HamburgerMenuButton

PUBG Banned in India: बैन हुआ पबजी, तो चिंता नहीं, ऑनलाइन खेलें ये 5 Battle Royale Games

Updated: | Wed, 14 Oct 2020 07:47 AM (IST)

PUBG Banned in India: भारत सरकार ने चीन पर एक और प्रहार करते हुए 118 चीनी मोबाइल ऐप्स बैन कर दिए। जिन ऐप्स पर पाबंदी लगाई गई है, उनमें सबसे बड़ा नाम PUBG है। भारत में इस मोबाइल गेम्स के करोड़ों दिवाने हैं। बैन लगने के बाद ये लोग दुखी हैं और मांग कर रहे हैं कि PUBG का विकल्प भी कुछ होना चाहिए। कहा जा रहा है कि कोई देसी गेम बनाया जाना चाहिए। यहां हम ऐसे पांच Battle Royale Games के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें खेलकर लोग PUBG की कमी पूरी कर सकते हैं। जानिए कौन-से हैं ये गेम्स

Call of Duty: कई लोगों का पसंदीदा, कॉल ऑफ ड्यूटी का मोबाइल संस्करण केवल पिछले अक्टूबर में लॉन्च हुआ, और तब से यह PUBG को टक्कर दे रहा है। रिपोर्टों के अनुसार, Call of Duty को जून 2020 तक 250 मिलियन डाउनलोड के साथ $ 327 मिलियन की कमाई की थी। PUBG मोबाइल की तरह यहां भी 100 खिलाड़ी बंदूकों के साथ एक परिचित युद्ध के मैदान में कूदते हैं।

Battlelands Royale: यह गेम आईओएस और एंड्रॉइड पर खेला जा सकता है और अन्य बैटल रॉयल्स के समान फॉर्मूले पर काम करता है, लेकिन थोड़े से मोड़ के साथ। एक समय में कुल 32 खिलाड़ी रियल टाइम लड़ाइयों में भाग ले सकते हैं, जो 3-5 मिनट लंबे होते हैं।

Garena Free Fire: यह गेम iOS और Android पर मुफ्त में खेला जा सकता है, हालांकि, यह अभी भी PUBG जितना लोकप्रिय नहीं है। इसमें 10 मिनट के लंबे खेल होते हैं जहां खिलाड़ियों को एक दूरस्थ द्वीप पर जीवित रहने के लिए 49 खिलाड़ियों के खिलाफ लड़ना पड़ता है। यहां खिलाड़ी अपनी प्रारंभिक स्थिति चुनते हैंं, साथ ही हथियार और अन्य साजो-सामान लेने के लिए भी स्वतंत्र हैं।

Black Survival: इस खेल में 20 मिनट तक जीवित रहने की लड़ाई होती है जिसमें 10 खिलाड़ी एक निर्जन द्वीप पर उतरते हैं और जीवित रहने के लिए लड़ते हैं। द्वीप को 22 क्षेत्रों में विभाजित किया गया है; यहां अस्पताल, वन, समुद्र तट है। जैसे-जैसे गम आगे बढ़ता है, ये स्थान प्रतिबंधित क्षेत्रों में बदल जाते हैं।

Fortnite: मोबाइल, पीसी, प्लेस्टेशन 4, एक्सबॉक्स वन और निनटेंडो स्विच पर उपलब्ध फोर्टनाइट दुनिया का सबसे बड़ा युद्ध-रोयाल खेल है। खेल के आधार में 100 खिलाड़ियों को एक युद्ध के मैदान में कूदना पड़ता है ताकि वह लड़ सकें और अंतिम खिलाड़ी जीत जाता है। सबसे बड़ा लाभ यह है कि PUBG मोबाइल से उल्ट यह स्मार्टफोन पर क्रॉस-प्लेटफॉर्म की सुविधा देता है।

अब तक नजर आ रहे पबजी बंद बंद होने के साइड इफेक्ट

पबजी (प्लेयर्स अननोन्स बेटल ग्राउंड) गेम पर केंद्र सरकार द्वारा प्रतिबंध का असर अब तक नजर आ रहा है। गेम की लत वाले बच्चे बेचैन हो रहे हैं। गुस्सैल और हिंसात्मक प्रवृत्ति के होते जा रहे हैं। उनके रहन-सहन में परिवर्तन आ गया है, पढ़ाई में भी ध्यान नहीं दे रहे हैं। इससे चिंतित कई अभिभावक काउंसलर और मनोचिकित्सक की मदद ले रहे हैं। काउंसलर के पास रोजाना लगभग 10 फोन आ रहे हैं, जिनमें बच्चों के बदलते रवैये पर अभिभावक चिंता जाहिर कर रहे हैं। हालांकि पबजी गेम के बंद होने से अभिभावक खुश हैं, लेकिन बच्चों-युवाओं के बदले व्यवहार से परेशान हैं।

बता दें, केंद्र सरकार ने बीते दिनों पबजी समेत चीन के 118 एप्स पर पाबंदी का फैसला लिया था। हालांकि इसके बाद निरंकुश चीनी नेतृत्व और उसकी शरारती सेना अपनी हरकतों से बाज आएगी, इस बारे में कुछ कहना कठिन है। भारत इसके पहले भी चीन के सौ से अधिक एप्स को प्रतिबंधित कर चुका है। इसके बावजूद उसकी सेना लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर छेडछाड़ करने में लगी हुई है। चीनी सेना किस तरह बेलगाम होकर बेहूदगी पर आमादा है, इसका पता इससे चलता है कि बीते दिनों उसने उस वक्त सीमा रेखा का अतिक्रमण करने की कोशिश की, जिस समय दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों के बीच बातचीत हो रही थी। स्पष्ट है कि चीन आसानी से मानने वाला नहीं है। उसे सख्त संदेश देने के लिए यह आवश्यक है कि आर्थिक मोर्चे पर उसके खिलाफ ऐसे बड़े फैसले लिए जाएं जो उसकी अर्थव्यवस्था को तगड़ा नुकसान पहुंचाएं। बेहतर होगा कि हुआवे सरीखी बदनाम चीनी कंपनियों पर प्रतिबंध लगाने में और देर न की जाए।

MS Dhoni को PUBG को कहना पड़ था अलविदा

MS Dhoni अभी आईपीएल खेल रहे हैं, इससे पहले उन्होंने एक साल से कोई क्रिकेट मैच नहीं खेला था, इसके बावजूद वे सदा सुर्खियों में बने रहते थे। इस एक साल के दौरान कई बार उनके संन्यास की अटकलें लगाई जाती रही थीं। MS Dhoni अब यूएई में होने जा रहे IPL 2020 के दौरान मैदान पर वापसी कर चुके हैं। MS Dhoni भले ही क्रिकेट से संन्यास नहीं ले रहे हैं, लेकिन उन्हें अपने पसंदीदा गेम PUBG को अलविदा कहना पड़ा है।

Posted By: Arvind Dubey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.