HamburgerMenuButton

Income Tax Raid: ज्वैलर्स के यहां छापा, 1400 करोड़ की ब्लैक मनी का खुलासा, घर में बनाई थी सुरंग

Updated: | Sat, 23 Jan 2021 11:46 AM (IST)

जयपुर Income Tax Raid । राजस्थान के जयपुर शहर में तीन कारोबारी समूह में बड़ी तादाद में काले धन का खुलासा हुआ है। मिली जानकारी के मुताबिक यहां आयकर विभाग बीते चार दिन से छापे की कार्रवाई कर रहा है। सूत्रों के मुताबिक अभी तक छापे में 1400 करोड़ रुपए के काले धन के बारे में पता चला है। केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड के मुताबिक दो बिल्डर्स समूह और एक ज्वैलर्स समूह पर छापे की कार्रवाई में आयकर चोरी से संबंधित दस्तावेज बरामद किए गए हैं। साथ ही एक ज्वैलर्स के यहां से घर में सुरंग मिली है, जिसमें 14 बोरों में भरकर कई हार्ड डिस्क, सोना चांदी के अलावा बेनामी संपत्ति के सबूत रखे हुए मिले हैं।

राजस्थान में अभी तक सबसे बड़ी अघोषित आय का खुलासा

आयकर विभाग द्वारा जो कार्रवाई की जा रही है, उसमें अभी तक इतने अघोषित धन के बारे में पता चला है कि इसे अभी तक की राजस्थान की सबसे बड़ी अघोषित आय बताया जा रहा है। राजस्थान में तीनों कारोबारियों के 20 जगहों पर छापे की कार्रवाई चल रही है और 11 से ज्यादा ठिकानों पर बड़े पैमाने पर सर्वे व डाटा जब्त करने का काम विभाग द्वारा किया जा रहा है। छापे की कार्रवाई में एक बिल्डर्स एवं डेवलपर्स के पिछले 6-7 वर्षों के बेहिसाब लेन-देन की पूरी जानकारी प्राप्त हुई है।

इस समूह के मुख्य व्यावसायिक परिसर से कई रजिस्टर, स्लिप पैड, दैनिक कैश बुक, तहखाने में छिपाई गई व्यय पत्रक और डायरियों को जब्त किया गया है। इसके अलावा जेम्‍स एंड ज्वैलरी का कारोबार करने वाले व्यापारी के यहां से प्रीसियस और सेमी प्रीसियस स्टोन्स, सोने-चांदी की ज्वैलरी, एंटीक आभूषण, हस्तशिल्प, कालीन और कपड़ों का भंडारण मिला है। इसकी आय के सोर्स के बारे में भी पता किया जा रहा है। इसके ठिकानों से 525 करोड़ रुपए की अघोषित संपत्ति के दस्तावेज भी बरामद किए जा चुके हैं।

कंपनी खरीदी 133 करोड़ में, आय दिखाई 1 लाख रुपए

इसमें आयकर चोरी का खुलासे का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जिस ग्रुप ने 133 करोड़ रुपए की कंपनी खरीदी है, वह आयकर रिटर्न में अपनी आय मात्र 1 लाख रुपए ही दिखा रहा है। वहीं, ग्रुप द्वारा 250 करोड़ रुपए की जमीन का कारोबार करने के दस्तावेज भी विभाग के अधिकारियों द्वारा बरामद कर लिए गए हैं। इस ग्रुप द्वारा 19 करोड़ रुपए से ज्यादा का हुंडी का कारोबार करने के दस्तावेज मिले हैं, वहीं 25 करोड़ रुपए का नकद लेन-देन भी किया गया है।

Posted By: Sandeep Chourey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.