भारी बारिश से तबाही, महाराष्ट्र में 130 की मौत, कर्नाटक के लिए रेड अलर्ट, जानिए सभी अपडेट्स

Updated: | Sun, 25 Jul 2021 10:42 AM (IST)

Rainfall Alert: लगातार बारिश ने महाराष्ट्र और कर्नाटक में लोगों के जीवन को तबाह कर दिया है। जिसमें करीब 140 लोग मारे गए हैं और हजारों लोग विस्थापित हुए। कई भूस्खलन और बाढ़ सहित बारिश से संबंधित घटनाओं ने शहरों के साथ गांवों को बर्बाद कर दिया है। रायगढ़ और रत्नागिरी जिले जहां महाराष्ट्र के सबसे अधिक प्रभावित इलाकों में शामिल हैं। वहीं कर्नाटक के तटीय, मलनाड और उत्तर-आतंरिक क्षेत्र के कुछ हिस्सों में आज (रविवार) सुबह मूसलाधार वर्षा हुई।

बारिश से संबंधित विभिन्न घटनाओं में महाराष्ट्र में करीब 135 और कर्नाटक में 9 लोगों की मौत हो गई। 1,35,313 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। जिसमें सांगली जिले में 78,111 और कोल्हापुर जिले में 40,882 लोग शामिल हैं। वहीं कर्नाटक में निचले इलाकों से 31,360 लोगों को निकाला गया है, जबकि 22,417 लोग 237 राहत शिविरों में शरण लिए हुए हैं।

1. महाराष्ट्र के सतारा जिले में बारिश से संबंधित घटनाओं और भूस्खलन से कुल 22 लोगों की मौत हुई है। मौतों में एनडीआरएफ टीमों द्वारा पाटन तहसील में अंबेघर भूस्खलन से 11 और ढोकावाले भूस्खलन स्थानों से 4 शवों की बरामदगी शामिल है। जिला प्रशासन ने कहा कि कम से कम 20 अन्य अभी भी लापता हैं।

2. पश्चिमी महाराष्ट्र के सबसे अधिक प्रभावित जिलों में से एक सतारा में 379 गांव भारी बारिश के कारण नष्ट हो गए। पांच हजार से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित कर दिया गया। इसके अलावा, 1,324 परिवारों के 5,000 से अधिक लोगों को वाई, कराड, पाटन और महाबलेश्वर जैसे बारिश प्रभावित क्षेत्रों से सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया।

3. एसडीएमए के अनुसार, रत्नागिरी जिले के चिपलून और खेड़ शहर पूरी तरह से पानी से भर गए थे। वशिष्ठ नदी के पुल के बाढ़ में बह जाने के कारण दोनों भूमि मार्गों से कट गए थे।

4. महाराष्ट्र और कर्नाटक के कुछ हिस्सों में बाढ़ की स्थिति के कारण शनिवार को मुंबई-बेंगलुरु राजमार्ग पर वाहनों का यातायात भी रोक दिया गया था। पंचगंगा नदी का जल स्तर खतरे के निशान से ऊपर जाने और बारिश के कारण राधानगरी बांध से पानी छोड़े जाने के बाद मुंबई-बेंगलुरु राष्ट्रीय राजमार्ग पर जलभराव हो गया।

5. मुंबई, ठाणे, रायगढ़, रत्नागिरी, सतारा, सांगली और कोल्हापुर महाराष्ट्र में सबसे अधिक प्रभावित जिले हैं। जहां भूस्खलन, बाढ़ और घर ढह गए हैं। इस बीच, कर्नाटक सरकार ने भूस्खलन को देखते हुए सात जिलों के लिए रेड अलर्ट जारी किया है।

6. 22 जुलाई से कर्नाटक में हुई मौतों में चार उत्तर कन्नड़ जिले से, दो बेलगावी से और एक-एक चिक्कमगलुरु, धारवाड़ और कोडागु से हैं।

7. कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने प्रभावित जिलों के उपायुक्तों से बात की। उन्होंने प्रभारी मंत्रियों को अपने-अपने जिलों में रहने और वहां राहत और बचाव कार्यों की निगरानी करने का निर्देश दिया। वह रविवार को उत्तरी कर्नाटक के बारिश और बाढ़ प्रभावित सीमावर्ती जिले बेलगावी का दौरा करेंगे।

8. महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने रायगढ़ जिले के महाड के तलिये गांव में बारिश से संबंधित तबाही का जायजा लिया।

9. एनडीआरएफ की कुल 25 टीमें प्लस 8 स्टैंडबाय पर, भारतीय सेना और भारतीय तटरक्षक बल की 3 इकाइयां, भारतीय नौसेना की 7 और भारतीय वायु सेना की 1 इकाइयां, स्थानीय अधिकारियों के अलावा, पिछले कुछ समय से लगातार बचाव अभियान में लगी हुई हैं।

10. मौसम विभाग ने कहा है कि रविवार से पश्चिमी तट पर बारिश की गतिविधि कम होने की संभावना है। हालांकि, मध्य प्रदेश के 24 जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है।

Posted By: Arvind Dubey