HamburgerMenuButton

Womens Day 2021 पर इन तरीकों से करें निबंध और भाषण की तैयारी

Updated: | Sun, 07 Mar 2021 07:43 PM (IST)

Women's Day 2021 : हर साल 8 मार्च को मनाया जाता है। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस एक वैश्विक दिवस है जो महिलाओं की सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक उपलब्धियों का जश्न मनाता है। यह दिन लैंगिक समानता में तेजी लाने के लिए कार्रवाई का भी संकेत है। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस एक ऐसा दिन है जो पूरे इतिहास और दुनिया भर में महिलाओं की उपलब्धियों को सम्मानित करने के लिए समर्पित है, और आमतौर पर सभी अलग-अलग पृष्ठभूमि और संस्कृतियों की महिलाओं के लिए एक दिन है जो लिंग समानता के लिए लड़ने के लिए एक साथ आते हैं। 8 मार्च को देश भर में इंटरनेशनल वूमंस डे मनाया जाएगा। कई कंपनियों, संस्‍थाओं, सरकारी और प्राइवेट ऑफिस के अलावा रहवासी सोसायटी, दोस्‍तों के बीच, क्‍लास में, स्‍कूल और कॉलेजों में इवेंट किए जाएंगे। महिलाओं का महत्‍व बताने वाले निबंध और आलेख लिखे जाएंगे। इसके लिए स्‍टूडेंट्स, टीचर्स और पेरेंट्स भी तैयारी कर रहे हैं। यहां हम आपको बताने जा रहे हैं वूमंस डे के लिए शार्ट स्‍पीच, निबंध और इवेंट थीम के कुछ तरीके जो आपको काम आएंगे। अगर आप भी कहीं ऐसे ही किसी इवेंट में शामिल होने जा रहे हैं या आयोजित करने जा रहे हैं तो ध्‍यान से पढ़ें।

हम 8 मार्च को महिला दिवस क्यों मनाते हैं?

1914 में, जर्मनी में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च को आयोजित किया गया था, संभवतः क्योंकि वह दिन रविवार था, और अब यह हमेशा 8 मार्च को सभी देशों में आयोजित किया जाता है। जर्मनी में 1914 का दिन महिलाओं के मतदान के अधिकार के लिए समर्पित था, जिसे जर्मन महिलाओं ने 1918 तक नहीं जीता था। इस वर्ष महिला दिवस की थीम 'चूज टू चैलेंज' है, जिसका अर्थ है कि प्रत्येक व्यक्ति हमारे अपने कार्यों और विचारों के लिए जिम्मेदार है। विषय, आगे विस्तृत है कि चुनौती से परिवर्तन आता है। एक लिंग पूर्वाग्रह और असमानता को बाहर कर सकता है। महिलाओं की उपलब्धियों का पता लगाने और उन्हें मनाने के लिए। हम सब मिलकर एक समावेशी दुनिया बना सकते हैं।

स्‍पीच के लिए इन विषयों का करें चयन

1. महिला दिवस हर साल मार्च महीने की 8 तारीख को ही क्‍यों मनाया जाता है।

2. विश्‍व के हर देश में इंटरनेशनल वूमंस डे मनाने की पहल इस महिला ने की थी

3. एजुकेशन के क्षेत्र में महिलाओं को आगे बढ़ने में मदद

4. देश में नारी को देवी का दर्जा, बावजूद होती है अपराधों, हिंसा की शिकार

5. एक समय था जब 8 की बजाय 19 मार्च को होता था अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस

6. अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की नींव मतदान के अधिकार को लेकर रखी गई थी

अपनी स्‍पीच में भूमिका में यह बात कहें

आज अंतरराष्‍ट्रीय महिला दिवस है। यह देश व दुनिया में महिलाओं के अधिकारों की समानता को लेकर राजनीतिक और सामाजिक स्तर पर मनाया जाता है। दुनिया में पहली बार इस तरह का कोई दिवस वर्ष 1900 में मनाया गया था। यानी आज हम इसके 120वें वर्ष के आयोजन में शामिल हो रहे हैं। पहले इसकी तारीख कुछ और थी, लेकिन 8 मार्च की महिला दिवस की पहचान है। यह किसी भी संस्‍था या कंपनी तक सीमित नहीं है, बल्कि इसे व्‍यापक पैमाने पर सरकारी, गैर-सरकारी, कार्पोरेशन, बोर्ड आदि द्वारा मनाया जाता है। शहरों में महिलाओं के सामाजिक योगदान को रेखांकित करने वाली रैलियों, पैदल मार्च, पेटिंग, रंगोली, ड्राइंग, आर्ट गैलरी आदि आयोजन किए जाते हैं। स्‍कूलों, कॉलेजों, संस्‍थानों व निकायों में भाषण व निबंध के आयोजन होते हैं। महिला दिवस के आयोजन का मुख्‍य मकसद महिलाओं की सुरक्षा एवं उनकी शिक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य, करियर और अधिकारों के लिए अवसरों की तलाश है।

Women's Day वूमंस डे को लेकर याद रखने योग्‍य बातें :

- International Women's Day अंतरराष्‍ट्रीय महिला दिवस को सबसे पहली बार वर्ष 1911 में आधिकारिक रूप से पहचान मिली थी।

- इसके बाद वर्ष 1975 में United Nations यूनाइटेड नेशन्‍स (संयुक्‍त राष्‍ट्र) ने अंतरराष्‍ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च को मनाना शुरू किया।

- 1908 में न्‍यूयार्क में कपड़ा श्रमिकों ने हड़ताल कर दी थी। उनके समर्थन में महिलाएं खुलकर सामने आईं थीं। उन्‍हीं के सम्‍मान में 28 फरवरी 1909 के दिन अमेरिका में पहली बार सोशलिस्‍ट पार्टी के आग्रह पर महिला दिवस मनाया गया था।

- 1910 में महिलाओं के ऑफिस की नेता कालरा जेटकीन ने जर्मनी में इंटरनेशनल वूमंस डे मनाए जाने की मांग उठाई थी। इस महिला का सुझाव था कि दुनिया के हर देश को एक दिन महिलाओं को आगे बढ़ाने के लिए मनाना चाहिये।

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2021 भाषण और निबंध

1. अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस हर साल 8 मार्च को मनाया जाता है। यह उन महिलाओं की प्रशंसा करने का दिन है जो व्यक्तिगत और पेशेवर लक्ष्यों को पूरा करने के लिए हर दिन कड़ी मेहनत करती हैं। इस दिन को देखने के लिए दुनिया भर में आंदोलनों या मार्च सहित विभिन्न कार्यक्रम होते हैं। कुछ ऐसे देश हैं जहां महिलाओं के साथ समान व्यवहार नहीं किया जाता है, इसलिए, इन देशों में महिलाओं की मुक्ति के लिए विरोध प्रदर्शन किए जाते हैं। कई लोगों के लिए, महिलाओं की भूमिका केवल घरेलू कामों तक ही सीमित है। हालांकि, इसे बदलने की जरूरत है क्योंकि महिलाओं को पुरुषों की तरह हर चीज में समान स्वतंत्रता और अवसर मिलते हैं। दुनिया लैंगिक समानता की ओर बढ़ रही है। यह पुरुषों और महिलाओं दोनों के बीच संतुलन की ओर बढ़ रहा है। एक बदलाव आवश्यक है और आवश्यक भी है। यह देखा गया है कि उम्र के मुकाबले महिलाओं की तुलना में पुरुषों को जीवन के हर क्षेत्र में अधिक लाभ हुआ है। हालांकि, इसमें बदलाव की जरूरत है क्योंकि हम सभी इंसान हैं और समान अधिकारों और अवसरों के साथ समान व्यवहार किया जाना चाहिए। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर, हर कोई अपने जीवन में महिलाओं की सराहना करता है। हर कोई अपने जीवन में महिलाओं के मूल्य और महत्व को स्वीकार करता है, और समाज में भी उनका जबरदस्त योगदान है।

2. पेशेवर जीवन या निजी जीवन में रहें, महिलाओं को मनाना हर महिला के जीवन में दायित्व है। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस हर साल 8 मार्च को मनाया जाता है। अधिकांश देशों में, इस दिन को राष्ट्रीय अवकाश के रूप में मनाया जाता है। शांति, न्याय, समानता और विकास के अपने संघर्ष को याद करने के लिए देश भर की महिलाएं विभिन्न सांस्कृतिक और जातीय समूहों से सभी सीमाओं को पार करती हैं। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस सभी को आत्म-महसूस करने और क्षमता के अनुसार लक्ष्यों को प्राप्त करने के बारे में है। इसके अलावा, महिलाओं को एक जबरदस्त सुधार करने के लिए जीवन के सभी क्षेत्रों में सभी बाधाओं को पार करने का साहस जुटाना चाहिए। यह समाज में एक सामान्य मिथक है कि महिलाओं से संबंधित मुद्दे कोई बड़ी बात नहीं हैं। कई लोगों का मानना ​​है कि समाज में लिंग अंतर मौजूद नहीं है और व्यक्तियों द्वारा किए गए प्रयास पर्याप्त नहीं हैं और लिंग अंतर में कोई बदलाव नहीं ला सकते हैं। महिला दिवस समाज को यह एहसास दिलाने के बारे में है कि प्रत्येक व्यक्ति को अलग तरीके से काम करना होगा और समाज को बेहतर भविष्य की ओर बदलना होगा।

3. अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस हर साल 8 मार्च को मनाया जाता है। यह उन महिलाओं को मनाने का दिन है जो व्यक्तिगत और व्यावसायिक लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए हर दिन कड़ी मेहनत करती हैं। यह एक ऐसा दिन है जब दुनिया भर में एक्टिविस्ट्स, मूवमेंट और मार्च होते हैं। दुनिया भर में, यह सबसे अधिक बदलावों के साथ आए दिन है। विरोध करने का एक कारण दुनिया भर की महिलाओं की मुक्ति है। कुछ ऐसे देश हैं जहाँ महिलाओं को समान अधिकार नहीं मिलते हैं। इन देशों में महिलाओं की भूमिका घरेलू कामों तक ही सीमित है। हालांकि, इसे बदलने की जरूरत है क्योंकि महिलाएं पुरुषों की तरह हर चीज में समान अवसर की हकदार हैं। दुनिया लिंग संतुलन हासिल करने की ओर बढ़ रही है। यह पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए समानता की ओर बढ़ रहा है। परिवर्तन कुछ ऐसा है जो आवश्यक है और आवश्यक है। उम्र के लिए, समाज के हर क्षेत्र में पुरुषों के पास अधिक विशेषाधिकार हैं। हालाँकि, इसे बदलने की आवश्यकता है क्योंकि हम सभी मनुष्य हैं, और हम सभी को समान अधिकार और अवसर मिलने चाहिए। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस एक ऐसा दिन है जहाँ हर कोई अपने जीवन में महिलाओं की हर उस चीज़ की सराहना करता है। यह एक ऐसा दिन है जब हर कोई अपने जीवन में महिलाओं के मूल्य और महत्व को स्वीकार करता है- दुनिया में महिलाओं की संख्या बहुत अधिक है।

हिंदी स्‍पीच 1

साथियों,

महिला दिवस की जब भी बारी आती है, हम केवल महिलाओं का गुणगान करके ही चुप हो जाते हैं लेकिन इस महत्‍पूर्ण दिन हमें कुछ सार्थक और गंभीर बातों पर ध्‍यान देना चाहिये। महिलाओं के लिए सबसे अहम बात है उनकी आर्थिक समझ और हालत सुधरे। हालांकि आज नौकरीपेशा महिलाओं की संख्‍या बढ़ी है लेकिन जो महिलाएं नौकरी नहीं करती हैं, उनको फाइनेंशियल प्‍लानिंग सीखना चाहिये। अगर वे बचत करना सीखेंगी तो बाद में बड़े खर्चों को वहन कर पाएंगी। उदाहरण के लिए, घर खरीदना, बच्‍चों की शिक्षा जैसे बड़े खर्च से निपटना चुनौती है और यह तभी हल हो सकती है जब महिलाएं फाइनेंशियल प्‍लानिंग कर पाएंगी। महिलाओं को आज सम्माननीय, सुरक्षित जीवन देने के लिए इश्योर्ड रहना बहुत जरूरी है। महिलाओं को जीवन बीमा, म्‍यूचुअल फंड, डाकघर की बचत योजना, हैल्‍थ इंश्‍योरेंस, टर्म इंश्‍योरेंस, बैंकों की बचत योजनाओं की जानकारी रखना चाहिये और अपनी सुविधा के अनुसार इसमें पैसा निवेश करना चाहिये ताकि उनका आर्थिक भविष्‍य सुरक्षित हो सके।

हिंदी स्‍पीच 2

आज के हमारे आदरणीय मुख्य अतिथि, आयोजक और अतिथि गण

आज अंतरराष्‍ट्रीय महिला दिवस है। सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक क्षेत्र में महिलाओं ने जो उपलब्धियां हासिल की हैं, उनका सम्‍मान करने के लिए ही यह दिन मनाया जाता है। 8 मार्च को मनाए जाने वाले महिला दिवस का महत्‍व अब हर साल बढ़ता जा रहा है। इसका आयोजन अब एक तरह की रस्‍म बन चुका है, जो कि समाज के आए अच्‍छे बदलाव का प्रतीक है। आज का दिन एक अवसर है कि हम महिलाओं के प्रति प्रेम, प्रशंसा, सम्‍मान और अपनापन व्‍यक्‍त करें। मैं आज इस मौके पर अपने जीवन की उन सभी महिलाओं का धन्‍यवाद अदा करना चाहता हूं जिनका मेरे जीवन में अहम स्‍थान रहा है। मैं अपने दिल की गहराइयों से इन महिलाओं का आभार प्रकट करता हूं कि उन्‍होंने मुझे जीवन में मुसीबतों में साथ दिया। मेरी मां व मेरी पत्‍नी ने मुझे एक बेहतर मनुष्‍य बनाया है। हमारे समाज की महिलाएं कई लोगों के लिए प्रेरणा का काम करती हैं। मैं आप सभी से आग्रह करना चाहूंगा कि आप भी नारी की शक्ति को पहचानें, उनके महत्‍व को जानें और भविष्‍य में उन्‍हें सहयोग करते रहें।

हिंदी स्‍पीच 3

मेरे प्‍यारे दोस्‍तों व आदरणीय अतिथि

आज महिला दिवस पर मैं बहुत महत्‍वपूर्ण विषय की ओर आप सभी का ध्‍यान खींचना चाहूंगा। यह विषय है महिला सशक्‍तीकरण। यह शब्‍द सबसे अधिक प्रयोग किया जाता है। सबसे पहले तो महिलाओं को स्‍वयं अपने भीतर की ताकत को पहचानना होगा। सशक्‍तीकरण हमारे अंदर की प्रेरणा से आता है। आत्‍म सम्‍मान का यह भाव यदि होगा तो आपकी बाहरी दुनिया भी उससे सीधे तौर पर प्रभावित होगी। यह बात सही है कि महिलाओं को खुद को साबित करना है लेकिन वे यदि सकारात्‍मक होकर चीजों की ओर देखेंगी तो समस्‍याओं के हल भी निकलते जाएंगे। सशक्‍तीकरण एक विचार है, जिसे धरातल पर केवल दृढ निश्‍चय से ही उतारा जा सकता है। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर महिलाओं को अपने अन्दर की शक्ति जगाना होगी। महिलाओं को खुद में विश्वास का निर्माण करना सीखना होगा। अधिक प्रभावशाली बनने के लिए कौशल सीखना आवश्यक है। आइये आज के महिला दिवस के मौके पर हम सभी यह प्रण लें कि हम अपने आसपास की एवं परिवार की महिलाओं को पूर्ण रूप से सशक्‍त बनने में मदद करेंगे।

हिंदी स्‍पीच 4

आदरणीय अतिथिगण

जैसा कि हम सब जानते हैं आज इंटरनेशनल वूमंस डे है। इसका सीधा सा मतलब यह है कि देश, दुनिया, भाषा, संस्‍कृति और रहन-सहन की सीमाओं से परे आज पूरे विश्‍व की महिलाएं एक हैं। आज वे जिस भावना को महसूस करेंगी, उसमें समानता मुख्‍य भाव है। समानता ही वह शब्‍द है, जो इस दिवस को वजूद में लाया है। अब महिलाओं ने अपनी पहचान कायम कर ली है ऐसे में इसे कायम रखना सभी महिलाओं के लिए चुनौती भी है और दायित्‍व भी। घर, परिवार और समाज में महिलाओं की बढ़ती भागेदारी इस बात का प्रतीक है कि अब महिलाओं का सशक्तिकरण महज नारा या सिद्धांत नहीं रह गया है, यह जीता जागता सच और प्रैक्टिकल है। हालात पहले से जरूर बदले हैं लेकिन पूरी तरह से अभी भी नहीं बदल पाए हैं। महिलाओं की समस्‍याएं अभी भी बनी हुईं हैं। जब तक समाज का रवैया नहीं बदलेगा, महिलाओं की स्थिति संपूर्ण रूप से नहीं सुधरेगी।

बहुत बहुत धन्‍यवाद

________

महिला दिवस के लिए हिंदी में लघु निबंध

अंतराष्‍ट्रीय महिला दिवस हर साल बड़े पैमाने पर देश और दुनिया में मनाया जाता है। जहां तक हमारे देश भारत की बात है, भारत में दो प्रकार की महिलाएं हैं। पहली वें जो जीवन में हर प्रकार से सुखी व सुरक्षित हैं और दूसरी वें जिनका पूरा जीवन शुरू से अंत तक संघर्ष की एक अंतहीन कहानी है। वर्तमान दौर की लड़कियों की बात की जाए तो ये लड़कियां आज बहुत से क्षेत्रों में भागेदारी कर रही हैं। पहले महिलाओं को कमजोर व सीमित माना जाता था लेकिन अब महिलाओं ने अपना महत्‍व साबित कर दिखाया है।

जो महिलाएं संपन्‍न एवं अमीर घरों से संबंध रखती हैं, उनके लिए जीवन एक आनंद की यात्रा है लेकिन गरीब और बेसहारा महिलाएं आज भी जीवन को एक यातना की तरह भुगत रही हैं। निश्‍चित ही देश की सरकार को इस तबके की महिलाओं के लिए गंभीरता से ना केवल विचार करना चाहिये बल्कि उनके लिए कल्‍याणकारी योजनाएं लाना चाहिये और उनका जीवन सुधारना चाहिये।

यदि कोई लड़की गरीब घर की है और केवल पैसों की कमी के चलते वह पढ़ाई नहीं कर सकती है तो समाज व सरकार को उसकी मदद के लिए आगे आना चाहिये। उसकी प्रतिभा का सम्‍मान किया जाना चाहिये। कामकाजी महिलाओं के सिर पर दोहरी जिम्‍मेदारी होती है। उन्‍हें पढ़ाई भी करना होता है और घर का खर्च भी वहन करना होता है। ऐसी संघर्षरत महिलाओं के लिए अच्‍छा समय अभी भी दूर है।

शादी के बाद इन महिलाओं का जीवन बदल जाता है। घर की जिम्‍मेदारियों के बोझ तले वे दब जाती हैं। संतान के जन्‍म के बाद उनके दायित्‍व बढ़ते जाते हैं। ऐसे में आखिर वे समझौता करने लगती हैं और खुद को प्राथमिकता पर रखना भूल जाती हैं। यह हमारे समाज और सरकारों का सामूहिक दायित्‍व है कि हम समाज की उपेक्षित, पिछड़ी, बेसहारा, गरीब और अनाथ महिलाओं को आगे बढ़ाएं और उनका जीवन नर्क होने से बचाएं।

________

दो साल पहले केंद्रीय मंत्री स्‍मृति ईरानी Smiriti Irani ने महिला दिवस पर दिया था यह भाषण

Select these topics for speech

1. Why is Women's Day celebrated every year on the 8th of March.

2. This woman took the initiative to celebrate International Women's Day in every country of the world

3. Helping women to advance in the field of education

4. Woman is a goddess in the country, despite being a victim of crimes, violence

5. There was a time when International Women's Day was held on 19 March instead of 8

6. Foundation for International Women's Day was laid with the right to vote

Things to remember about Women's Day:

- International Women's Day was first officially recognized in the year 1911.

After this, in the year 1975, United Nations started celebrating International Women's Day on 8 March.

- In 1908, textile workers went on strike in New York. Women came out in support of him. In her honor, Women's Day was celebrated for the first time in America on the request of the Socialist Party on 28 February 1909.

- In 1910, Kalra Jetkin, the leader of the women's office, raised the demand for celebrating International Women's Day in Germany. The suggestion of this woman was that every country in the world should one day persuade women to pursue it.

Say this in your speech role

Today is International Women's Day. It is celebrated on the political and social level, regarding equality of women's rights in the country and the world. For the first time in the world, such a day was celebrated in the year 1900. That is, today we are participating in its 120th year event. Earlier, it had a different date, but March 8 is the date of Women's Day. It is not limited to any institution or company, but is widely celebrated by government, non-government, corporation, board etc. In cities, rallies, marching, petting, rangoli, drawing, art gallery etc. are organized to highlight the social contribution of women. Speeches and essays are organized in schools, colleges, institutes and bodies. The main purpose of organizing Women's Day is to seek protection of women and opportunities for their education, health, career and rights.

_________

Women's Day English Speech 1

Colleagues,

As we all know today is International Women's Day. It simply means that beyond the boundaries of country, world, language, culture and living, women of the whole world are one. Equality is the main emotion in the spirit she will feel today. Equality is the word that brought this day into existence. Now that women have established their identity, maintaining it is a challenge and responsibility for all women. The increasing participation of women in the home, family and society is a sign that the empowerment of women is no longer a mere slogan or principle, it is a living truth and practical. Things have changed from the beginning but have not completely changed yet. Women's problems still persist. As long as the attitude of the society does not change, the condition of women will not improve completely.

Women's Day English Speech 2

Our esteemed chief guest, organizer and guest of today

Today is International Women's Day. This day is celebrated to honor the achievements of women in social, political and economic fields. The importance of Women's Day, observed on 8 March, is now increasing every year. Its organization has now become a ritual, which symbolizes the good change of the society. Today is an occasion for us to express our love, appreciation, respect and belonging towards women. On this occasion, I want to thank all the women of my life who have played an important role in my life. I thank these women from the depths of my heart that they supported me through my troubles in life. My mother and my wife have made me a better man. The women of our society act as inspiration for many people. I would like to urge you all to recognize the power of women, know their importance and continue to support them in future.

Women's Day English Speech 3

My dear friends and respected guests

Today on Women's Day, I would like to draw the attention of all of you to a very important subject. This topic is women empowerment. This word is most commonly used. First of all, women have to recognize the power within themselves. Empowerment comes from inside us. If this feeling of self respect will be there then your outer world will also be directly affected by it. It is true that women have to prove themselves but if they look at things in a positive way, then problems will also be solved. Empowerment is an idea, which can only be launched with firm determination on the ground. Women will have to awaken their inner power on International Women's Day Women need to learn to build confidence in themselves. Learning skills is necessary to become more influential. Let us all pledge on today's Women's Day that we will help the women around us and the family to become fully empowered.

Women's Day English Speech 4

respected guests

Whenever Women's Day comes, we are silent only by praising women, but on this important day we should focus on some meaningful and serious things. The most important thing for women is to improve their economic understanding and condition. Although the number of employed women has increased today, but women who do not work should learn financial planning. If she learns to save then she will be able to bear big expenses later. For example, it is a challenge to deal with big expenses like buying a house, education of children and this can be solved only when women are able to do financial planning. Today, it is very important for women to be assured to give an honorable, safe life. Women should be aware of life insurance, mutual funds, post office savings scheme, health insurance, term insurance, savings schemes of banks and invest money in it as per their convenience so that their economic future can be secured.

Thanks a lot

_________

प्रियंका चोपड़ा ने 2017 में वूमंस डे पर दी थी यह शानदार स्‍पीच, जरूर देखें वीडियो

Priyanka Chopra gave great speech on Women's Day in 2017, Must Watch video

Short essay in hindi for women day

International Women's Day is celebrated every year in the country and the world at large. As far as India is concerned, there are two types of women in India. The first th who are happy and safe in every way in life and the second th whose whole life is an endless story of struggle from beginning to end. Talking about the girls of the present era, these girls are participating in many areas today. Earlier women were considered weak and limited but now women have proved their importance.

For women who belong to affluent and rich homes, life is a joyous journey, but poor and destitute women continue to suffer life as a torture. Certainly the government of the country should not only seriously consider the women of this section but should also bring welfare schemes for them and improve their lives.

If a girl belongs to a poor household and cannot afford to study only due to lack of money, the society and government should come forward to help her. His talent should be respected. Working women have dual responsibility on their heads. They also have to study and bear home expenses. Good times are still far off for such struggling women.

The life of these women changes after marriage. They are burdened with the responsibilities of home. Their responsibilities increase after the birth of a child. In such a situation, they start compromising and forget to put themselves on priority. It is the collective responsibility of our society and governments to advance the neglected, backward, destitute, poor and orphan women of the society and save their lives from becoming hell.

International Women's Day 2021 Speech & Essay

1. International Women's Day is celebrated on the 8th March of every year. It's the day for praising women who work hard every day to accomplish individual and professional goals. To observe this day different events take place including movements or march across the globe. There are some countries where women are not treated equally, so, in these countries, protests are observed for the liberation of women. For many people, the role of women is limited to household chores only. However, this needs to change as women deserve equal freedom and opportunities in everything like men. The world is moving towards gender equality. It is moving towards a balance between both men and women. A change is required and is also essential. It is observed that men have had more advantages in every sphere of life in comparison to women since ages. However, this needs a change as we all are humans and should be treated equally with equal rights and opportunities. On International Women's Day, everyone appreciates the women in their lives. Everyone acknowledges the worth and significance of women in their lives, and their tremendous contribution to society as well.

Also ReadInternational Women's Day 2021: 5 health symptoms which may have a hidden..

International Women's Day 2021: 5 health symptoms which may have a hidden..

2. Be it in professional life or personal life, celebrating women is a sense of obligation to every woman in one's life. International Women's Day is celebrated every year on March 8. In most countries, the day has been observed as a national holiday. Women across the nation come together crossing all the boundaries from various cultural and ethnic groups to remember their struggle for peace, justice, equality, and development. International Women's Day is all about feeling self-worth and achieving the goals as per the potential. Besides that, women should gather the courage to cross all the hurdles in all the spheres of life to make a tremendous improvement. It is a general myth in society that women-related issues are not a big deal. Many people believe that the gender gap does not exist in society and efforts by individuals are not enough and cannot bring any change to the gender gap. Women's Day is all about making society realise that each individual has to work differently and changing society towards a better future.

3. International Women’s Day is celebrated on the 8th of March every year. It’s a day for celebrating women who work hard every day to achieve personal and professional goals. It’s a day when there are activists, movements, and March that happen all around the world. Around the world, it is the DayDay with the most changes. One of the reasons for protesting is for the liberation of women around the world. There are some countries where women don’t get equal rights. In these countries, the role of women is limited to household chores. However, this needs to change because women deserve equal opportunities at everything like men. The world is moving towards achieving gender balance. It’s moving towards equality for both men and women. The change is something that is needed and is essential. For ages, men have had more privileges in every sphere of society. However, that needs to change because we are all humans, and we should all get equal rights and opportunities. International women’s Day is a day where everyone appreciates everything that the women in their lives do. It’s a day when everyone acknowledges the value and importance of women in their lives— of women in the world is immense.

Posted By: Navodit Saktawat
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.