HamburgerMenuButton

साइबर ठगी से निपटने गृह मंत्रालय ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर, संबंधित एजेंसियां पैसे वापस दिलाने में करेगी मदद

Updated: | Thu, 17 Jun 2021 10:14 PM (IST)

साइबर ठगी का शिकार हुए लोगों को अब परेशान होने की जरूरत नहीं है। अब सरकार आपकी मेहनत की कमाई वापस दिलाने में मदद करेगी। दरअसल गृहमंत्रालय ने एक राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर शुरू किया है। साइबर क्राइम का शिकार कोई भी शख्स हेल्पलाइन नंबर 155260 पर कंप्लेंट कर सकता है। इसके बाद संबंधित एजेंसियां पैसे ढूंढने का काम करेंगी। गृह मंत्रालय ने कहा कि शिकायत मिलने पर तत्काल विस्तृत जानकारी उस बैंक या वॉलेट के पास भेज दी जाएगी। जिस बैंक में ठगी का पैसा गया होता है। बैंक के सिस्टम में यह जानकारी फ्लैश करने लगेगी। अगर पैसे संबंधित बैंक या वॉलेट के पास ही हैं, तो वह उसे तत्काल फ्रीज कर देगा। यदि रकम किसी और बैंक या वॉलेट में चला गया हो तो वह उसे भेज देगा। यह प्रोसेस तब तक चलती रहेगी, जब तक राशि की पहचान कर उसे फ्रीज नहीं कर दिया जाता।

पैसे वापस दिलाने में मिली सफलता

वहीं शिकायतकर्ता को एसएमएस से कंप्लेंट दर्ज किए जाने की सूचना और इसका एक नंबर दिया जाएगा। 24 घंटे के भीतर नेशनल साइबरक्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल पर ठगी की विस्तृत जानकारी देने का निर्देश दिया जाएगा। गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि साइबर ठगी के शिकार लोगों को उनकी रकम वापस कराने में यह हेल्पलाइन नंबर काफी सफल साबित हुआ है। एक अप्रैल को दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश, तेलंगाना, उत्तराखंड और छत्तीसगढ़ में सॉफ्ट लॉन्च किया गया था। दो महीने के अंतराल में हेल्पलाइन की मदद से ठगी के 1.85 करोड़ रुपये वापस दिलाने में सफलता मिली है। इनमें दिल्ली में 58 लाख और राजस्थान में 52 लाख रुपये वापस कराए गए।

स्थानीय पुलिस करेगी संचालन

खास बात यह है कि राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर होते हुए सभी राज्यों में स्थानीय पुलिस ही इसका संचालन करेगी। इससे संबंधित राज्यों में स्थानीय भाषाओं में लोग आसानी से ठगी की शिकायत कर सकेंगे। गृह मंत्रालय के अनुसार लगभग सभी राज्य इस हेल्पलाइन नंबर को चालू करने के लिए तैयार हो गए हैं और जल्द ही यह काम करना शुरू कर देगा।

Posted By: Navodit Saktawat
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.