HamburgerMenuButton

Health Insurance कंपनियों से हैं परेशान, क्लेम रिजेक्ट होने पर ऐसे करें शिकायत

Updated: | Tue, 22 Jun 2021 08:04 AM (IST)

नई दिल्ली Health Insurance । कोरोना संकट काल में आम आदमी के लिए उसका हेल्थ इंश्योरेंस ही सबसे बड़ा सुरक्षा व आर्थिक कवच है। अक्सर यह भी देखने में आता है इलाज के दौरान कई बार हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियां क्लेम देने से इनकार कर देती है और मरीज या उसके परिजनों को इलाज का बिल अपनी जेब से भरना पड़ता है। कई बार मरीज तब भी परेशानी में आ जाते हैं जब क्लेम रिजेक्ट होने पर अस्पताल प्रबंधन कैशलेस इलाज करने से भी मना कर देते हैं। नियमों की जानकारी के अभाव में भी कई बार मरीज व उसके परिजन परेशान होते हैं। हेल्थ कंपनी यह क्लेम रिजेक्ट कर देती है तो मरीज उसके खिलाफ शिकायत भी दर्ज कर सकते हैं। आइए जानते हैं हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी के संबंध में क्या कहते हैं नियम -

30 दिन में मिलनी चाहिए क्लेम की रकम

किसी भी हेल्थ इंश्योरेंस की राशि 30 दिन के अंदर दिए जाने का कानून में प्रावधान है। अगर ऐसा नहीं होता है कि इसकी शिकायत दर्ज की जा सकती है। सबसे पहले इसकी शिकायत कंपनी के बीमा दावा शिकायत विभाग में की जा सकती है, लेकिन अलर वहां से जवाब नहीं मिलता है तो बीमा लोकपाल के शिकायत की जा सकती है और अगर वहां भी निराकरण नहीं होता है तो हाई कोर्ट जा सकते हैं।

हेल्थ इंश्योरेंस कराते समय इस बात का रखें ध्यान

हेल्थ इंश्योरेंस कराते समय भी ग्राहक को कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। इंश्योरेंस पॉलिसी लेते समय ग्राहक को अपनी बीमारियों के बारे में सभी जानकारी जरूर देनी चाहिए। साथ ही इंश्योरंस कंपनी के नियमों व शर्तों के बारे में भी अच्छी तरह से जानकारी ले लेना चाहिए। यह भी जानकारी हासिल कर लेना चाहिए कि कौन-कौन सी बीमारियां बीमा कवरेज से बाहर है, जिसका क्लेम नहीं मिलेगा। उसी के अनुसार पॉलिसी भी लेना चाहिए।

क्लेम खारिज हो तो तो यहां करें शिकायत

यदि इलाज के दौरान बीमा कंपनी क्लेम (Claim) आंशिक या पूरी तरह खारिज कर देती है तो बीमा नियामक आयोग IRDA में इसकी शिकायत जरूर करें। दरअसल IRDA देश में बीमा क्षेत्र की सबसे बड़ी नियामक संस्था है। IRDA के टॉल फ्री नंबर 155255 या 1800 4254 732 पर भी शिकायत दे सकते हैं। साथ ही IRDA के complaints@irdai.gov.in पर ई-मेल भी की जा सकती है।

बीमा लोकपाल के पास ऐसे करें शिकायत

अगर इलाज के दौरान आपके बीमा क्लेम की राशि 30 लाख रुपए तक है और IRDA से शिकायत के बावजूद समाधान नहीं हुआ है तो बीमा लोकपाल में शिकायत कर सकते हैं। बीमा लोकपाल बीमाधारक और बीमा कंपनी के बीच मध्यस्था का काम करता है। मध्यस्थता से बात नहीं बनने पर लोकपाल एकतरफा आदेश भी जारी कर सकता है और बीमा कंपनी को 30 दिन में इसका पालन करना अनिवार्य होता है।

Posted By: Sandeep Chourey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.