HamburgerMenuButton

Happy Ganesh Chaturthi 2020: गणेशजी को ये चीजें समर्पित करने से मिलती है सुख-समृद्धि, ऐसा काम करोगे तो हो जाएंगे नाराज

Updated: | Fri, 21 Aug 2020 12:46 PM (IST)

Happy Ganesh Chaturthi 2020: साल भर के इंतजार के बाद एक बार फिर गणपति बप्पा घर-घर पधारने की तैयारी में हैं। इस बार गणेश चतुर्थी 22 अगस्त, शनिवार को मनाई जाएगी। मान्यताओं के अनुसार भाद्र मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को गणेशजी का जन्म हुआ था, इस उपलक्ष्य में हर साल गणेश चतुर्थी का पर्व मनाया जाता है। गणेश चतुर्थी को विनायक चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है। 10 दिनों तक स्थापना के बाद अनंत चतुर्दशी के दिन गणेशजी को विर्सजित किया जाता है। भगवान गणेश को बुद्धि, समृद्धि और सौभाग्य का देवता माना जाता है। वे भक्तों के कष्टों का निवारण करते हैं।

यदि कोई भक्त श्री गणेश का श्रद्धा और भक्ति के साथ सिर्फ नाम भी ले लेता है तो उसकी मनोकामना अवश्य पूरी होती है। गणेशजी की विधिपूर्वक आराधना कर उनकी प्रिय वस्तुएं समर्पित करने से भक्तों को मनवांछित फल प्राप्त होता है। गणेशजी वैसे तो बहुत भोले माने जाते हैं लेकिन उनकी आराधना के दौरान भक्तों को कुछ सावधानियां बरतना चाहिए। गणपति बप्पा नाराज हो जाए, भक्तों को ऐसे काम बिल्कुल नहीं करना चाहिए।

बाईं सूंड वाले गणेशजी की करें स्थापना:

श्रीगणेश की पूजा में उनकी सूंड किस दिशा में है इसका भी बड़ा महत्व है। मान्यता है कि घर में बाईं सूंड वाले गणेशजी की स्थापना करना चाहिए। इस तरह के गणेशजी की स्थापना करने से वे शीघ्र प्रसन्न होते हैं, जबकि दाईं सूंड वाले गणेशजी देरी से प्रसन्न होते हैं। इसलिए गृहस्थों को बाईं सूंड वाले गणेशजी की उपासना करना चाहिए।

गणेशजी को समर्पित करना चाहिए ये चीजें:

मोदक: मोदक एक खास प्रकार की मिठाई है। यह गणेशजी को बहुत प्रिय है और इसका भोग लगाने से वे भक्तों की मनोकामना पूरी करते हैं।

हरी दुर्वा: हरी दुर्वा घास गणेशजी को बहुत पसंद है। ऐसी मान्यता है कि हरी दुर्वा उनको शीतलता प्रदान करती है।

बूंदी के लड्डू: बूंदी के लड्डू भी गणेशजी को अतिप्रिय है। बूंदी के लड्डू का भोग लगाने से गणपतिजी अपने भक्तों को धन-समृद्धि का वरदान देते हैं।

श्रीफल: गणेशजी को फलों में श्रीफल बहुत पसंद है, इसलिए गजानन की आराधना में श्रीफल समर्पित किया जाता है।

सिंदूर: गणेशजी को प्रसन्न करने के लिए सिंदूर का तिलक लगाया जाता है। गणपतिजी को सिंदूर का तिलक लगाने के बाद अपने माथे पर भी सिंदूर का तिलक लगाना चाहिए।

लाल फूल: श्रीगणेश को लाल फूल प्रिय है, इसलिए गणपति की पूजा के दौरान लाल फूल चढ़ाने का विधान है। मान्यता के अनुसार वे इससे जल्दी प्रसन्न होते हैं।

शमी की पत्ती: गणेश पूजा में शमी की पत्ती चढ़ाने से घर में धन एवं सुख की वृद्धि होती है।

व्रत के दौरान क्या खाएं और किन चीजों से करें परहेज:

गणेशोत्सव के दौरान कुछ लोग पूरे 10 दिनों तक व्रत भी रखते हैं, लेकिन अपनी सेहत का ध्यान नहीं रख पाने की वजह से उन्हें उल्टी, एसिडिटी और इनडाइजेशन की समस्या हो जाती है। व्रत के दौरान सुबह नाश्ते में मौसम्बी व संतरे का जूस पिएं या पपीता खाएं, इससे शरीर में दिनभर एनर्जी रहेगी। सुबह 7-8 के बीच हैवी फलाहार करें और रात को हल्का खाएं। व्रत में साबूदाने की खिचड़ी या आटे के हलवे की जगह कुट्टू का आटा, सिंघाड़े या राजगीरे के आटे की रोटी या पराठा खा सकते हैं। व्रत में तली हुई चीजें कम खाएं। इसके अलावा ज्यादा चाय या कॉफी पीने से बचें। व्रत के दौरान शुगर लेवल नीचे जाने या ब्लड प्रेशर कम होने की परेशानी हो सकती है, इसलिए थोड़ी-थोड़ी देर में कुछ न कुछ खाएं। यदि आपको क्रॉनिक किडनी डिजीज है तो सेंधा नमक खाने से बचें, क्योंकि पोटेशियम की वजह से यह नुकसानदायक हो सकता है।

ऐसे काम से गणेशजी हो जाएंगे नाराज:

गणेशजी की पीठ के दर्शन ना करें:

शास्त्रों के अनुसार श्रीगणेश के सबसे पहले दर्शन करने से सभी कार्य सिद्ध होते हैं और उनके शरीर पर ब्रह्माण्ड के सभी अंग निवास करते हैं, लेकिन शास्त्रों में गणेशजी की पीठ के दर्शन करने का निषेध बताया गया है। गणेशजी की पीठ में दरिद्रता का वास होता है, इसलिए गणपतिजी की पीठ के दर्शन नहीं करना चाहिए। यदि भूलवश पीठ के दर्शन हो गए हों तो गणेशजी से क्षमायाचना कर लेना चाहिए।

तुलसी का ना करे प्रयोग:

गणेशजी की पूजा में तुलसी दल का प्रयोग भूलकर भी नहीं करना चाहिए। तुलसी के प्रयोग से श्रीगणेशज नाराज हो जाते हैं। मान्यता है कि तुलसीजी श्रीगणेश से विवाह करना चाहती थी गणेशजी के इंकार करने पर तुलसीजी ने गणेशजी को श्राप दे दिया था। गणेशजी की पूजा के साथ पत्नी रिद्धि और सिद्धि और पुत्र शुभ और लाभ की पूजा करना चाहिए। पूजास्थल पर चूहे को भी स्थान देने से गणेशजी भक्तों पर प्रसन्न होते हैं।

पुरानी प्रतिमा को कर दें विसर्जित:

गणेश चतुर्थी को यदी घर में गणेश प्रतिमा की स्थापना कर रहे हैं तो पुरानी वाली प्रतिमा को विसर्जित कर दे। शास्त्रों के अनुसार घर में तीन गणेश प्रतिमा नहीं रखना चाहिए। ऐसी भी मान्यता है कि भाद्रपद मास की चतुर्थी को जिस प्रतिमा की स्थापना की जाती है उसका अनन्त चतुर्शी तक विसर्जन कर देना चाहिए।

Posted By: Kiran K Waikar
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.