शनैश्चरी अमावस्या, करें ये उपाय, मिटेगा पितृ दोष, दूर होगा दुर्भाग्य

Updated: | Sat, 04 Dec 2021 08:40 AM (IST)

Shani Amavasya 2021: 4 दिसंबर को मार्गशीर्ष माह के कृष्ण पक्ष के अंतिम दिन अमावस्या है। इस दिन शनिवार होने के कारण इसे शनैश्चरी अमावस्या या शनि अमावस्या भी कहा जाता है। ज्योतिष के हिसाब से ये दिन काफी अहम माना जाता है। इस दिन पूजा-पाठ और उपाय करने से लंबा चला आ रहा दुर्भाग्य भी सौभाग्य में बदल सकता है। शनि अमावस्या के दिन दान, स्नान और पूजा-पाठ आदि से पितरों को भी प्रसन्न किया जा सकता है। आम तौर पर पितृ दोष वाले लोगों के जीवन में उन्नति, तरक्की, सुख, शांति और संतान सुख नहीं होता। ऐसे में शनैश्चरी अमावस्या के दिन विधिपूर्वक उपाय करके कुंडली से पितृ दोष को भी समाप्त किया जा सकता है। आईये आपको बतायें कौन से उपायों से आपका दुर्भाग्य सौभाग्य में बदल सकता है।

1. मान्यता है कि पितृ दोष तब लगता है जब आप अपने पितरों का श्राद्ध कर्म नहीं करते। ऐसे में अगर आपने किसी कारणवश पितरों का श्राद्ध नहीं कर पाएं हों, तो शनि अमावस्या के दिन पितरों का श्राद्ध कर सकते हैं। इससे आपको पितृ दोष से मुक्ति मिल सकती है।

2. पितरों को प्रसन्न करने के लिए श्राद्ध कर्म, पिंडदान आदि के अलावा इस दिन ब्राह्मणों को भोजन कराएं। कुत्ते और कौआ को भोजन कराएं। कहा जाता है कि पक्षियों और पशुओं के माध्यम से ही भोजन पितरों तक पहुंचता है और वे प्रसन्न होकर वंशजों को आशीर्वाद देते हैं।

3. पितृ दोष से मुक्ति पाने के लिए शनि अमावस्या की शाम मंदिर के पास पीपल के पेड़ को गाय का दूध और जल मिलाकर अर्पित करें। फिर वहां एक सरसों के तेल का दीपक जलाएं।

4. शनैश्चरी अमावस्या के दिन पीपल के वृक्ष की पूजा करना विशेष फलदायी माना जाता है। इस दिन स्नान के बाद पीपल को जल चढ़ाएं, पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं और सात बार परिक्रमा करें। पीपल में देवताओं के अलावा पितरों का भी वास माना जाता है। ऐसे में सभी का आशीर्वाद प्राप्त हो जाता है।

5. अगर आप धन की समस्या से जूझ रहे हैं तो शनिश्चरी अमावस्या की रात बहते नदी के पानी में पांच लाल फूल और पांच जलते दिए छोड़ें, इससे धन लाभ होगा और धन संबंधी समस्याएं दूर होंगी।

6. कुंडली में शनिदोष हो तो शनि अमावस्या के दिन काले कुत्ते को सरसों के तेल से सेंका हुआ पराठा खिलाएं और म​छलियों को आटे की गोलियां बनाकर खिलाएं। इससे आपके सभी कष्ट दूर होंगे।

7. अगर जीवन में समस्याएं समाप्त नहीं हो रहीं, मेहनत के बावजूद भाग्य साथ नहीं देता और वो परिणाम नहीं मिलते जिसके आप हकदार हैं तो अमावस्या की रात मंदिर बंद होने से पहले एक घी का दीपक और पांच अगरबत्तियां वहां रखकर आएं। साथ ही भगवान से समस्या को समाप्त करने के लिए प्रार्थना करें।

8. जीवन में सौभाग्य लाने के लिए अपने हाथों से अमावस्या के दिन पीपल का पौधा लगाएं और उसकी नियमित रूप से देखभाल करें।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Shailendra Kumar