LIC Jeevan Shanti Policy में सिर्फ एक बार करें निवेश और जीवन भर पाएं पेंशन

Updated: | Mon, 26 Jul 2021 08:27 AM (IST)

इस मंहगाई भरे दौर में भविष्य की प्लानिंग कर पाना थोड़ा मुश्किल होता है, ऐसे में जब तक शरीर साथ दे रहा है तब तक तो ठीक है, लेकिन जब शरीर साथ देना बंद कर देगा तब जीविका चलाना हर इंसान के लिए मुश्किल हो जाएगा। इसी भविष्य की चिंता देश के अधिकतर व्यक्तियों को होती है। अगर आप भी कुछ ऐसे ही सवालों से जूझ रहे हैं, तो LIC आपके लिए एक बेहतर विकल्प लेकर आया है। जी हां अगर आप भी अपने बुढ़ापे को सिक्योर करना चाहते हैं तो एलआईसी की ‘जीवन शांति पाॅलिसी’ आपकी इस चिंता को दूर करती है। इस पाॅलिसी के तहत आपको बस एक बार ही निवेश करना है और पूरी गारंटी के साथ जीवन भर पेंशन मिल सकती है। चलिए जानते हैं इस पाॅलिसी के बारे में विस्तार से..

स्कीम के तहत ऐसे मिलेगा पेंशन का लाभ

LIC की पुरानी योजना ‘जीवन अक्षय’ के बारे में तो आपने सुना ही होगा। ठीक ऐसी ही जीवन शांति योजना भी है, इसमें आपके पास दो विकल्प होते हैं पहला इमीडिएट एन्युटी है और दूसरा डेफ्फर्ड एन्युटी है। यह पाॅलिसी एक सिंगल प्रीमियम प्लान है। इसके पहले विकल्प इमीडिएट एन्युटी के अनुसार पाॅलिसी लेने के तुरंत बाद ही पेंशन की सुविधा मिल जाती है। वहीं इसके दुसरे विकल्प डेफ्फर्ड एन्युटी मे पाॅलिसी लेने के 5, 10, 15 या 20 साल बाद पेंशन की सुविधा मिलने लगती है। इसमें सबसे अच्छी बात यह है कि आप चाहें तो अपनी पेंशन तुरंत भी शुरू करा सकते हैं।

ये है पेंशन मिलने का गणित

LIC की ‘जीवन शांति योजना’ के तहत पेंशन की रकम निश्चित नहीं की गई है, दरअसल यह आपके निवेश, उम्र और डिफरमेंट पीरियड के तहत आपकी पेंशन मिलेगी। पेंशन शुरू होने या निवेश के बीच की अवधि जितनी ज्यादा होगी या उम्र जितनी अधिक होगी आपको पेंशन का लाभ उसी के आधार पर मिलेगा। एलआईसी आपके निवेश पर बन रहे फीसदी के हिसाब से पेंशन देती है।

ऐसे मिलता है फायदा

एलआईसी की इस योजना का लाभ कम से कम 30 वर्ष और ज्यादा से ज्यादा 85 वर्ष के व्यक्ति ले सकते हैं। इसके अलावा प्लान में लोन, पेंशन शुरू होने के 1 साल बाद और इसे सरेंडर, पेंशन शुरू होने के 3 महीने बाद किया जा सकता है। दोनों विकल्पों के लिए पाॅलिसी को लेते समय सालाना दरों की गारंटी दी जाएगी। योजना के अनुसार विभिन्न वार्षिकी विकल्प और वार्षिकी भुगतान के मोड उपलब्ध हैं। इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि एक बार विकल्प चुन लेने के बाद इसे दोबारा से बदला नहीं जा सकता।

Posted By: Arvind Dubey