HamburgerMenuButton

जुलाई में EPFO से जुड़े 8.45 लाख कर्मचारी, जानिए क्यों है यह अच्छी खबर

Updated: | Sat, 26 Sep 2020 09:28 AM (IST)

EPFO New Enrolments: कोरोना काल में कर्मचारी भविष्यनिधि संगठन (EPFO) ने अपने अंशधारकों की खूब मदद की। EPFO से मिले ताजा आंकड़े राहत की सांस देने वाले हैं। खबर यह है कि जुलाई में EPFO से जुड़े वाले नए खाताधारकों की संख्या 8.45 लाख रही। यह जून 2020 के 4.82 नए खाताधारकों से कहीं अधिक है। EPFO इसे रोजगार के लिहाज से अच्छी खबर के रूप में देख रहा है। यानी लोगों को अब नौकरियां मिलने लगी हैं और वे EPFO का हिस्सा बन रहे हैं।

बता दें, EPFO का हर माह औसत रजिस्ट्रेशन करीब 7 लाख रहता है। ताजा पेरोल आंकड़ों के अनुसार, 2019-20 में नए खाताधारकों की संख्या बढ़कर 78.58 लाख रही जो पिछले साल 61.12 लाख थी। मालू हो, EPFO नए सब्सक्राइबर्स का आंकड़ा अप्रैल 2018 से जारी कर रहा है।

EPFO के अनुसार, इस साल फरवरी में 10.21 लाख कर्मचारी संगठन से जुड़े थे। कोरोना महामारी के प्रकोप के कारण यह संख्या मार्च में घटकर 5.72 लाख रह गई थी। EPFO के पेरोल यानी नियमित वेतन पर नौकरी करने वाले कर्मचारियों के मामेल में जून में 6.55 लाख रजिस्ट्रेशन की बात कही गई थी। इस आंकड़े को अब सुधार कर 4,82,352 कर दिया गया है। मई 2020 में जारी पेरोल आंकड़ों के मुताबिक, EPFO के पास शुद्ध रूप से रजिस्ट्रेशन मार्च 2020 में घटकर 5.72 लाख पर आ गया जो फरवरी में 10.21 लाख था।

लॉकडाउन में EPFO ने की बहुत मदद

बता दें, कंपनियां अपने कर्मचारियों के वेतन से हर महीने कर्मचारी भविष्य निधि (EPF) खाते के लिए राशि की कटौती करती है। इसमें दूसरा हिस्सा कंपनी का भी होता है। EPF को PF के रूप में भी जाना जाता है। यह संगठित क्षेत्र के कर्मचारियों के लिए सरकार द्वारा स्थापित बचत योजना है।

EPFO ने इस महामारी के मद्देनजर अपने सदस्यों को पैसे निकालने के नियम में राहत प्रदान की थी। केंद्र सरकार ने मानसून सत्र के दौरान संसद में बताया कि कोरोना लॉकडाउन के दौरान 25 मार्च से लेकर 31 अगस्त के बीच EPF सदस्यों ने 39402 करोड़ रुपए निकाले।

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) अपने 6 करोड़ से अधिक अंशधारकों को बड़ा तोहफा देने जा रहा है। हाल ही में हुई EPFO सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टी की बैठक में इस बात पर सहमति बनी है कि EPF खाताधारकों की बीमा राशि में 1 लाख रुपए की वृद्धि कर दी जाए। यानी अभी जो राशि 6 लाख रुपए है, वह बढ़कर 7 लाख रुपए हो जाएगी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.