कहीं आपके घर डोलोमाइट मिला आटा

तो नहीं आ रहा, जांच की तैयारी

सेहत का ख्याल : त्योहारों के मद्देनजर खाद्य विभाग लेगा विभिन्न प्रतिष्ठनों से नमूने

- मावे-घी सहित अन्य पदार्थों में भी मिलावट की जांच की जाएगी

आलीराजपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

त्योहारी सीजन में खाद्य पदार्थों की बिक्री बढ़ जाती है। ऐसे में मिलावट की आशंका भी होती है। इसी के मद्देनजर खाद्य विभाग विभिन्न प्रतिष्ठानों से सैंपल लेने का अभियान चलाने जा रहा है। जिले में बड़ा सवाल इस बात को लेकर भी उठता रहा है कि यहां आटे में डोलोमाइट पावडर की मिलावट होती है। विभाग इस बात को ध्यान में रख विभिन्न ब्रांडों के आटे के नमूने भी लेगा।

लोग त्योहार पर जमकर खरीदारी करते हैं। जिले में दीपावली के दौरान करीब 80 से 90 क्विंटल मिठाई और 10 से 15 क्विंटल नमकीन 15 से 20 दिनों में बिक जाता है। इसके अलावा अन्य खाद्य पदार्थों की भी जमकर बिक्री होती है। साथ ही अधिकांश घरों में विशेष तौर पर बाजार से कच्चा माल लाकर कई तरह के पकवान भी तैयार कि ए जाते हैं। बिक्री बढ़ने पर मिलावट की आशंका भी रहती है।

अन्य जिलों से होता है सारा खेल

जिले में दुग्ध सहित अन्य पदार्थों का उत्पादन नाम मात्र का होता है। मावे से बनने वाली मिठाइयों सहित अन्य अधिकांश खाद्य पदार्थ रतलाम, कु क्षी, सरदारपुर, राजगढ़, धार, इंदौर, बड़ौदा और दाहोद से आता है। जानकार बताते हैं कि इसमें कु छ मात्रा में अच्छा माल आ पाता है, बाकी का माल नकली या मिलावटी रहने का अंदेशा ज्यादा रहता है। गत वर्ष भी कु क्षी सहित धार जिले के अन्य कस्बों व गांवों में नकली व मिलावटी खाद्य पदार्थ की पुष्टि हो चुकी है। ऐसे में जिले में आने वाले मावे में मिलावट होने का अंदेशा ज्यादा रहता है। वैसे तो पूरे साल रतलाम से अधिकतम मात्रा में मावा आता है, परंतु त्योहारों के दौरान खपत ज्यादा होने से अन्य स्थानों से मावा आता है जो कि गुणवत्ताहीन होता है।

आटे में डोलोमाइट पावडर की मिलावट

बाजार से जुड़े सूत्र बताते हैं कि जिले में लंबे समय से कु छ आटा मिलों से आने वाले आटे में डोलोमाइट पावडर की मिलावट धड़ल्ले से हो रही है। यह पावडर शरीर के लिए काफी नुकसानदायक होता है। ज्ञात हो कि सफे द पत्थरों को पीसकर डोलोमाइट पावडर बनाया जाता है।

नकली घी भी बिक रहा धड़ल्ले से

जिले में नकली घी की बिक्री भी धड़ल्ले से हो रही है। विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में नकली घी का धंधा जोरों पर है। शुद्ध घी के नाम बिकने वाले नकली घी का लोगों के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है।

बॉक्स ...

स्वास्थ्य मंत्री कह चुके मिलावट करने वालों को सलाखों के पीछे भेजेंगे

प्रदेश में बीते दिनों खाद्य पदार्थों में मिलावट को लेकर बड़ा अभियान चलाया गया था। ऐसा करने वाले कई व्यापारियों पर कड़ी कार्रवाई की गई थी। उस समय सूबे के स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा था कि प्रदेश में मिलावट करने वाले कि सी को भी नहीं बख्शा जाएगा। ऐसा करने वालों को सलाखों के पीछे भेजा जाएगा। लोगों की सेहत से खिलवाड़ कि सी भी सूरत में सरकार को बर्दाश्त नहीं। हालांकि उस समय भी जिले में जांच का बड़ा अभियान नहीं चलाया जा सका था।

त्योहार को दृष्टिगत रखते हुए विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों के सैंपल लेने की कार्रवाई आगामी दिनों में शुरू की जाएगी। सैंपल को जांच के लिए प्रयोगशाला में भेजा जाएगा। अगर खाद्य पदार्थ अमानक निकला तो संबंधित व्यापारी के खिलाफ खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी।

- डीएस जादौन, खाद्य सुरक्षा अधिकारी, आलीराजपुर