यक फ़ील्ड में दस्तावेज़ संख्या और अन्य बारीकियों को दर्ज करें।

- उदाहरण के लिए यदि आपने आधार का चयन किया है, तो आपको अपने आधार नंबर को अपने आधार नंबर के अनुसार दस्तावेज संख्या और नाम के रूप में दर्ज करना होगा। अब 'सेव' पर क्लिक करें और 'केवाईसी पेंडिंग फॉर अप्रूवल' मेनू के तहत, आपकी केवाईसी स्थिति प्रदर्शित की जाएगी।

- याद रखें कि आपको अपने नियोक्ता को अपलोड किए गए केवाईसी दस्तावेज जमा करने होंगे। नियोक्ता द्वारा आपके केवाईसी दस्तावेजों को सत्यापित और पुष्टि किए जाने के बाद आपकी केवाईसी बारीकियों को ईपीएफओ के रिकॉर्ड पर अपडेट किया जाएगा।

- केवाईसी रिकॉर्ड आपके नियोक्ता द्वारा अनुमोदित किए जाने के बाद आपको अपने पंजीकृत मोबाइल नंबर पर एक एसएमएस भी मिलेगा। आपके द्वारा अपने नियोक्ता को प्रस्तुत किए गए दस्तावेजों की स्थिति केवाईसी टैब के तहत 'डिजिटल स्वीकृत केवाईसी' अनुभाग में प्रदर्शित की जाएगी।

- आपके केवाईसी अनुमोदित दस्तावेज़ ईपीएफओ पोर्टल पर 'स्थापना द्वारा अनुमोदित' और 'ऑनलाइन सत्यापन स्थिति' के रूप में प्रदर्शित किए जाएंगे। केवाईसी विवरण को अपडेट करने वाले व्यक्तियों को यह याद रखना चाहिए कि उनके द्वारा जो भी विवरण प्रस्तुत किया जा रहा है वह सटीक है।

- यदि आपका बैंक खाता नंबर या IFSC आपके UAN के साथ लिंक है, तो आप अपना EPF कॉर्पस वापस नहीं ले सकते।

Posted By: Navodit Saktawat
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.