HamburgerMenuButton

Chandra Grahan 2020: साल का आखिरी चंद्र ग्रहण समाप्‍त, जानिये इससे जुड़ी हर बात

Updated: | Mon, 30 Nov 2020 11:53 PM (IST)

Chandra Grahan 2020 Time : इस बार कार्तिंक पूर्णिंमा 30 नवंबर, सोमवार को पड़ रही है। इस दिन उप छाया चंद्र ग्रहण भी लग रहा है, इसमें चंद्रमा का कोई भाग अदृश्य नहीं माना गया है। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इसका कोई सूतक काल या धार्मिक महत्व नहीं होता। भारत में यह उप छाया ग्रहण भी इस बार नहीं दिखेगा क्योंकि ग्रहण काल में यहां दिन का पर्याप्त उजाला रहेगा। ज्योतिष के नजरिये से यह ग्रहण सामान्य खगोलीय घटना मात्र है। इसका भूमंडल या जनजीवन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। आइए जानते हैं चंद्र ग्रहण से जुड़ी पूरी जानकारी।

यह है पूर्णिमा का काल

कार्तिक पूर्णिमा रविवार दोपहर 12.33 बजे से शुरू है, जो सोमवार की दोपहर 2.26 बजे तक रहेगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार पूजन का विधान पूरे दिन है। वहीं शाम को देवों के नाम दीप जलाना बहुत शुभ होगा।

विदेश में दिखेगा ग्रहण

ज्योतिष एवं संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय, बीएचयू के प्रो. विनय कुमार पांडेय के अनुसार चंद्र ग्रहण उत्तरी, दक्षिणी अमेरिका, प्रशांत महासागर, आस्ट्रेलिया और एशिया महाद्वीप के पूर्वी भाग में देखा जा सकेगा। इसका समय भारतीय समयानुसार दोपहर करीब 1.04 बजे से शाम 5.22 तक होगा।

सृष्टि के जीवों पर इसका असर

चंद्र ग्रहण ब्रह्मांड की एक खगोलीय घटना है और यह पृथ्वी से मीलों दूर घटित होती है, लेकिन इसके बावजूद इसका मानव जीवन पर असर होता है। सृष्टि के जीवों पर इसका असर दिखाई देता है। राशि अनुसार लोग प्रभावित होते है तो ग्रहण के दौरान निकलने वाली प्रदूषित किरणों का भी विपरीत प्रभाव मानव जीवन पर पर होता है। किसी भी ग्रहण का सबसे ज्यादा असर गर्भवती महिलाओं और बच्चों पर देखा जाता है। इसका सीधा असर व्यक्ति के मन पर पड़ेगा जो लोग असुर प्रवृत्ति क्या है पर ज्यादा प्रभाव देखने को मिलेगा। मन कलंकी कैसा रहेगा और तो और अच्छे इंसान की भी मन की शांति थोड़ी भंग हो सकती है और वह कुछ दूषित कर्मा करने की और चल पड़ेगा इसका असर राशि पर तो होगा लेकिन मनुष्य के होगा तो चंद्रमा जो है मन का कारक है। इसके लिए सभी लोग पवित्रता बनाए रखें और दूसरा कई लोगों को माता को कष्ट पहुंचेगा या माता से अनन्या झगड़ा मनमुटाव होता दिखाई नजर आएगा, क्योंकि चंद्रमा को मन का कारक माना जाता है।

चंद्र ग्रहण तिथि 30 नवंबर 2020

उपच्छाया से पहला स्पर्श 30 नवंबर 2020 की दोपहर 1 बजकर 04 मिनट पर

परमग्रास चन्द्र ग्रहण 30 नवंबर 2020 की दोपहर 3 बजकर 13 मिनट पर

उपच्छाया से अन्तिम स्पर्श 30 नवंबर 2020 की शाम 5 बजकर 22 मिनट पर

इस बार लगने वाले चंद्रग्रहण में सूतककाल मान्य नहीं होगा.

चंद्र ग्रहण 2020 सूतक काल का समय

सूतक काल प्रारंभ- इस बार लगने वाले चंद्रग्रहण में सूतककाल मान्य नहीं होगा।

चंद्र ग्रहण की धार्मिक मान्यता

मान्यता है कि चंद्र ग्रहण को बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है. ज्योतिष शास्त्र में चंद्रमा को मन का कारक माना जाता है. इसी कारण से जब भी चंद्रमा पर ग्रहण लगता है तो इसका सीधा असर मन पर होता है. चंद्र ग्रहण का असर उन लोगों पर अधिक पड़ता है, जिनकी कुंडली में चंद्र ग्रहण पीड़ित हो या उनकी कुंडली में चंद्र ग्रहण दोष बन रहा है. इतना ही चंद्र ग्रहण के समय चंद्रमा पानी को अपनी ओर आकर्षित करता है, जिससे समुद्र में बड़ी -बड़ी लहरें काफी ऊचांई तक उठने लगती है. चंद्रमा को ग्रहण के समय अत्याधिक पीड़ा से गुजरना पड़ता है। इसी कारण से चंद्र ग्रहण के समय हवन, यज्ञ, और मंत्र जाप आदि किए जाते हैं।

पूर्ण चंद्रग्रहण 2025 में दिखेगा

संपूर्ण चंद्र ग्रहण 7 सितंबर 2025 में देखने को मिलेगा। वैसे सामान्यतः एक वर्ष में 4 ग्रहण लगते हैं। इसमें दो सूर्य ग्रहण और दो चंद्रग्रहण, लेकिन कभी-कभी इससे ज्यादा भी ग्रहण पड़ जाते हैं। 2024 में 3 चंद्रग्रहण और दो सूर्य ग्रहण लगेंगे। ऐसे ही 2027 में भी ग्रहण पड़ेंगे। 2029 हमारे लिए खास होगा, तब यहां 4 सूर्यग्रहण और दो चंद्रग्रहण देखने को मौका मिलेगा।

वर्ष 2020 के ग्रहण

- पहला ग्रहण : 10 जनवरी, चंद्र ग्रहण (लग चुका है)।

- दूसरा ग्रहण : 5 जून, च्रद्र ग्रहण (लग चुका है)।

- तीसरा ग्रहण : 21 जून, सूर्य ग्रहण (लग चुका है)।

- चौथा ग्रहण : 5 जुलाई को लगेगा, चंद्र ग्रहण।

- पांचवा ग्रहण : 30 नवंबर को लगेगा, चंद्र ग्रहण।

- छठा ग्रहण : 14 दिसंबर को लगेगा, सूर्य ग्रहण।

ग्रहण काल में इन स्‍थानों पर जाने से बचें

चंद्र ग्रहण प्रारंभ से 12 घंटे पहले ग्रहण का सूतक शुरू हो जाता है। इस दौरान पृथ्वी पर चंद्रमा का विशेष प्रभाव पड़ता है, इसलिए इस दौरान होने वाले दुष्प्रभाव से बचने की सलाह शास्त्रों में दी गई है। चंद्र ग्रहण के सूतक काल के दौरान शमशान घाट या ऐसी भूतहा जगह जैसे खंडहर या सूनसान मकान आदि से या उनके नजदीक से ना गुजरें, क्योंकि ऐसे समय बुर् प्रभाव वााली शक्तियां काफी ज्यादा सक्रिय होती है, जो आपको ऊपर खराब प्रभाव डाल सकती है और आपके प्रेतात्मा के शिकार होने की संभावना हो सकती है।

चंद्र ग्रहण के पहले और बाद में गर्भवती महिलाएं रखें ये सावधानियां

चंद्र ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं और इसके आसपास जन्मे शिशु को जन्‍म देने वाली महिलाओं को विशेष सावधानी बरतना चाहिए। मान्यता है कि चंद्र ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को घर से बाहर नहीं जाना चाहिए। इसके अलावा गर्भवती महिलाओं को कुछ विशेष बातों का खास ख्याल रखना चाहिए नहीं तो इस दौरान लापरवाही बरतने पर शिशु के स्वास्थ्य को नुकसान हो सकता है। मान्यता है कि चंद्र ग्रहण गर्भवती महिलाओं के लिए अशुभ प्रभाव वाला देने वाला होता है। इसलिए ग्रहण की अवधि में इनको घर में रहने की सलाह दी जाती है।चंद्र ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को सब्जी काटना, कपड़े सीना आदि कार्यों में धारदार उपकरणों का उपयोग करने से बचना चाहिए। इससे गर्भस्थ शिशु को शारीरिक दोष हो सकता है। ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को सोना, खाना पकाना, और सजना-संवरना नहीं चाहिए। ग्रहण के नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिए गर्भवती महिला को तुलसी का पत्ता जीभ पर रखकर हनुमान चालीसा और दुर्गा स्तुति का पाठ करना चाहिए। इस दौरान देव मंत्रों के उच्चारण से भी ग्रहण के दुष्प्रभाव से रक्षा होती है। ग्रहण की समाप्ति के बाद गर्भवती महिला को पवित्र जल से स्नान करना चाहिए नहीं तो उसके शिशु को त्वचा संबधी रोग होने की संभावना होती हैं। चंद्र ग्रहण के दौरान मानसिक रूप से मंत्र जाप का बड़ा महत्व है। गर्भवती महिलाएं इस दौरान मंत्र जाप कर अपनी रक्षा कर सकती है। इससे स्वयं के और गर्भस्थ शिशु के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर सकारात्मक और उत्तम असर पड़ता है।

क्या है उपच्छाया चंद्र ग्रहण

ग्रहण से पहले चंद्रमा, पृथ्वी की परछाईं में प्रवेश करता है, जिसे उपच्छाया कहते हैं। इसके बाद ही चंद्रमा पृथ्वी की वास्तविक छाया में प्रवेश करता है। जब चंद्रमा पृथ्वी की वास्तविक छाया में प्रवेश करता है, तब वास्तविक ग्रहण होता है। जब चंद्रमा पर पृथ्वी की छाया न पड़कर केवल उसकी उपछाया मात्र ही पड़ती है, तब उपच्छाया चंद्र ग्रहण होता है। इसमें चंद्रमा के आकार में कोई अंतर नहीं आता है। इसमें चंद्रमा पर एक धुंधली सी छाया नजर आती। लेकिन कई बार चंद्रमा धरती की वास्तविक छाया में जाए बिना, उसकी उपच्छाया से ही बाहर निकल आता है।

Posted By: Navodit Saktawat
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.