Vivah Panchami 2021: आठ दिसंबर को है विवाह पंचमी, जानिए शुभ मुहूर्त, महत्व और पूजा विधि

Updated: | Fri, 26 Nov 2021 10:23 PM (IST)

Vivah Panchami 2021: मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी को विवाह पंचमी के रूप में मनाया जाता है। शास्त्रों के अनुसार इस दिन का विशेष महत्व है। प्रथा है कि इस दिन पुरुषोत्तम श्रीराम का विवाह माता सीता से हुआ था। हर साल इस दिन को भगवान राम और मां सीता की शादी की सालगिरह के रूप में मनाया जाता है। इस साल विवाह पंचमी का शुभ दिन 8 दिसंबर बुधवार को है। इस दिन सीता-राम के मंदिरों में विशाल आयोजन होते हैं। भक्त पूजा, यज्ञ और अनुष्ठान करते हैं। कई स्थानों पर श्री रामचरितमानस का पाठ भी किया जाता है। मिथिलांचल और नेपाल में यह त्योहार बड़े उल्लास के साथ मनाया जाता है। आइए जानते हैं विवाह पंचमी का शुभ मुहूर्त, महत्व और पूजा विधि।

विवाह पंचमी शुभ मुहूर्त

- मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष तिथि आरंभ: 07 दिसंबर 2021 (रात 11 बजकर 40 मिनट से)

- मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष तिथि समाप्त: 08 दिसंबर 2021 (रात 09 बजकर 25 मिनट तक)

विवाह पंचमी का महत्व

यह दिन उन लोगों के लिए बहुत शुभ माना जाता है। जिनके विवाह में कोई बाधा आ रही है। ऐसे व्यक्तियों को विवाह पंचमी के दिन विधि विधान से भगवान श्रीराम और माता सीता की पूजा करनी चाहिए। इससे शादी में आ रही रुकावटें दूर होती हैं। साथ ही अच्छा जीवनसाथी प्राप्त करें। इतना ही नहीं अगर शादीशुदा लोग इस व्रत को रखते हैं, तो विवाह में होने वाली सभी परेशानियां दूर हो जाती है। विवाह पंचमी के दिन घर में रामचरितमानस का पाठ करने से घर में सुख-शांति बनी रहती है।

विवाह पंचमी पूजा विधि

इस दिन जातक सुबह जल्दी उठें, स्नान करें और पूजा के लिए साफ कपड़े पहनें। भगवान राम और माता सीता की मूर्ति स्थापित करें। प्रभु राम को पीले वस्त्र और माता सीता को लाल वस्त्र अर्पित करें। फिर तिलक करें, धूप करें और विधि-विधान से पूजा शुरू करें। साथ ही मिट्टी के दीये जलाएं और इससे अपने घर को सजाएं।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Shailendra Kumar