Vastu Tips: जरूर आजमाएं ये वास्तु उपाय तो जल्द घर में बजेगी शहनाई

Updated: | Mon, 06 Dec 2021 10:30 PM (IST)

Vastu Tips । कई लोगों अपनी निजी जिंदगी में कई कारणों से परेशान रहते हैं, जैसे शादी नहीं होना, शादी का टूट जाना या घर में कलह होना, पति पत्नी में बार-बार झगड़ा होना आदि। इस सभी कारणों से लिए जातक की कुंडली में ग्रहों की स्थिति भी कई बार जिम्मेदार होती है। साथ ही कई बार वास्तु दोष के कारण भी दांपत्य जीवन में बाधाएं आती रहती है और समय रहते यदि इसका उपाय कर लिया जाए तो निजी जिंदगी में शांति आ सकती है। घर के वास्तु दोषों के कारण विवाह योग्य लड़के और लड़की के विवाह में देरी होती है। वहीं पति-पत्नी के रिश्तों में भी खटास आ जाती है। इसके लिए कुछ आसान से उपाय करके इन दिक्कतों को छुटकारा पा सकते हैं -

- अगर घर के बेटे या बेटी के विवाह में देरी हो रही है तो ध्यान दें कि विवाह योग्य बेटा या बेटी का कमरा किस दिशा में होना चाहिए। विवाह योग्य लड़के और लड़की का कमरा हमेशा उत्तर-पश्चिम दिशा में होना चाहिए। अगर ऐसा संभव न हो तो उत्तर दिशा में सोना भी फायदेमंद होता है।

- कमरे की दिशा के अलावा इस बात पर भी ध्यान दें कि विवाह योग्य युवक या युवकी का पलंग दीवार से चिपका न हो। यानी पलंग इस तरह से लगाना चाहिए कि इसे दोनों तरफ से इस्तेमाल किया जा सके।

- उनके कमरे की दीवार पर रंग-बिरंगे फूलों की फोटो लगाना भी अच्छा रहेगा। ऐसा करने से विवाह के योग जल्द बन सकते हैं।

- विवाहित लोगों के विवाह में देरी हो रही है तो उनके कमरे की दीवारों पर हल्के गुलाबी रंग का प्रयोग करना चाहिए। गुलाबी रंग का प्रयोग संभव न हो तो किसी अन्य हल्के रंग का भी प्रयोग किया जा सकता है। गलती से भी दीवारों पर नीले, काले या भूरे रंग का प्रयोग नहीं करना चाहिए। वास्तु शास्त्र के मुताबिक यह रंग विवाह में बाधा पहुंचा सकते हैं।

- लड़के-लड़कियों के कमरे की दीवार पर मंदारिन, बत्तख के जोड़े का फोटो जरूर लगाना चाहिए। इससे उनकी शादी जल्दी के योग बन सकते हैं।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Sandeep Chourey