राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद गुरुवार से 3 दिन की गुजरात यात्रा पर, गृहमंत्री शाह 31 अक्‍टूबर को आएंगे

Updated: | Wed, 27 Oct 2021 09:28 PM (IST)

अहमदाबाद। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद गुरुवार को 3 दिन की गुजरात यात्रा पर आएंगे। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह 31 अक्टूबर को केवड़िया में राष्ट्रीय एकता दिवस समारोह में शिरकत करेंगे। राष्ट्रपति कोविंद गुरुवार को अहमदाबाद एयरपोर्ट पर पहुंचेंगे यहां से वे सीधे गांधीनगर राजभवन जाएंगे। गुजरात उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों के साथ राष्ट्रपति गुजरात के राज्यपाल आचार्य देवव्रत मुलाकात करेंगे। शुक्रवार को राष्ट्रपति भावनगर जिले के महुवा में स्थित मुरारी बापू के तलगाजरड़ा आश्रम जाएंगे। राष्ट्रपति भावनगर में आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बनाए गए 1088 आवासों का लोकार्पण करेंगे। शनिवार को गोविंद नई दिल्ली के लिए रवाना होंगे।

केंद्रीय गृहमंत्री गुजरात आएंगे

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह 31 अक्टूबर को गुजरात की 1 दिन की यात्रा पर होंगे। नर्मदा जिले के केवडिया में सरदार पटेल की जयंती पर आयोजित राष्ट्रीय एकता दिवस समारोह में शिरकत करेंगे। जल थल एवं वायु सेना सहित देश के विभिन्न सैन्य बलों तथा गुजरात पुलिस की ओर से यहां एक परेड का भी आयोजन होगा। सरदार वल्लभभाई पटेल की स्मृति में यहां देश के विभिन्न राज्यों से आने वाले कलाकार भव्य वह रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करेंगे। इसके बाद शाह अमूल डेयरी की स्थापना की 75 वर्ष पूरे होने पर आयोजित समारोह में शामिल होंगे। केंद्रीय पशुपालन मंत्री पुरुषोत्तम रुपाला एवं गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल सहित राज्य मंत्रीमंडल के सदस्य भी समारोह में शामिल होंगे। शाह एवं रुपाला तथा मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल अमूल के परिसर में डॉ कुरियन संग्रहालय का लोकार्पण करेंगे।

पुलिस जवानों की ग्रेड पे की मांग ने जोर पकड़ा

अहमदाबाद। गुजरात पुलिस के जवानों का ग्रेड पे आंदोलन जोर पकड़ रहा है वही सरकार के प्रवक्ता जीतूभाई वाघाणी ने कहा है कि सरकार नियमानुसार वेतन भत्ते देने को तैयार है लेकिन किसी तरह की अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। गुजरात के पुलिस जवानों की ग्रेड पे की मांग को लेकर चल रहा आंदोलन राज्य के अन्य शहरों में भी होने लगा। गांधीनगर सूरत अरवल्ली गोधरा आदि शहरों में पुलिसकर्मियों के परिवार वाले धरना व रैली कर रहे हैं। सूरत में गांधीनगर में पुलिसकर्मी व पुलिस के परिजनों के बीच टकराव भी हुआ।

पुलिस के जवान सातवें वेतन आयोग के अनुसार वेतन एवं भत्तों की मांग कर रहे हैं। सरकार के प्रवक्ता जीतू भाई ने कहा है कि नियम के अनुसार सरकार इस मामले में कर्मचारियों से बात करने को तैयार है लेकिन पुलिस विभाग में हड़ताल आंदोलन जैसी अनुशासनहीनता को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। वाघाणी ने कहा की त्योहार के मौके पर नागरिकों को किसी तरह की परेशानी नहीं होनी चाहिए, पुलिस विभाग में हड़ताल सरकार सहन नहीं करेगी।

Posted By: Navodit Saktawat