SIM Card New Rule : नया सिम कार्ड खरीदने जा रहे हैं तो सरकार के इस नए नियम के बारे में जान लें

Updated: | Mon, 20 Sep 2021 04:45 PM (IST)

अब, मोबाइल फोन कनेक्शन लेने या इसे प्री-पेड से पोस्टपेड या इसके विपरीत में बदलने की प्रक्रिया को सरकार द्वारा आसान बना दिया गया है। यूजर्स केवाईसी से जुड़े सभी काम घर बैठे ऑनलाइन मोड के जरिए कर सकेंगे। इसका मतलब है कि उन्हें नया सिम या एमएनपी (मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी) खरीदने के लिए भौतिक केवाईसी की आवश्यकता नहीं होगी। पूरी प्रक्रिया को डिजिटल बना दिया गया है जिसके लिए किसी भौतिक उपस्थिति की आवश्यकता नहीं है। केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा दूरसंचार क्षेत्रों में प्रक्रियाओं में बड़े सुधारों को मंजूरी देने के साथ, मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं की सुविधा के लिए कई बदलाव किए गए हैं। दूरसंचार मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कैबिनेट बैठक के बाद कहा, "नया सिम या एमएनपी हासिल करते समय सभी प्रक्रियाएं डिजिटल होंगी। कोई भौतिक केवाईसी नहीं होगा। यहां जानिये नए नियमों के बारे में।

सिर्फ 1 रुपए में हो जाएगा पूरा काम

नए नियम के अनुसार, उपयोगकर्ता स्वयं COVID के बीच भौतिक उपस्थिति की चिंता किए बिना ऑनलाइन मोड के माध्यम से केवाईसी भरने में सक्षम होंगे। पूरी प्रक्रिया को एप आधारित बनाया गया है। दिलचस्प बात यह है कि यूजर्स को ऑनलाइन या ई-केवाईसी के लिए सिर्फ 1 रुपये का भुगतान करना होगा। उन्हें प्री-पेड से पोस्ट-पेड या इसके विपरीत कनेक्शन में बदलने के लिए नए केवाईसी की आवश्यकता नहीं होगी। पहले ऐसा करना अनिवार्य था।

डिजिटल इंडिया में कागजी कार्रवाई की कोई आवश्यकता नहीं

वैष्णव ने कहा, स्व-केवाईसी (ऐप-आधारित) की अनुमति है और ई-केवाईसी दर को केवल 1 रुपये में संशोधित किया गया है। हम सभी के पास मोबाइल कनेक्शन हैं और जो भी कनेक्शन है, हमने कुछ फॉर्म भरे हैं। ये सभी फॉर्म गोदामों में जमा हैं और गोदामों में 300-400 करोड़ फॉर्म हैं। डिजिटल इंडिया में, इस कागजी कार्रवाई की कोई आवश्यकता नहीं है। दूरसंचार क्षेत्रों में प्रक्रियाओं को डिजिटल बनाने के लिए बिना किसी कागजी कार्रवाई की आवश्यकता के निर्णय लिया गया है। दूरसंचार क्षेत्र में COVID-19 चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए भी यह कदम उठाया गया है।

Posted By: Navodit Saktawat