गुजरात में कोरोना महामारी में विधवाओं के पुनर्विवाह के लिए 50 हजार रु. की आर्थिक सहायता घोषित

Updated: | Mon, 02 Aug 2021 07:06 PM (IST)

अहमदाबाद। गुजरात के मुख्‍यमंत्री विजय रुपाणी ने कोरोना महामारी में अनाथ हुए बच्‍चों के साथ अपना जन्‍मदिन मनाया तथा महामारी में विधवा हुई महिलाओं के पुनर्विवाह के लिए 50 हजार रु की आर्थिक सहायता की भी घोषणा की। रुपाणी सरकार अपने 5 साल पूरे होने का उत्‍सव मना रही है, इसी के सिलसिले में रुपाणी राजकोट पहुंचे जहां विविध विकासलक्षी योजनाओं की भी शुरुआत की। मुख्‍यमंत्री विजय रुपाणी का जनम 2 अगस्‍त 1956 में म्‍यांमार के यांगुन शहर में हुआ था। 7 अगस्‍त 2016 में रुपाणी ने गुजरात के 16वीं मुख्‍यमंत्री के रूप में शपथ ली थी। अपनी सरकार के 5 साल पूरे होने के उपलक्ष में सरकार ने 1 से 9 अगस्‍त तक विविध कार्यक्रमों का आयोजन किया है। इसके तहत सोमवार को रुपाणी अपने ग्रह जिले राजकोट में संवेदना सेवासेतु कार्यक्रम में शामिल हुए तथा कोरोना महामारी में अनाथ हुए 79 बच्‍चों के साथ खाना खाकर जन्‍मदिन मनाया।

रुपाणी ने कोरोना महामारी में अपना पति खोने वाली महिलाओं के प्रति संवेदना जताते हुए गंगास्‍वरुपा पुन:लग्‍न योजना का ऐलान किया। इसके तहत ऐसी महिलाओं को विवाह के लिए सरकार 50 हजार रु की आर्थिक सहायता उपलब्‍ध कराऐगी। रुपाणी ने महामारी में पिता या माता एक अभिभावक खोने वाले बच्‍चों को भी दो हजार रु मासिक की सहायता देने का ऐलान किया। इससे पहले सरकार माता-पिता दोनों को खो देने वाले बच्‍चों के लिए 4 हजार रु मासिक सहायता का ऐलान किया था।

रुपाणी ने बताया कि सेवा सेतु कार्यक्रम से राज्‍य सरकार की 55 सेवाओं को जोडा गया है, ई सेवासेतु के जरिए अब प्रदेश के लोग सरकार के विविध प्रमाण पत्र, दस्‍तावेज, योजनओं का लाभ के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे। रुपाणी ने बताया कि समााज सुरक्षा विभाग तथा जे एम फाइनेंसियल फाउंडेशन के बीच एक करार किया गया है जिसके तहत कोरोना में निराधार हुए बच्‍चोंं की सालाना 50 हजार रु तक की फीस फाउंडेशन सीधे स्‍कूल में जमा करा देगा।

रुपाणी ने यहां कोरोना महामारी में अनाथ हुए 3963 बच्‍चों को 4 करोड 75 लाख रु की आर्थिक सहायता के वितरण की शुरुआत की तथा राजकोट महानगर पालिका के सिटीजन पोर्टल का लोकार्पण किया। समारोह में राजकोट महापौर डॉ प्रदीप डव, सांसद मोहन भाई कुंडारिया, मुख्‍यमंत्री कार्यालय में प्रधान सचिव के कैलाशनाथन, मुख्‍य सचिव अनिल मुकीम आदि भी उपस्थित रहे।

Posted By: Navodit Saktawat