Gujarat : तीन साल की मासूम का अपहरण कर दुष्‍कर्म व हत्‍या करने के आरोपी को उम्र कैद

Updated: | Wed, 01 Dec 2021 07:16 PM (IST)

अहमदाबाद। तीन साल की मासूम का अपहरण कर उसकी दूष्कर्म के बाद हत्या करने के मामले में एक सेक्स मेनियाक, सीरियल किलर विजय ठाकोर को गांधीनगर की स्थानीय अदालत ने आजीवन कैद की सजा सुनाई है। आरोपी के जूतों पर लगी मिट्टी, पीडि़ता के कपड़ों पर वीर्य के नमूनों को आधार मानते हुए अदालत ने विजय को दोषी माना तथा अंतिम श्वांस तक जेल की सजा सुनाई।

राजधानी गांधीनगर के सातेज गांव में सडक किनारे झुुग्गी झौंपडी बनाकर रहने वाले एक श्रमिक परिवार की 3 साल की मासूम बच्ची लापता हो गई थी। गुमशुदगी की तलाश के दौरान पुलिस को झाडियों में एक बच्ची का लहुलुहान हालत में शव मिला जिसकी पहचान लापता बालिका के रूप में की गई। सहायक पुलिस आयुक्त मयूर चावडा के निर्देश पर अपराध शाखा, स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप व पुलिस के करीब 150 जवानों ने मिलकर करीब 200 सीसीटीवी के फुटेज की जांच के बाद आरोपी 7 नवंबर 2021 को उसके गांव वांसजडा से धरदबोचा। विजय ने इस अपरााध के साथ दो अन्य मासूम के साथ भी दूष्कर्म व हत्या की बात कबूल की। इसके अलावा कडी व कलोल में हत्या व लूट की दो वारदातें भी उसने लूट के इरादे से करने की बात कबूल की। 15 नवंबर को ही पुलिस ने 500 पेज आरोप पत्र पेश कर दिया था। गांधीनगर सत्र अदालत के अतिरिक्त जिला न्यायाधीश एस एन सोलंकी ने बुधवार को विजय ठाकोर को दोषी मानते हुए आजीवन कैद [अंतिम श्वांस तक] की सजा सुनाई। अदालत ने विजय के क्रत्य को हैवानियत से भरा बताया।

सरकारी वकील सुनील पंड्या ने इस अपराध को अतिदुर्लभतम बताते हुए विजय को फांसी की सजा देने की मांग की थी। बाद में पंड्रया ने कहा कि सरकार फांसी की मांग को लेकर उच्च न्यायालय में अपील करेगी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दूष्कर्म के कारण पीडिता के गुप्तांग में जख्म होने तथा काफी मात्रा में खून बहने की बात कही गई है। पुलिस ने विजय के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 363,366, 302, 376, 376ए, 376बी, 449, 201 तथा लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 कानून के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था। विजय ने 10 दिन में 3 गंभीर अपराध किए। इससे पहले कड़ी एवं कलोल पुलिस थाने में महिला की हत्या व लूट की वारदात भी कर चुका था।

Posted By: Navodit Saktawat