जोधपुर के गांव में पंचों ने परिवार को समाज से किया बहिष्कृत, हुक्कापानी बन्द, यह थी वजह

Updated: | Sat, 18 Sep 2021 07:50 PM (IST)

जोधपर के निकटतर्वी पाल गांव में एक परिवार को समाज से बहिष्कृत कर हुक्कापानी बंद कर देने का मामला सामने आया है। इस परिवार के मुखिया का कसूर इतना ही था कि उसने समाज को कुरीतियों से दूर रखने के लिए आवाज उठाई। समाज को नशे व अन्य कुरीतियों से दूर करने के लिए जागरूकता की अलख जगाने से नाराज पंचों ने उसके परिवार का बहिष्कृत कर दिया। सामाजिक बहिष्कार के साथ उसका हुक्का पानी भी बंद कर दिया गया। पीडि़त ने अब पुलिस की शरण ली और केस दर्ज करवाया है। बोरानाडा पुलिस ने बताया कि घटना को लेकर पाल गांव में रहने वाले जगदीश पुत्र किशनाराम मेघवाल की तरफ से रिपोर्ट दी गई। इसमें बताया कि उसने गांव में समाज के लोगों को नशे से दूर रहने के लिए प्रयास किया था। डोडा पोस्त, अम्ल, शराब और मृत्यु भोज के त्यागने की बात की थी। मगर समाज के पंचों को यह नागवर गुजरा।

इसके बाद सात पंचों की टीम जिनमें सुरजाराम और अन्य ने मिलकर उसे समाज से बहिष्कृत कर दिया। उसके परिवार का हुक्कापानी बंद कर दिया। एक महीने तक वह पंचों के समक्ष अपनी बात रखता रहा, मगर वे नहीं माने। आखिरकार अब पीडि़त ने पुलिस को अब घटना के संबंध में समाज के पंचाों के खिलाफ रिपोर्ट दी है। बोरानाडा पुलिस ने इस संबंध में प्राथमिकी दर्ज कर ली है और मामले में जांच की जा रही है।

Posted By: Navodit Saktawat