HamburgerMenuButton

US: राष्ट्रपति बनते ही एक्शन मोड में जो बाइडेन, मुस्लिम ट्रैवल बैन से WHO तक लिए ये बड़े फैसले

Updated: | Thu, 21 Jan 2021 10:00 AM (IST)

अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बाइडेन कुर्सी संभालते ही एक्शन मोड में आ गए हैं। बुधवार को शपथ ग्रहण के बाद उन्होंने डोनाल्ड ट्रंप के कई फैसलों को पलटने के साथ कई बड़े फैसले लिए। बाइडेन ने पहले दिन कई फैसलों पर हस्ताक्षर कर दिए। जिनमें वह पेरिस जलवायु समझौते से जुड़ेंगे। बाइडेन ने इसके अलावा कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए फैसले पर भी हस्ताक्षर किए। उन्होंने मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग को देश में अनिवार्य कर दिया है। राष्ट्रपति बाइडेन ने ट्रंप के फैसले के पलटते हुए अमेरिका में मुस्लिम ट्रैवल बैन को भी हटा दिया। बता दे यूएस पूर्व राष्ट्रपति ने कुछ मुस्लिम देशों और अफ्रीकी देशों के नागरिकों पर रोक लगा दी थी। वहीं जो ने मैक्सिको बॉर्डर पर दीवार बनाने के डोनाल्ड ट्रंप के फैसले को भी पलट दिया और फंडिंग रोक दी।

इसके अलावा अमेरिकी प्रेसिडेंट ने कीस्टोन पाइपलाइन के विस्तार पर भी रोक लगा दी है। कीस्टोन एक तेल पाइपलाइन है जो कच्चे तेल को अल्बर्टो के कनाडाई प्रांत से इलिनोइस, ओक्लाहोमा और टेक्सास ले जाती है। चुनाव के वक्त बाइडन ने कीस्टोन एक्सएल पाइपलाइन का जिक्र भी किया था। उन्होंने कहा था कि टार सैंड्स की अमेरिका को जरूरत नहीं है। वहीं बाइडेन ने विश्व स्वास्थ्य संगठन में दोबारा शामिल होने का भी फैसला लिया है।

राष्ट्रपति जो बाइडेन के पहले भाषण के कुछ अंश

वहीं जो बाइडेन ने अपने परिवारिक बाइबल को हाथ में रखकर राष्ट्रपति पद की शपथ ली। देश को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आज हम जीत का जश्न मनाएं, यह एक उम्मीदवार की जीत नहीं बल्कि लोकतंत्र की जीत है। देश में कोरोना, असमानता और नस्लवाद का संकट आया, लेकिन हमनें एक साथ इसका सामना किया। उन्होंने कहा, हमने जाना है कि लोकतंत्र बहुमूल्य होता है। कुछ दिन पहले हिंसा भड़ाकर संसद भवन की नीव को नुकसान पहुंचाया गया। अब हम एक देश के रूप में साथ आए हैं। बाइडेन ने कहा कि अमेरिका एक महान देश है, सदियों से हम हर मुश्किलों से लड़ते हुए आगे बढ़े हैं। हमें अभी काफी आगे जाना हैं, हमें तेजी से काम करना है, बहुत कुछ बनाना और हासिस भी करना है। बाइडेन ने अपने भाषण में कमा हैरिस का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि श्वेत श्रेष्ठता जैसी संकीर्ण सोच की अब नए अमेरिका में कोई जगह नहीं है।

Posted By: Arvind Dubey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.