HamburgerMenuButton

Amul ने बनाया चीनी उत्पादों के बहिष्कार वाला कार्टून, Twitter ने किया अकाउंट ब्लॉक, फिर हुआ ऐसा

Updated: | Sat, 06 Jun 2020 09:12 PM (IST)

अहमदाबाद। देश की मशहूर कंपनी अमूल के एक ट्वीट पर उसे ट्विटर द्वारा ब्लॉक कर दिया गया था। हालांकि सोशल मीडिया पर इस बात को लेकर हंगामा मचने के बाद ट्विटर द्वारा अकाउंट को दोबारा एक्टिव करना पड़ा। अमूल ने 'ड्रैगन को बाहर निकालो' टैग लाइन के साथ से चीन के सामान बहिष्कार का संदेश देने वाला कार्टून पोस्ट किया था। इसके कुछ देर बाद ही अमूल का ट्विटर एकाउंट ब्लॉक कर दिया गया। इस मामले में ट्विटर की ओर से सफाई में कहा गया कि सुरक्षा प्रक्रिया के चलते अमूल का अकाउंट ब्लॉक हो गया था। इसे फिर से चालू कर दिया गया है। इसमें यह कार्टून दिख रहा है।

अमूल गुजरात को-आपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन (GCMMF) का मशहूर ब्रांड है। इसके नए विज्ञापन में अमूल गर्ल को ड्रैगन से मोर्चा लेते दिखाया गया है। विज्ञापन में ड्रैगन के हाथ में Made in China की तख्ती है और पूंछ की तरफ TikTok लिखा है। GCMMF के प्रबंध निदेशक आर.एस.सोढी ने बताया कि यह विज्ञापन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भारत को आत्मनिर्भर बनाने और लद्दाख में चीनी घुसपैठ के बाद सोशल मीडिया में चीनी माल के बहिष्कार की अपील के मद्देनजर तैयार किया गया है। उन्होंने बताया कि अमूल गर्ल 55 साल से कंपनी की शुभंकर है। अमूल का विज्ञापन हमेशा समसामयिक विषय पर केंद्रित होता है।

अमूल की विज्ञापन एजेंसी ने बुधवार की रात ट्विटर पर इसे लोड किया था। इसके बाद गुरुवार को अमूल का ट्विटर एकाउंट ब्लाक कर दिया गया। विज्ञापन एजेंसी ने इसकी जानकारी अमूल प्रबंधन को दी। इस पर अमूल प्रबंधन ने ट्विटर से इसका कारण पूछने के साथ अपने अकाउंट को Unblock करने का आग्रह किया। इसके बाद शुक्रवार सुबह अकाउंट फिर से चालू कर दिया गया। सोढी ने बताया कि हमें नहीं पता कि हमारा अकाउंट क्यों ब्लॉक किया गया। हम ट्विटर से इसके जवाब का इंतजार कर रहे हैं।

ट्विटर ने ये बात कही

अमूल के अकाउंट को ब्लॉक करने पर ट्विटर के प्रवक्ता ने इसे सुरक्षा प्रक्रिया का हिस्सा बताया। अपने ईमेल संदेश में प्रवक्ता ने बताया कि हमारे लिए सुरक्षा और संरक्षा सबसे अहम है। इस पर हम कोई समझौता नहीं करते। कभी-कभी हम अकाउंट होल्डर से कैप्चा प्रक्रिया का पालन कराते हैं। वास्तविक अकाउंट होल्डर के लिए यह प्रक्रिया पूरी कराना सरल है लेकिन स्पैम भेजने वालों के लिए इसमें दिक्कत होती है। हम समय समय पर सभी अकाउंट के साथ इस प्रक्रिया को कराते रहते हैं।

यूजर्स का भड़का गुस्सा

इस बीच सोशल मीडिया पर अमूल के समर्थन में लोगों ने ट्विटर के खिलाफ जमकर भड़ास निकाली। 12 हजार से ज्यादा लोगों ने इस मामले पर ट्वीट कर नाराजगी जताई। ट्विटर यूजर राज ने लिखा कि एक विज्ञापन से घबराकर चीन और उसके गुलामों ने अमूल के एकाउंट पर रोक लगवाई। कल्पना की कीजिए जब हमारे जवान चीन में घुसकर लोगों के घरों में दस्तक देंगे तब क्या होगा।

इसी तरह एक और ट्विटर यूजर पार्थ शाह ने लिखा कि अमूल के एकाउंट पर रोक लगाना बहुत ही गलत है। हम भारतीय, अपनी कंपनियों के साथ हैं।

Posted By: Neeraj Vyas
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
Next