HamburgerMenuButton

ekbharat.gov.in, जानिए उस वेबसाइट के बारे में जिनका जिक्र पीएम मोदी ने मन की बात में किया

Updated: | Mon, 26 Oct 2020 02:05 PM (IST)

ekbharat.gov.in वेबसाइट का जिक्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने 'मन की बात' कार्यक्रम में किया। पीएम मोदी ने कहा, 'मैं आप सबसे एक वेबसाइट देखने का आग्रह करता हूं- https://ekbharat.gov.in. इसमें National integration की हमारी मुहिम को आगे बढ़ाने के कई प्रयास दिखाई देंगे। इसका एक दिलचस्प कॉर्नर है आज का वाक्य। इस सेक्शन में हम रोज एक वाक्य को अलग अलग भाषाओं में बोलते हैं, यह सीख सकते हैं।' ekbharat.gov.in का मूल है, एक भारत श्रेष्ठ भारत। एक भारत श्रेष्ठ भारत कार्यक्रम का उद्देश्य राज्य / संघ राज्य क्षेत्र की अवधारणा के माध्यम से विभिन्न राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों के लोगों के बीच बातचीत को बढ़ावा देना और पारस्परिक समझ को बढ़ावा देना है। भाषा सीखने, संस्कृति, परंपराओं, संगीत, पर्यटन, भोजन, खेल और सर्वोत्तम प्रथाओं के साझाकरण आदि के क्षेत्रों में एक निरंतर और संरचित सांस्कृतिक संपर्क को बढ़ावा देने के लिए राज्य गतिविधियां करते हैं।

पीएम ने कहा, जरा उस लौह पुरुष की छवि की कल्पना कीजिए जो राजे-रजवाड़ों से बात कर रहे थे, पूज्य बापू के जन-आंदोलन का प्रबंधन कर रहे थे, साथ ही अंग्रेजों से लड़ाई भी लड़ रहे थे।

इन सब के बीच भी उनका sense of humour पूरे रंग में होता था। बापू ने सरदार पटेल के बारे में कहा था- उनकी विनोदपूर्ण बातें मुझे इतना हंसाती थी कि हंसते-हंसते पेट में बल पड़ जाते थे। इसमें, हमारे लिए भी एक सीख है, परिस्थितियां कितनी भी विषम क्यों न हों, अपने sense of humour को जिंदा रखिये। सरदार पटेल ने अपना पूरा जीवन देश की एकजुटता के लिए समर्पित कर दिया। उन्होंने आजादी के साथ किसानों के मुद्दों को जोड़ने का काम किया। उन्होंने राजे-रजवाड़ों को हमारे राष्ट्र के साथ एक करने का काम किया। वे विविधता में एकता के मंत्र को हर भारतीय के मन में जगा रहे थे।

केरल में जन्मे पूज्य आदि शंकराचार्य जी ने, भारत की चारों दिशाओं में चार महत्वपूर्ण मठों की स्थापना की- उत्तर में बद्रिकाश्रम, पूर्व में पूरी, दक्षिण में श्रृंगेरी और पश्चिम में द्वारका। उन्होंने श्रीनगर की यात्रा भी की, यही कारण है कि वहां एक Shankaracharya Hill है। तीर्थाटन अपने आप में भारत को एक सूत्र में पिरोता है।

ज्योर्तिलिंगों और शक्तिपीठों की श्रृंखता भारत को एक सूत्र में बांधती है। त्रिपुरा से लेकर गुजरात तक जम्मू-कश्मीर से लेकर तमिलनाडु तक स्थापित हमारे आस्था के केंद्र हमें एक करते हैं। हमारे सिख गुरुओं ने भी अपने जीवन और सद्कार्यों के माध्यम से एकता की भावना को प्रगाढ़ किया है। पिछली शताब्दी में हमारे देश में डॉ. बाबा साहब अम्बेडकर जैसी महान विभूतियां रही हैं, जिन्होंने हम सभी को संविधान के माध्यम से एकजुट किया।

मन की बात कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कहा, लॉकडाउन के दौरान टेक्नोलॉजी बेस सर्विस डिलीवरी के कई प्रयोग देश में हुए हैं। झारखंड की महिलाओं ने किसानों के खेतों से सब्जियां और फल लिए और सीधे घरों तक पहुंचाए। इन महिलाओं ने 'आजीविका farm fresh' नाम से एक ऐप बनवाया जिसके जरिए लोग आसानी से सब्जियां मंगा सकते थे।

Posted By: Arvind Dubey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.