HamburgerMenuButton

मुंबई और कोलकाता में लोगों को लगी नकली कोरोना वैक्सीन, जानिए फेक टीके पर विशेषज्ञों की राय

Updated: | Fri, 25 Jun 2021 05:37 PM (IST)

देश में कोरोना वैक्सीनेशन अभियान चल रही है। इस बीच नकली टीकों की कई रिपोर्ट सामने आई हैं। यहां तक कि कई सेलेब्स भी वैक्सीन घोटाले का शिकार हो गए हैं। टीएमसी सांसद मिमी चक्रवर्ती ने कोलकाता के एक टीकाकरण शिविर में कोविशील्ड की पहली डोज लगवाई। लेकिन वैक्सीन लगने के बाद मैसेज नहीं मिला। जिसके बाद उनका शक गहरा गया। इधर मुंबई पुलिस ने 23 जून को बॉम्बे हाईकोर्ट को बताया कि शहर में अलग-अलग 9 प्राइवेट टीकाकरण शिविरों में दो हजार से अधिक लोगों को नकली कोविड टीके लगे।

न्यायालय ने इस पर चिंता व्यक्त की। राज्य सरकार और बीएमसी से ऐसी घटनाओं को रोकने का आदेश दिया। हालांकि अब तक जिन लोगों को नकली वैक्सीन लगी है। उनमें किसी तरह के दुष्प्रभाव की रिपोर्ट सामने नहीं आई है। चीफ जस्टिस दीपांकर दत्ता और जस्टिस जीएस कुलकर्णी ने बीएमसी से कहा कि जिन लोगों को फर्जी टीके लगे हैं उनके स्वास्थ्य पर नजर बनाए रखे। अदालत ने यह पता लगाने के लिए कहा कि नकली वैक्सीन में क्या था।

इस बीच कोलकाता में नकली आईएएस अधिकारी देबंजन देव गिरफ्तार किए हैं। उन्होंने वैक्सीन के कई शिविर आयोजित किए थे। पुलिस अधिकारी ने खुलाया किया कि वे एंटीबायोटिक इंजेक्शन थे। जिनका इस्तेमाल कई जीवाणु संक्रमणों के लिए किया जाता है। एक अधिकारी ने पीटीआई को बताया कि देबंजन के कार्यालय पर छापा मारा गया। जहां से बड़ी संख्या में एमिकासिन इंजेक्शन की शीशियां बरामद की गई। अधिकारी ने कहा कि कोविशील्ड के नकली लेबल, कई डॉक्यूमेंट और कंप्यूटर जब्त किए गए। केएमसी ने उन लोगों को ढूंढना शुरू कर दिया है। जिन्होंने देबंजन के शिविरों से कोविड टीके लिए हैं। अधिकारी ने कहा कि उन सभी की पहचान करने के बाद डॉक्टरों से परामर्श करेंगे।

डॉक्टरों का कहना है कि नकली वैक्सीन के क्या दुष्प्रभाव होंगे, यह कहना मुश्किल है। यह नकली डोज पर निर्भर करता है। विशेषज्ञ बताते हैं कि अगर इसमें हानिकारक तत्व हुए तो घातक हो साबित हो सकती है। कुछ केस में नकली इंजेक्शन लगने के बाद सूजन और बुखार जैसे लक्षण सामने आते हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि यह लोगों की सुरक्षा से खिलवाड़ करना है। यह कोरोना वायरस के खतरे को बढ़ा देगा। वहीं वैक्सीन को लेकर हिचकिचाहट को बढ़ा सकती है।

Posted By: Shailendra Kumar
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.