HamburgerMenuButton

Google ने कॉपीराइट का हवाला देते हुए ‘बोला इंडिया’ को play store से किया डिलीट

Updated: | Thu, 24 Jun 2021 09:42 AM (IST)

लोगों के मनोंरंजन को ध्यान में रखते हुए काफी सारे मोबाइल एप्प का निर्माण हो चुका है और हो रहा है। गूगल प्ले स्टोर पर ऐसे ही अनेकों एप्प मिल जाएंगे जिनकी मदद से आप खुद को इंटरटेन कर सकते हैं। ऐसा ही एक स्वदेशी सोशल मीडिया एप ‘बोलो इंडिया’ प्ले स्टोर पर मौजूद था। लेकिन अभी हाल ही में प्ले स्टोर ने उसे इस लिस्ट से बाहर कर दिया है। गूगल प्ले स्टोर ने संगीत कंपनी टी-सीरीज की कॉपीराइट उल्लंघन की शिकायत पर स्वदेशी सोशल मीडिया एप “बोलो इंडिया” को हटा दिया है।

जानकारी के लिए अपको बतादें कि काॅपीराइट अधिकार मामले में अधिकतर कंपनियों ने टी-सीरीज के साथ समझौता कर लिया है, जबकि बोलो इंडिया ने अभी तक म्यूजिक कंपनी के साथ कोई समझौता नहीं किया है। टी-सीरीज ब्रांड के तहत काम करने वाली कंपनी सुपर कैसेट्स इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड ने लगभग एक साल पहले सोशल मीडिया और वीडियो शेयरिंग प्लेटफाॅर्म कंपनी “बोलो इंडिया” को अपनी काॅपीराइट वाली सामग्रियां का उपयोग करने से होने वाले नुकसान के एवज में लगभग 3.5 करोड़ रूपये की मांग का नोटिस दिया था।

इस मामले को लेकर टी-सीरीज के अध्यक्ष नीरज कल्याण ने कहा कि ‘‘बोलो इंडिया इससे पहले भी कई बार ऐसी हरकत कर चुकी है। हमने उन्हें कई कानूनी नोटिस भेजे थे, लेकिन उन्होनें काॅपीराइट का उल्लंघन करना जारी रखा। इसलिए हमने गूगल से उपयुक्त कानूनों के अनुसार गूगल प्ले स्टोर से ‘बोलो इंडिया एप्प’ हटाने के लिए कहा”। नीरज कल्याण ने आगे कहा कि ‘हम काॅपीराइट उल्लंघनों को बहुत गंभीरता से लेते हैं। बोलो इंडिया या हमारे काॅपीराइट का उल्लंघन करने वाले किसी भी प्लेटफाॅर्म के खिलाफ कठोर कानूनी कार्रवाई करने से नहीं कतराएंगे।”

प्रवक्ता ने कहा कि ‘हम हमेशा पारिस्थितिकी तंत्र के साथ समन्वय और सभी कानूनों का पालन करते हुए काम करेगें। हम इस मुद्दे को जल्द से जल्द हल करने के लिए टी-सीरीज और गूगल के साथ बातचीत कर रहे हैं। बोलो इंडिया अस्थाई तौर पर हटाया गया है यह बहुत ही जलद प्लेटफाॅर्म पर वापिस आएगा। बतादें कि बोलो इंडिया के भारत में कुल 70 लाख उपभोक्ता हैं।

Posted By: Arvind Dubey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.