HamburgerMenuButton

Fixed Deposit: प्राइवेट बैंकों में FD पर मिल रहा 6.75 प्रतिशत तक का ब्याज, देखें पूरी लिस्ट यहां

Updated: | Fri, 26 Feb 2021 10:04 PM (IST)

हर आदमी अपने आने वाले भविष्य के लिए निवेश जरूर करता है। खासतौर पर जहां पैसों सुरक्षित और ब्याज अच्छा मिले। ऐसे में लोगों की पहली पसंद बैंक और दूसरी बीमा कंपनी होती है। बैंक में कस्टमरों को निवेश के लिए कई ऑफर्स मिल जाते हैं। जिसमें ज्यादातर ग्राहक पैसा फिक्स्ड डिपॉजिट पर निवेश करते हैं। एफडी की खास बात यह है कि इसमें किसी तरह का कोई जोखिम नहीं होता है। बैंकों द्वारा तय ब्याज हर साल मिलता है। हालांकि सरकारी, प्राइवेट, विदेशी और स्मॉल फाइनेंस बैकों का एफडी ब्याज अलग-अलग होता। लेकिन फिलहाल कुछ निजी बैंक दो से तीन साल फिक्स्ड डिपॉजिट पर बेहद अच्छा ब्याज दे रहे हैं। आइए जानते हैं किस प्राइवेट बैंक में एफडी पर कितना ब्याज मिलता है।

बैंक का नाम 2-3 साल की एफडी पर ब्याज दर

एक्सिस बैंक 5.4 प्रतिशत

बंधन बैंक 5.75 प्रतिशत

कैथोलिक सीरियन 5.25 प्रतिशत

सिटी यूनियन बैंक 5.75 प्रतिशत

डीसीबी बैंक 6.75 प्रतिशत

धनलक्ष्मी बैंक 5.4 प्रतिशत

फेडरल बैंक 5.35 प्रतिशत

एचडीएफसी बैंक 5.15 प्रतिशत

आईसीआईसीआई बैंक 5.15 प्रतिशत

आईडीएफसी फर्स्ट बैंक 5.75 प्रतिशत

इंडसलेंड बैंक 6.5 प्रतिशत

जम्मू एंड कश्मीर बैंक 5.2 प्रतिशत

कर्नाटक बैंक 5.55 प्रतिशत

कोटक बैंक 5.1 प्रतिशत

करूर वैश्य बैंक 5.65 प्रतिशत

आरबीएल बैंक 6.75 प्रतिशत

साउथ इंडियन बैंक 5.4 प्रतिशत

तमिलनाडू मर्कटाइल बैंक 5.65 प्रतिशत

टीएनएससी बैंक 5.85 प्रतिशत

यस बैंक 6.75 प्रतिशत

ये सरकारी बैंक दे रहे एफडी पर अच्‍छा ब्‍याज, देखें नाम

भारतीय स्टेट बैंक, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई और बैंक ऑफ बड़ौदा जैसे शीर्ष बैंकों में वरिष्ठ नागरिकों को फिक्सड डिपोर्जिट में अच्छी योजनाएं दी जा रही है। इस योजना के तहत इन बैंकों द्वारा बुजुर्गों को टर्म डिपॉजिट पर उनके लागू मौजूदा दरों पर अतिरिक्त ब्याज दिया जा रहा है। कोरोना वायरस महामारी के बीच विशेष एफडी योजना मई में वरिष्ठ नागरिकों के हितों की रक्षा के लिए शुरू की गई थी। यह स्पेशल योजना 31 मार्च 2021 तक लागू है। आइए जानतें हैं कौन-सी बैंक एफडी पर कितना ब्याज दे रही है।

1. बैंक ऑफ बड़ौदा

बैंक ऑफ बड़ौदा वरिष्ठ नागरिकों को 100 बीपीएस अधिक प्रदान करता है। विशेष एफडी योजना में अगर कोई बुजुर्ग निश्चित राशी जमा करता है तो उसे 6.25 प्रतिशत का ब्याज मिलेगा।

2. आईसीआईसीआई बैंक

आईसीआईसीआई बैंक 80 बीपीएस उच्च ब्याज दर प्रदान करता है। बैंक गोल्डन ईयर एफडी योजना में सीनियर सिटीजन को प्रति साल 6.30 प्रतिशत ब्याज दे रही है।

3. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया 80 बीपीएस ब्याज दर प्रदान करता है। फिलहाल एसबीआई आम नागरिकों को पांच साल की एफडी पर 5.4 प्रतिशत ब्याज देता है। वहीं वरिष्ठ के लिए 6.20% ब्याज दर होगी।

4. एचडीएफसी बैंक

एचडीएफसी बैंक में कोई वरिष्ठ नागरिक सीनियर सिटीजन केयर एफडी खुलवाता है, तो उन्हें 6.25 प्रतिशत का ब्याज मिलेगा।

पिछले दिनों RBI ने किया था यह तय

हाल ही में भारतीय रिजर्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष की अपनी अंतिम मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक में रेपो और रिवर्स रेपो दरों को 4% और 3.35% पर अपरिवर्तित रखने का फैसला किया। ध्यान दें कि रिटर्न, उच्च तरलता, और निवेश में आसानी निश्चित जमा को हमारे देश में सबसे लोकप्रिय निवेश साधनों में से एक बनाती है, विशेष रूप से वरिष्ठ नागरिकों जैसे जोखिम वाले निवेशकों के बीच। हालांकि, अब, एफडी ब्याज दरों ने पिछले साल महामारी फैलने के बाद बहु-वर्षीय चढ़ाव को छूना शुरू कर दिया है - ऐसा कुछ जो निवेशकों को परेशान कर रहा है, और आरबीआई की प्रमुख नीति दर को 4% पर अपरिवर्तित रखने की आरबीआई की घोषणा एफडी निवेशकों के लिए अच्छी नहीं है। अधिकांश बैंक 3% -5.50% पीए के बीच कहीं भी पेशकश कर रहे हैं। सामान्य एफडी पर (गैर-वरिष्ठ नागरिक जमाकर्ताओं के लिए) 5 साल तक की राशि 1 करोड़ रुपये से कम (विवरण के लिए नीचे दी गई तालिका)। केवल कुछ निजी और छोटे वित्त बैंक 5.75% -7.50% p.a के बीच की पेशकश कर रहे हैं। चुनिंदा कार्यकाल वाले नियमित एफडी पर।

FD से मिलता है सुरक्षित निवेश

फिक्स्ड डिपॉजिट कई व्यक्तियों के लिए निवेश की गारंटी प्रदान करने वाले पसंदीदा गारंटी-रिटर्न में से एक है। एफडी की अवधि 7 दिन से लेकर 10 साल तक हो सकती है। बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट सुनिश्चित रिटर्न प्रदान करते हैं और आप मासिक, त्रैमासिक या वार्षिक आधार पर ब्याज आय प्राप्त कर सकते हैं। एक संचयी एफडी में, अर्जित ब्याज को मूल राशि में समय-समय पर पुनर्निवेशित किया जाता है, जो आपको अधिक रिटर्न अर्जित करता है। जैसा कि आप पूरे वित्तीय वर्ष में अर्जित ब्याज पर ब्याज अर्जित करते हैं, आपकी आय अधिक होगी।

Posted By: Navodit Saktawat
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.