Anant Chaturdashi 2021 Wishes: अनंत चतुर्दशी पर दोस्तों से शेयर करें ये Quotes, WhatsApp Status, Facebook Messages और GIF Greetings

Updated: | Sun, 19 Sep 2021 12:04 PM (IST)

Anant Chaturdashi 2021 Wishes in Hindi। देशभर में अनंत चतुर्दशी पर्व उत्साह के साथ मनाया जाता है। भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को गणपति बप्पा की प्रतिमाओं की धूमधाम से स्थापना की जाती है और फिर 10 दिन के बाद गणपति देवता का विसर्जन किया जाता है। आज यानी 19 सितंबर 2021 अनंत चतुर्दशी (Anant Chaturdashi) है। यदि आप भी अनंत चतुर्दशी पर्व पर दोस्तो, रिश्तेदारों आदि को शानदार हिंदी कोट्स, विशेज, वॉट्सऐप स्टेटस, फेसबुक मैसेजेस और जीआईएफ ग्रीटिंग्स भेजना चाहते हैं तो इन बधाई संदेशों का इस्तेमाल कर सकते हैं -

चलो खुशियों का जाम हो जाए,

लेकर बाप्पा का नाम कुछ अच्छा काम हो जाए,

इस पर्व की खुशियां बांट कर हर जगह,

आज का दिन बाप्पा के नाम हो जाए.

Happay Anant Chaturdashi 2021

============================

दिल से जो भी मांगोगे मिलेगा,

ये गणेश जी का दरबार है,

देवों के देव वक्रतुंड महाकाय को,

अपने हर भक्त से प्यार है...

Happay Anant Chaturdashi 2021

============================

अनंत चतुर्दशी के पावन पर्व पर,

विघ्नहर्ता को आओ सब करें नमन,

हर कोई हो बाप्पा के स्नेह से बंधा,

मन की भक्ति कर दें उन्हें अर्पण.

Happay Anant Chaturdashi 2021

============================

उम्मीद के कई फूल खिलें,

जीवन में हर खुशी आपको मिले,

कभी ना हो दुखों का सामना,

यही है अनंत चतुर्दशी पर हमारी कामना.

Happay Anant Chaturdashi 2021

============================

आपका और खुशियों का जनम-जनम का साथ हो,

आपकी तरक्की की हर किसी की जुबां पर बात हो,

जब भी आपका किसी मुश्किल से सामना हो,

गणपति बाप्पा मुश्किल घड़ी में आपके साथ हों.

Happay Anant Chaturdashi 2021

अनंत चतुर्दशी को लेकर ये है धार्मिक मान्यता

ऐसी धार्मिक मान्यता है कि हर साल भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को भगवान गणेश कैलाश पर्वत से धरती पर अपने भक्तों के बीच उनकी मनोकामनाओं की पूर्ति करने के लिए आते हैं। इन 10 दिनों में भगवान गणेश अपने भक्तों व श्रद्धालुओं के बीच में रहकर सभी विघ्नों को दूर कर अपने भक्तों के जीवन को सुख-समृद्धि से भर देते हैं। भगवान गणेश का विसर्जन करने के साथ ही वे अनंत चतुर्दशी को फिर से कैलाश के लिए रवाना हो जाते हैं।

Posted By: Sandeep Chourey