Alirajpur News: आंबुआ। क्षेत्र सहित जिलेभर के गांवों में कथित निजी कंपनी के कर्मचारी पैन कार्ड बनाने के नाम पर दस्तावेज और फोटो लेकर ग्रामीणों से 160 रुपये वसूल रहे हैं। इसकी जानकारी जब क्षेत्र के सरपंचों को लगी तो उन्होंने कार्ड बनाकर देने का दावा करने वालों से पूछताछ की। इसमें शंका होने पर कथित कर्मचारियों को पुलिस को सौंप दिया गया। पुलिस गुरुवार देर शाम सभी को थाने लेकर आई। यहां सरपंचों की शिकायत के आधार पर कर्मचारियों के पास मिले दस्तावेजों के आधार पर जांच की जा रही है।

पैन कार्ड के नाम पर फर्जीवाड़ा

ग्राम पंचायत टेमाची, छोटा इटारा, बोरझाड़, बड़ी हीरापुर आदि के गांव-फलियों में बीते कुछ दिनों से खुद को भोपाल की निजी कंपनी के कर्मचारी बता रहे 35 से अधिक लोग घूम रहे थे। सभी ग्रामीणों के घर-घर जाकर पेन कार्ड बनाने के नाम पर दस्तावेज, फोटो और 160 रुपये ले रहे थे। इसकी जानकारी संबंधित ग्राम पंचायतों के सरपंचों को लगी तो उन्होंने उक्त लोगों से पूछताछ की। जानकारी लेने पर शंका हुई तो आंबुआ पुलिस को सूचना दी गई। इस पर थाना प्रभारी दिलीप चंदेल तत्काल टीम लेकर पहुंचे तथा संबंधित लोगों को थाने लेकर आए। यहां देर शाम तक पुलिस जांच में जुटी थी। खुद को कंपनी कर्मचारी बता रहे लोगों ने पुलिस को कुछ दस्तावेज भी दिए हैं, जिसमें पेन कार्ड बनाने की अनुमति होने का दावा है। हालांकि पुलिस जांच पूरी होने के बाद ही कुछ भी कहने की बात कह रही है। मामले में सरपंचों को पुलिस को शिकायती आवेदन दिया है।

कंपनी पहले ही बंद कर चुकी है काम

छोटा इटारा के सरपंच भूपेंद्र सिंह रावत ने बताया कि कथित रूप से पेन कार्ड बनाने वाले खुद को भोपाल की कंपनी के कर्मचारी बता रहे थे। उनका दावा था कि उनके पास पेन कार्ड बनाने की परमिशन है। हालांकि जब भोपाल के बताए गए पते पर फोन किया तो बताया गया कि उक्त कंपनी एक माह पहले ही पेन कार्ड बनाने का काम कर चुकी है। इससे ठगी की आशंका और अधिक प्रबल हुई है। अगर इनके पास पेन कार्ड बनाने की अनुमति थी तो सबसे पहले ग्राम पंचायत को सूचना देनी थी। हालांकि पंचायतों को इस बारे में कुछ भी नहीं बताया गया।

मामले की जांच कर रही है पुलिस

मामले में थाना प्रभारी दिलीप चंदेल ने बताया कि सरपंचों ने इस मामले को लेकर शिकायती आवेदन दिए हैं। इनके आधार पर जांच की जा रही है। उक्त कर्मी खुद को जिस कंपनी का कर्मचारी बता रहे हैं, वहां भी संपर्क साधा जा रहा है। जांच में सबकुछ साफ हो जाएगा। अगर जांच में धोखाधड़ी सामने आई तो प्रकरण दर्ज किया जाएगा। जांच के बाद ही साफतौर पर कुछ भी कहा जा सकेगा।

Gwalior Crime News: पीएमटी कांड में साल्वर को चार साल की सजा

Shivpuri News: जन्मदिन समारोह से पहले घर के पास लगाया बम, फोन पर कहा-सरप्राइज देंगे

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close