HamburgerMenuButton

PM Kisan samman Nidhi: जानिए कहां रुकी है पीएम किसान योजना की 8वीं किस्त, कब तक मिलेगा पैसा

Updated: | Tue, 20 Apr 2021 07:23 AM (IST)

पीएम किसान सम्मान निधि की आठवीं किस्त अब तक किसानों के पास नहीं पहुंची है, जबकि अप्रैल का महीना आधे से ज्यादा निकल चुका है। यह किस्त अप्रैल 2021 से जुलाई 2021 के बीच किसानों को मिलनी है। देश के 11 करोड़ 74 लाख किसान वाली 2000 रुपये की किस्त का इंतजार कर रहे हैं। किसानों का यह इंतजार इस महीने खत्म होता नहीं दिख रहा है। राज्य सरकार ने अभी तक अप्रैल-जुलाई की किस्त अप्रूव नहीं की है। इस वजह से 2 मई से पहले किसानों के खाते में पैसा आने की संभावना कम है।

अपने मोबाइल पर जान सकते हैं स्टेटस

आप चाहें तो अपने मोबाइल फोन पर पीएम किसान की आठवीं किस्त का स्टेटस जान सकते हैं। इसके लिए आपको पीएम किसान की वेबसाइट पर जाकर चेक करना पड़ेगा। यहां यदि आपको Waiting for approval by state लिखा दिख रहा है तो इसका मतलब है कि आपकी राज्य सरकार इस किस्त के लिए अभी आपके खाते को अप्रूव नहीं किया है। वहीं, अगर आपके स्टेटस में Rft Signed by State Government लिखा आ रहा है तो इसका मतलब है कि आपका पूरा डेटा सही है और जल्द ही आपके खाते में पैसे भेजे जाएंगे। FTO की फुल फॉर्म Fund Transfer Order है। इसका मतलब हैं कि आपकी किस्त राशि तैयार हैं और सरकार ने इसे आपके बैंक खाते में भेजने के आदेश दे दिए हैं।

आठवीं किस्त मिलने में देरी क्यों

पीएम किसान सम्मान निधि में बड़े पैमाने पर गड़बड़ियों मिली हैं। इस वजह से राज्य सरकारें पूरी तरह आश्वस्त हो लेना चाहती हैं कि पैसा सही व्यक्ति के खाते में पहुंचे। समय-समय पर लाभार्थियों का वेरिफिकेशन भी हो रहा है। अभी तक अधिकतर राज्यों ने RFT साइन नहीं किया है। इस वजह से किस्त रुकी हुई है।

कब तक मिलेगा पैसा

अभी तक अधिकतर राज्य सरकारों ने RFT साइन नहीं किया है। RFT साइन होने के बाद केंद्र सरकार FTO जेनरेट करती है। तब जाकर पैसा किसानों के खाते में भेजा जाता है। FTO जेनरेट होने के बाद पैसा अप्रैल से जुलाई तक किसानों के खाते में आता रहेगा।

Posted By: Arvind Dubey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.